300 वर्षों से चली आ रही परम्परा, हजारों की संख्या में पहुंचे श्रद्धालु

पालकी झुलाने के लिए लगी होड़
मूंडरू में लीला महोत्सव सम्पन्न

By: Vinod Chauhan

Published: 15 May 2019, 07:07 PM IST

मूंडरू. कस्बे में भगवान नृसिंह का लीला महोत्सव सोमवार रात्रि में मनाया गया। शाम के समय से शुरू हुई नृसिंह लीला में मूकाभिनय का मंचन रातभर चला। रथयात्रा के रूप में भगवान विष्णु के 24 अवतारों की झांकी सजाई गई। इससे पहले रामदरबार की पालकी सजाई गई। पालकी झुलाने के लिए हजारों युवाओं में होड़ मची रही। इसके बाद मंच पर 24 अवतारों के मुखोटे धारण करके नृत्य शैली में मंचन किया गया। इस दौरान परशुराम के उग्र क्रोध का दर्शन, सीता स्वयंबर, शंकासुर का वेदों का हरण करना, मच्छावतार मंचन, हरिणाक्शयप का वराह अवतार द्वारा वध, सागर मंथन हेतु कच्छप अवतार का मंचन, कृष्णावतार के मंचन के साथ कंस एवं कुडायतीर हाथी के वध के प्रसंग दिखाए गए। मंगलवार भोर में भगवान नृसिंह का प्राकटय हुआ एवं नगर दर्शन कर भक्तों को आशीर्वाद प्रदान किया गया । भगवान नृसिंह की महाआरती के बाद लीला का विसर्जन किया गया।
रथ यात्रा आज
श्रीमाधोपुर. कंचनपुर के आराध्य देव नृसिंह भगवान की लीला एवं रथयात्रा (नगर भ्रमण) महोत्सव बुधवार को मनाया जाएगा। पुजारी दुर्गा दत्त मिश्रा ने बताया कि करीब 300 वर्षों से चली आ रही नृसिंह लीला महोत्सव में भगवान विष्णु के चौबीसों अवतारों का मूकाभिनय किया जाता है।
प्राण प्रतिष्ठा आज से
दांतारामगढ़. दांता के प्राचीन नृसिंह मंदिर में नृसिंह जयंती महोत्सव पर मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा समारोह के तहत बुधवार से तीन दिवसीय आयोजन होंगे। खेड़ापति बालाजी नवयुवक मंडल के पदाधिकारियों ने बताया कि बुधवार प्रात: 6.15 बजे से पूजन होगा। शाम 4.15 बजे से 11 कुंडीय हवन होगा। गुरुवार सुबह कलश यात्रा व मूर्ति दर्शन होगा। निशान व कलश यात्रा निम्बार्क आश्रम से नृसिंह मंदिर प्रांगण तक निकाली जाएगी। प्रात: 10.15 बजे से हवन पूर्णाहुति दी जाएगी। दोपहर 12.15 बजे भगवान नृसिंह की मूर्ति प्राण प्रतिष्ठा की जाएगी। उसके बाद दोपहर 1.15 बजे से महाप्रसाद भंडारा होगा। रात्रि 8.15 बजे से भजन संध्या होगी। शुक्रवार प्रात: 9.15 बजे भगवान नृसिंह का जन्मोत्सव मनाया जाएगा।
जानकी नवमी पर्व मनाया
लक्ष्मणगढ़. कस्बे के नगर आराध्य रघुनाथजी के बड़ा मंदिर में मंगलवार को जानकी नवमी पर जानकी पर्व मनाया गया। इस मौके पर एक ओर जहां मां जानकी को विशेष पोशाक पहनाकर श्रृंगार किया गया, वहीं दूसरी ओर सामूहिक आरती हुई। मंदिर महंत अशोकदास महाराज के सान्निध्य में महिला श्रद्धालुओं व स्थानीय लोक गायकों ने भजनों की प्रस्तुतियां भी दी।

Vinod Chauhan Zonal Head
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned