राजस्थान में युवाओं के उत्साह के आगे नहीं टिक रहा टीका, 3.41 लाख डोज मिलने से अब जगी आस

प्रदेश में युवाओं के उत्साह के आगे कोरोना को हराने वाला टीका खुद हार गया है। वैक्सीन की कमी की वजह से अधिकतर जिलों में युवाओं का वैक्सीनेशन नहीं हो पा रहा है।

By: Sachin

Updated: 09 May 2021, 10:23 AM IST

सीकर. प्रदेश में युवाओं के उत्साह के आगे कोरोना को हराने वाला टीका खुद हार गया है। वैक्सीन की कमी की वजह से अधिकतर जिलों में युवाओं का वैक्सीनेशन नहीं हो पा रहा है। केन्द्र व राज्य की सियासत का खामियाजा प्रदेश के युवाओं को भुगतनाा पड़ रहा है। प्रदेश के 13 से अधिक जिलों में तो युवा शक्ति का वैक्सीनेशन शुरू ही नहीं हो सका है। हालांकि शनिवार देर शाम चिकित्सा विभाग ने 3.41 लाख डोज का आवंटन कर दिया। ऐसे में आगामी दिनों में सभी जिलों में युवाओं केटीकाकरण की आस जगी है। इस बार सीकर सहित पांच जिलों का कोटा बढ़ाया गया है, लेकिन कई जिलों में युवाओं के पंजीयन के हिसाब से डोज नहीं मिलने से अगले तीन-चार दिनों में फिर टीके का टोटा रहने की संभावना है।

टीके का गणित
प्रदेश में प्रथम डोज लगी: 1,12,98,842

दूसरी डोज लगी: 25,43,148
कुल डोज लगी: 1,38,41,990


चूरू, झुंझुनूं सहित 13 जिलों में वैक्सीनेशन का इंतजार

चूरू, झुंझुनूं, करौली, सिरोही, बारां, जैसलमेर, प्रतापगढ़, चित्तौडगढ़, बूंदी, झालावाड़, सवाईमाधोपुर, राजसमंद, बाड़मेर सहित कई जिलों में युवाओं के वैक्सीनेशन का काम शुरू नहीं हुआ है। यहां के जनप्रतिनिधियों के साथ युवाओं की ओर से लगातार वैक्सीन की मांग की जा रही है, लेकिन सरकार वैक्सीजन उपलब्ध नहीं करवा पा रही है।


युवाओं की डोज : कहां क्या हालात
सीकर: दो दिन से नहीं लग रही वैक्सीन
पीसीसी चीफ गोविन्द सिंह डोटासरा के गृह जिले सीकर को भी पहली खेप में सरकार पर्याप्त डोज उपलब्ध नहीं करवा पा रही है। दो दिन मंत्री के प्रयासों से लगभग नौ हजार डोज मिले। लेकिन दो दिन से वैक्सीन नहीं आने की वजह से युवाओं के टीका लगाना ही बंद कर दिया। मंत्री ने दावा किया कि रविवार सुबह तक सीकर जिले को 15 हजार डोज और मिल जाएंगे।


जोधपुर: सीएम के गृह जिले में भी टोटा

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के गृह जिले जोधपुर में भी टीके का टोटा है। जोधपुर में 30 साइट पर 6 दिन टीकाकरण हुआ। यहां 20 हजार डोज भेजे गए थे। पिछले दो दिनों से टीकाकरण पूरी तरह बंद है। महज फलौदी कस्बे में डोज उपलब्ध होने के कारण शनिवार को यहां युवाओं के टीका लग सका।


अलवर: 16 लाख में से 40 हजार के लगा टीका
अलवर जिले में 16 लाख युवाओं के टीका लगना है। अभी तक महज 40 हजार के टीका लगा है। डोज नहीं मिलने से पिछले तीन दिन से वैक्सीनेशन बंद है।

बीकानेर: 18802 के लग सका टीका
बीकानेर जिले में भी टीकाकरण की रफ्तार कमजोर है। अभी तक महज 18802 युवाओं के टीका लग सका है। शुक्रवार को डोज नहीं आने के कारण टीकाकरण बंद रहा।

कोटा: यहां नहीं टीके का टोटा

लोकसभा अध्यक्ष व प्रदेश के यूडीएच मंत्री के गृह जिले कोटा में लगातार युवाओं के टीका लगाया जा रहा है। अब तक 24980 युवाओं के टीका लगाया जा चुका है। खास बात यह है कि यहां एक दिन भी डोज की कमी के कारण वैक्सीनेशन बंद नहीं हुआ।


भीलवाड़ा: एक दिन बंद रहा वैक्सीनेशन

भीलवाड़ा में नौ सेंटरों पर अब तक 8425 युवाओं के वैक्सीनेशन हो चुका है। दो मई को को डोज की कमी के कारण टीकाकरण बंद रहा था।

इन जिलों में कमी के बीच टीकाकरण जारी
भरतपुर व धौलपुर जिले में टीके की कमी के बीच टीकाकरण अभियान शनिवार को भी जारी रहा।


...और देर शाम सभी सीएमएचओ को पत्र जारी

प्रदेश में डोज की कमी के कारण कुछ जिलों में वैक्सीनेशन बंद था। देर शाम प्रदेश में 3.41 लाख डोज मिलने की संभावना पर परियोजना निदेशक डॉ. रघुराज सिंह ने सभी जिलों के सीएमएचओ को पत्र लिखा है। इसमें वैक्सीन के आगामी कोटे की आवंटन की जानकारी भी दी गई है।


अब किस जिले को कितना कोटा आवंटित
जयपुर प्रथम: 21 हजार

जयपुर द्वितीय: 14 हजार
अलवर: 20 हजार

बीकानेर: 18 हजार
जोधपुर: 18 हजार

अजमेर: 18 हजार
उदयपुर: 18 हजार

कोटा: 18 हजार
नागौर: 15 हजार

सीकर: 15 हजार
पाली: 12 हजार

भीलवाड़ा: 12 हजार
भरतपुर: 12 हजार

अन्य जिलों में पांच से दस हजार का कोटा
प्रदेश के अन्य जिलों में भी वैक्सीनेशन अब शुरू हो सकेगा। इसके लिए चिकित्सा विभाग ने पांच व दस हजार डोज उपलब्ध कराई है। सूत्रों के अनुसार अब सभी जिलों में सीएमएचओ को साइट बढ़ाने के भी निर्देेश दिए गए हैं।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned