कबूतर के बाद अब भैंस बनी पुलिस की परेशानी

सीकर. कबूतर के बाद सीकर पुलिस के लिए एक भैंस ने उलझन पैदा कर दी है। तीन दिन पहले ही उद्योगनगर थाने में 140 कबूतर चोरी का मामला दर्ज हुआ था, जो हालांकि अगले दिन ही वापस लौटने पर मसला सुलझ गया।

By: Sachin

Published: 06 Jan 2021, 11:31 AM IST

सीकर. कबूतर के बाद सीकर पुलिस के लिए एक भैंस ने उलझन पैदा कर दी है। तीन दिन पहले ही उद्योगनगर थाने में 140 कबूतर चोरी का मामला दर्ज हुआ था, जो हालांकि अगले दिन ही वापस लौटने पर मसला सुलझ गया। लेकिन, अब इसी थाने में भैंस बेचने के विवाद का मामला सामने आया है। जिसकी जांच एएसआई प्रभु सिंह को सौंपी गई है।

यह है मामला
पुलिस के अनुसार जगदीश प्रसाद पुत्र महादेवराम निवासी आनंदनगर सीकर ने मामला दर्ज कराया है। जिसमें बताया है कि वह पशुपालन का कार्य करता है। 27 सितम्बर 2020 वीरू पुत्र हमीद अपने साथ भाई सोनू, राजू व अन्य महिलाओं को साथ लेकर आया। उन्होंने कहा कि वे मकान की चिनाई का काम करते है। उन्होंने पशुओं के बने निर्माण को ठीक कराने की बात कहीं। तब बीरू और रेशमा, नगमा बंधी भैंस को देखकर मोल-भाव करने लग गए। उन्होंने 52552 रुपए में भैंस खरीद ली। लेकिन, तब उन्होंने रुपए नहीं होने पर रेशमा के बैंक ऑफ बडौदा का चेक दे दिया। उन्होंने रुपए नहीं मिलने की एवज में लिखित में फतेहपुर रोड पर लाइन के पास प्लॉट देने को कहा। वे भैंस को ले जाते समय साथ में उसे भी ले गए। वहां पर प्लॉट के सामने ही जीवण अली की दुकान है। उन्होंने प्लॉट जीवण अली से लेना बताया। वह प्लॉट से शाम को वापस लौट आया। उसने अगले दिन बैंक में जाकर चेक लगा दिया। तब बैंक कर्मचारियों ने खाते में शून्य रुपए होने की बात कहीं। उसने बीरू को फोन कर खाते में रुपए नहीं होने की बात कहीं तो उसने कुछ दिन में रुपए देने को कहा। इस बाद वह बार-बार रुपए जल्द देने का झांसा देता रहा। उसने भैंस वापस मांगी तो पता लगा कि भैंस को 60 हजार रुपए में किसी अन्य को बेच दी। वह मोहल्ला नायकान में प्लॉट पर गया तो मकान को बेचने का पता लगा। इसके बाद वह फतेहपुर रोड पर प्लॉट पर पहुंचा। वहां पर निर्माण का कार्य चल रहा था। जगदीशप्रसाद ने बताया कि प्लॉट पर पहुंचने पर उसने रुपए मांगे तो वह झगड़ा कर धमकी देने लगे। उन्होंने रुपए व भैंस देने से मना कर दिया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned