10 हजार ‘बड़े गुरुजी’ ने अटकाया बच्चों का भविष्य

सीकर. लाखों युवाओं को सरकारी नौकरी देने का वादा कर सत्ता में आई भाजपा के राज में सरकारी विद्यालय व्याख्याताओं व अध्यापकों को तरस रहे हैं।

By: Vinod Chauhan

Published: 24 Jul 2018, 02:26 PM IST



राजेश शर्मा
सीकर. लाखों युवाओं को सरकारी नौकरी देने का वादा कर सत्ता में आई भाजपा के राज में सरकारी विद्यालय व्याख्याताओं व अध्यापकों को तरस रहे हैं। समय पर भर्ती नहीं होने से विद्यार्थियों की पढ़ाई बाधित हो रही है। हाल ऐसे हैं कि पूरे राज्य में ‘बड़े गुरूजी’ यानी उच्च माध्यमिक स्कूल के लिए व्याख्याताओं के 10 हजार से ज्यादा पद खाली हैं।
समस्या केवल शिक्षकों की ही नहीं है। सरकारी स्कूलों की निगरानी और जांच करने वाले अधिकारियों तक के पद शिक्षा विभाग में खाली चल रहे हैं।

गांवों में हालात ज्यादा खराब
शहरी विद्यालयों में तो फिर भी पद ज्यादा खाली नहीं है, ग्रामीण क्षेत्र के विद्यालयों में तो हाल और भी खराब हैं। यहां महत्वपूर्ण विषयों के पद खाली चल रहे हैं। विद्यार्थियों को जुगाड़ कर के शिक्षा दी जा रही है। कहीं तृतीय श्रेणी के शिक्षक व्याख्याता का काम कर रहे हैं तो कहीं विद्यार्थियों को खुद ही पुस्तकें पढऩी पड़ रही है। कई विद्यालय तो ऐसे हैं जहां विद्यार्थी नियमित होकर भी खुद को स्वयंपाठी जैसा महसूस कर रहे हैं।

सबसे ज्यादा पद गणित, विज्ञान, अंग्रेजी और भूगोल के खाली हैं। जबकि कला संकाय लेने वाले अधिकतर विद्यार्थी भूगोल ज्यादा लेते हैं। चिकित्सक और अभियंता बनने का लक्ष्य लेकर पढ़ाई करने वाले विद्यार्थियों की पहली पसंद विज्ञान और गणित है।
जबकि दोनों ही विषयों के अधिकतर पद खाली चल रहे हैं। बतादें कि इन सबका खुलासा आरटीआइ एक्टिविस्ट एसोसिएशन के राष्ट्रीय महासचिव एवं एडवोकेट सद्दान हुसैन की ओर से सूचना का अधिकार अधिनियम के तहत मांगी गई जानकारी में हुआ है।


यूं समझें शिक्षकों का गणित

विषय स्वीकृत पद रिक्त
हिन्दी 12472 2001
अंग्रेजी 4107 577
भौतिक 2204 534
रसायन 2319 355
बायो 1798 369
गणित 1144 400
कृषि वि 435 412
कॉमर्स 2823 521
इको. 899 239
राज. वि 8459 1688
सं. सा. 1631 369
इतिहास 6751 1327
भूगोल 5615 2314
उर्दू सा. 433 87
सिंधी सा. 13 00
गुजराती सा 1 1
पंजाबी 66 39
राजस्थानी 59 12
म्यूजिक 47 25
ड्राइंग 438 207
गृहवि. 520 166
समाजशास्त्र 213 111
फिलोस्फी 2 1
लोकप्रशासन 42 30

स्कूल एक नजर
3807 माध्यमिक स्कूल
9744 उमा स्कूल
522 बालिका मा.स्कूल
659 बालिका उमा स्कूल
(30 सितम्बर 2017 के अनुसार)

अधिकारी भी पूरे नहीं
पद स्वीकृत रिक्त
संयुक्त निदेशक 5 2
उप निदेशक/ समकक्ष 19 3
डीइओ/समकक्ष 53 4
प्रधानाचार्य/समकक्ष 9905 1195
प्रधानाध्यापक/समकक्ष 4025 921
व्याख्याता/ समकक्ष 49125 10172
व. अध्यापक 69673 17367
वरिष्ठ शा. शिक्षक 3374 461
संस्थापन अधिकारी 12 10
प्रशासनिक अधिकारी 40 38
(एक मई 2018 के अनुसार )

Vinod Chauhan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned