स्टाफिंग पैटर्न में खत्म होंगे 5 हजार पद

स्कूलों में अधिशेष को छोड़ मूल पदों पर लगे शिक्षकों को हटाया

By: Vinod Chauhan

Published: 07 Jul 2019, 06:13 PM IST

सीकर. स्टाफिंग पैटर्न के नाम पर सरकार ने नामांकन अभियान के समय प्रदेश के 5 हजार शिक्षकों के पद खत्म करने की तैयारी कर ली है। शिक्षक संगठनों का तर्क है कि स्टाफिंग पैटर्न में जब हिंदी, सामाजिक और संस्कृत के मूल पद पर लगे विषयाध्यापकों को अधिशेष घोषित कर लेवल प्रथम के पद के विरूद्ध लगे विषयाध्यापकों को मूल पद पर समायोजित करना नियमों के विरूद्ध है।
स्टाफिंग पैटर्न में पदों का निर्धारण मई 2019 के नामांकन से किया गया है। जबकि नामांकन 30 सितंबर 18 से या वर्तमान माह का होना चाहिए। इससे भी पद समाप्ति की संख्या बढ़ेगी।
जिले के 184 शिक्षक अधिशेष
नामांकन अभिवृद्धि के समय 184 शिक्षकों को जिले में अधिशेष कर दिया गया है। ऐसी स्थिति में वे शिक्षक किस स्कूल के लिए नामांकन अभिवृद्धि का प्रयास करें। जबकि अगली स्कूल का अभी तक उन्हे पता ही नही कि उन्हें किस स्कूल में पदस्थापन मिलेगा। मूल विषय पर विषयाध्यापक हिंदी और सामाजिक का कार्यरत होने के बावजूद प्रथम लेवल के रिक्त पदों पर हिंदी और सामाजिक के शिक्षकों को नई नियुक्ति तथा पदस्थापन दे दिया गया। एक स्कूल में दो-दो, तीन-तीन हिंदी और सामाजिक के शिक्षकों को लगा दिया गया।
शिक्षक बने फुटबॉल
2016 से लगातार शिक्षकों के स्थान परिवर्तन किए गए हैं। 2016 में स्टाफिंग पैटर्न में अधिशेष शिक्षकों को गणित, अंग्रेजी और विज्ञान के पदों पर लगाया गया। हिंदी, सामाजिक एवं संस्कृत के शिक्षक अधिशेष हो गए। इन तीन विषयों के रिक्त पद नहीं थे।
दो वर्ष बाद इन शिक्षकों को गणित, विज्ञान और अंग्रेजी के पदों से हटा दिया गया। यह शिक्षक फिर अधिशेष हो गए। इस बार इन शिक्षकों को लेवल प्रथम के रिक्त पदों पर लगाया गया हैं।
नियमों की लगातार अनदेखी
वर्ष 2012 से शिक्षकों की भर्ती विषयवार और लेवलवार शुरू की गई। एसटीसी प्रशिक्षण प्राप्त शिक्षकों को प्रथम लेवल तथा बीएड प्रशिक्षण प्राप्त शिक्षकों को द्वितीय लेवल पर विषयवार नियुक्ति दी गई। एक ओर लेवल व विषय का निर्धारण किया गया।
जबकि दूसरी और पिछली साल हिंदी और सामाजिक के द्वितीय लेवल के शिक्षकों को नई भर्ती के दौरान ही हिंदी व सामाजिक के पद रिक्त नहीं होने के चलते प्रथम लेवल के पदों पर नियमों की अनदेखी करते हुए लगाया गया।
चार दिन बाद बदले सीडीइओ स्थानांतरण आदेश
सीकर. शिक्षा विभाग में चार दिन बाद ही अधिकारियों के तबादले कर दिए गए हैं। राजस्थान सरकार ग्रुप द्वितीय के शासन उप सचिव डॉ. राष्ट्रदीप यादव ने शनिवार को शिक्षा सेवा के अधिकारियों का स्थानांतरण, पदस्थापन संशोधन आदेश जारी किया है। शनिवार को जारी सूची के अनुसार सीडीइओ सुरेंद्र सिंह गौड़ को चूरू से वापस सीकर लगा दिया गया है। सीकर लगाए गए सीडीइओ घनश्याम दत्त जाट को सीकर से झुंझुनूं भेजा गया है।

Vinod Chauhan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned