बारिश से हुए गड्ढों पर 47 करोड़ का पैबंद

बारिश से हुए गड्ढों पर 47 करोड़ का पैबंद

Gaurav Saxena | Publish: Aug, 08 2019 07:06:37 PM (IST) Sikar, Sikar, Rajasthan, India

शहर में सीवरेज और बरसात से क्षतिग्रस्त हुई सडक़ों की मरम्मत के लिए 47.50 करोड़ रुपए खर्चे जाएंगे। नगर परिषद सभापति ने इस सबंंध में स्वायत शासन मंत्री शांति धारीवाल को पत्र भी प्रेषित किया है।

सीकर. सीवरेज की खुदाई के बाद बरसात से टूटी सडक़ों पर हिचकोले खा रहे शहर के लोगों के लिए सुगम राह अभी दूर है। गिट्टी और मिट्टी डालकर गड्ढ़े भर रही परिषद के पास सडक़ों के पुन: निर्माण के लिए पैसा नहीं है। अतिवृष्टि से टूटी सडक़ों के पुनर्निमाण के लिए परिषद ने राज्य सरकार से 47.50 करोड़ रुपए का विशेष अनुदान मांगा है। इसके लिए सभापति जीवण खां ने स्वायत शासन मंत्री शांति धारीवाल को पत्र प्रेषित किया है। साथ ही विधायक राजेन्द्र पारीक से भी शहर की सडक़ों को ठीक करवाने के लिए अनुदान स्वीकृत करवाने के लिए आग्रह किया गया है।
दस इंच बरसात से रास्तों कर दिया खोखला
शहर में 24 से 26 जुलाई के बीच हुई बरसात से शहर के प्रमुख रास्तों के साथ गली-मोहल्लों की सडक़ भी उखड़ गई। शहर की प्रमुख स्टेशन रोड, बजाज रोड, सालासर बस स्टैंड, सुभाष चौक, ईदगाह क्षेत्र की सडक़ें भी खोखली हो गई। मोचीवाड़ा, बकरामंडी, राधाकिशनपुरा, सालासर रोड, क्षेत्र की सडक़ों पर गहरे गड्ढ़े होने के कारण हर समय हादसे का अंदेशा बना हुआ है।
गिट्टी और मिट्टी डालकर भर रहे हैं गड्ढ़े
शहर की सडक़ों के क्षतिग्रस्त होने का प्रमुख कारण सीवरेज की खुदाई के बाद बरती गई लापरवाही है। नगर परिषद ने पहले मिट्टी के कट्टे और बाद में गिट्टी और मिट्टी डालकर गड्ढ़े भरना शुरू किया, लेकिन यह जनता को राहत नहीं दे पाया है। परिषद का यह प्रयास जनता को अभी तक राहत नहीं दे पाया है। वर्तमान हालात को देखते हुए शहर की सभी सडक़ों का पुनर्निमाण होने पर ही जनता को राहत मिल सकती है।
परिषद ने बनाई सूची
सडक़ों के क्षतिग्रस्त होने के बाद नगर परिषद के अधिकारियों ने शहर का दौरा कर क्षतिग्रस्त सडक़ों की सूची बनाई है। इसके आधार पर सडक़ों के पुननिर्माण पर होने वाली राशि का आकलन किया गया है। परिषद ने सडक़ों की सूची और पुननिर्माण के लिए आंकलन के साथ 47.50 करोड़ रुपए विशेष अनुदान देने के लिए राज्य सरकार को पत्र लिखा है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned