scriptBudget for general education, the government is robbing accolades | बजट सामान्य शिक्षा का, वाहवाही लूट रही सरकार | Patrika News

बजट सामान्य शिक्षा का, वाहवाही लूट रही सरकार

सामान्य शिक्षा की स्कूलों के बजट से चल रहे महात्मा गांधी स्कूल

सीकर

Updated: August 06, 2022 12:34:02 pm

रविन्द्र सिंह राठौड़

rajasthanpatrika.com

प्रदेश में महात्मा गांधी राजकीय अंग्रेजी माध्यम स्कूल खोलकर राज्य सरकार ने केवल वाहवाही लूटने का काम किया है। प्रदेश में महात्मा गांधी के नाम कुल 1081 स्कूल संचालित हैं। अंग्रेजी माध्यम के नाम पर स्कूलों में नामांकन भी बढ़ रहा हैं। लेकिन कैडर की बात करने वाली राज्य सरकार ने महात्मा गांधी के नाम पर अलग से कोई बजट जारी नहीं किया। सामान्य शिक्षा की स्कूलों के बजट से ही महात्मा गांधी स्कूलों का खर्च चल रहा हैं। यहां तक इन स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों का वेतन भी सामान्य शिक्षा के बजट से ही उठ रहा हैं।

बजट सामान्य शिक्षा का, वाहवाही लूट रही सरकार
बजट सामान्य शिक्षा का, वाहवाही लूट रही सरकार

सामान्य शिक्षा के शिक्षकों के भरोसे चल रहे स्कूल

महात्मा गांधी स्कूलों में कैडर की बात करने वाली राज्य सरकार दो से तीन साल बाद भी शिक्षकों के पद सृजित नहीं कर पाई हैं। केवल संस्था प्रधानों के पद सर्जित किए हैं। जिन स्कूलों में 11 वीं कक्षा शुरू हो चुकी है वहां पर भी अभी तक व्याख्याता नहीं हैं। ऐसे में बिना व्याख्याता बच्चों की पढ़ाई पूरी तरह से बाधित हो रही है। इतना ही नहीं महात्मा गांधी स्कूलों में बच्चों को शिक्षा देने वाले शिक्षक भी अधिकांशत: सामान्य शिक्षा से ही हैं। ऐसे में अंग्रेजी माध्यम में शिक्षा देने का सपना दिखाने वाली सरकार पर कई सवाल उठ रहे हैं। लोगों का कहना है कि कब तक यूं ही राज्य सरकार अंग्रेजी माध्यम के नाम पर बच्चों के भविष्य के साथ खेलती रहेगी। सरकार को जल्द ही इस मुद्दे को गंभीरता से लेकर एक सुदृढ़ ढांचा तैयार करना चाहिए। जब तक इन महात्मा गांधी स्कूलों में अंग्रेजी मीडियम का स्थाई स्टाफ नहीं होगा तब तक इन स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों की शिक्षा पर भी सवाल उठते रहेंगे।

महात्मा गांधी के स्तर पर नहीं स्कूल भवन

प्रदेश में अंग्रेजी माध्यम के निजी स्कूलों की तर्ज पर महात्मा गांधी स्कूल खोलने का सपना तो राज्य सरकार ने दिखा दिया। लेकिन तीन साल बाद भी राज्य की सरकार ने महात्मा गांधी स्कूलों के स्तर के भवन तैयार नहीं किए हैं। आज भी महात्मा गांधी स्कूल सामान्य शिक्षा की स्कूल भवनों में संचालित हैं। प्रदेश के कई स्कूल तो ऐसे भवनों में संचालित है, जहां बच्चों के लिए प्राथमिक सुविधाओं का भी अभाव हैं। निजी स्कूलों में केवल बच्चों की पढ़ाई ही नहीं बल्कि व्यवस्थाओं को देखकर भी बच्चों के अभिभावक आकर्षित होते हैं। ऐसे में कब तक यूं ही राज्य सरकार सामान्य शिक्षा के भरोसे महात्मा गांधी स्कूलों का संचालन करती रहेगी।

हिंदी माध्यम के शिक्षकों के पदों से उठ रहा वेतन

प्रदेश में महात्मा गांधी स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों का वेतन भी पिछले तीन साल से हिंदी माध्यम शिक्षकों के पदों से ही उठ रहा हैं। प्रदेश में जिन स्कूलों के स्थान पर महात्मा गांधी स्कूल खोले गए थे। उन स्कूलों में संचालित शिक्षकों के पदों को खत्म नहीं किया गया। बल्कि उन्हीं पदों पर वेतन उठाकर महात्मा गांधी स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों का वेतन जारी हो रहा है। सीकर में कुल 56 महात्मा गांधी स्कूल संचालित है। इनमें से 10 महात्मा गांधी स्कूल जिले में सबसे पहले खुले। जिले की नौ ब्लॉक और फतेहपुर में अलग से एक महात्मा गांधी की तर्ज पर ही इंग्लिश मीडियम स्कूल खोला गया। इन 10 महात्मा गांधी और एक इंग्लिश मीडियम स्कूल में तो प्रधानाचार्य के पद सृजित हो गए। लेकिन शेष 45 महात्मा गांधी स्कूलों में तीन साल बाद भी पद सृजित नहीं हुए।

तीन साल बाद भी भवन का इंतजार

सरकार ने महात्मा गांधी अंग्रेज़ी स्कूल के नाम पर प्रचार प्रसार तो बड़े स्तर पर किया, लेकिन तीन साल बीत जाने के बाद भी न इन स्कूलों के पास इस स्तर का भवन है न ही शिक्षकों के वेतन का बजट। अलग कैडर तो दूर की बात है हर चीज़ सामान्य शिक्षा से उधार लेकर संचालित की जा रही है। सरकार को अविलंब, इस मुद्दे को गंभीरता से लेकर एक सुदृढ़ ढांचा तैयार करना चाहिए।

उपेन्द्र शर्मा, प्रदेश महामंत्री, राजस्थान शिक्षक संघ (शेखावत)

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Monsoon Alert : राजस्थान के आधे जिलों में कमजोर पड़ेगा मानसून, दो संभागों में ही भारी बारिश का अलर्टमुस्कुराए बांध: प्रदेश के बांधों में पानी की आवक जारी, बीसलपुर बांध के जलस्तर में छह सेंटीमीटर की हुई बढ़ोतरीराजस्थान में राशन की दुकानों पर अब गार्ड सिस्टम, मिलेगी ये सुविधाधन दायक मानी जाती हैं ये 5 अंगूठियां, लेकिन इस तरह से पहनने पर हो सकता है नुकसानस्वप्न शास्त्र: सपने में खुद को बार-बार ऊंचाई से गिरते देखना नहीं है बेवजह, जानें क्या है इसका मतलबराखी पर बेटियों को तोहफे में देना चाहता था भाई, बेटे की लालसा में दूसरे का बच्चा चुरा एक पिता बना किडनैपरबंटी-बबली ने मकान मालिक को लगाई 8 लाख रुपए की चपत, बलात्कार के केस में फंसाने की दी थी धमकीराजस्थान में ईडी की एन्ट्री, शेयर ब्रोकर को किया गिरफ्तार, पैसे लगाए बिना करोड़ों की दौलत

बड़ी खबरें

बिहारः मंत्रियों में विभागों का बंटवारा, गृह मंत्रालय नीतीश के पास, तेजस्वी के पास 4 विभाग, तेज प्रताप का घटा कद, देखें Listबिहार कैबिनेट में अगड़ी जातियों का दबदबा खत्म, भूमिहार से 2 तो ब्राह्मण से मात्र 1 मंत्री, यादव से सबसे अधिक 8 मंत्रीगुजरात में कांग्रेस को बड़ा झटका, 6 MLA बीजेपी में हो सकते हैं शामिलTarget Killing In Kashmir: 'मोदी सरकार कश्मीरी पंडितों की हिफाजत करने में हुई फेल', AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसीJammu-Kashmir: शोपियां में नाम पूछकर आतंकियों ने कश्मीरी पंडितों पर बरसाईं गोलियां, एक की मौत, लश्कर फ्रंट ने ली जिम्मेदारीशर्मनाक हरकत : शव को अस्पताल ले जाने मांगी मदद, तो नगर पंचायत ने भेज दी कचरा गाड़ीJammu-Kashmir: पहलगाम में 39 ITBP जवानों को ले जा रही बस खाई में गिरी, 7 जवान शहीद, अमित शाह ने जताया दुखKejriwal Press Conference: केजरीवाल ने बताया कैसे बनेगा देश का हर गरीब अमीर, इन 4 बड़े कामों पर दिया जोर
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.