scriptcameras removed from driving test track | परिवहन विभाग में मिलीभगत का खेल: ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक से कैमरे हटे, ट्रैक संचालकों को मिली खुली छूट | Patrika News

परिवहन विभाग में मिलीभगत का खेल: ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक से कैमरे हटे, ट्रैक संचालकों को मिली खुली छूट

प्रादेशिक परिवहन विभाग कार्यालय परिसर में स्मार्ट चिप प्राइवेट लिमिटेड की ओर से संचालित ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक की निगरानी में लगे दो कैमरे अचानक हटा दिए गए। इसको लेकर सवाल भी उठने लगे है।

सीकर

Published: April 29, 2022 03:35:24 pm

सीकर. प्रादेशिक परिवहन विभाग कार्यालय परिसर में स्मार्ट चिप प्राइवेट लिमिटेड की ओर से संचालित ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक की निगरानी में लगे दो कैमरे अचानक हटा दिए गए। इसको लेकर सवाल भी उठने लगे है। ट्रैक की आरएफपी में निर्धारित शर्तों के तहत परिवहन विभाग को मॉनिट्ररिंग करने का अधिकार है। परिवहन अधिकारी ने तत्कालिन मोटर वाहन उप निरीक्षक को ट्रैक की निगरानी के आदेश दिए थे। तीन महीने पहले तत्कालीन मोटर वाहन उप निरीक्षक ने ट्रैक की निगरानी में सहूलियत के लिए अपनी सीट के पास स्वयं की देखरेख में कंप्यूटर मॉनिटर के साथ दो कैमरे लगा दिए। ट्रैक संचालकों पर दबाव बनाने के लिए तीन महीने तक सीसीटीवी हटाने के लिए अधिकारियों ने कोई कदम नहीं उठाया। लेकिन ट्रैक संचालकों व अधिकारियों की मिलीभगत से फर्जी तरीके से बनने वाले फर्जी लाइसेंस की प्रक्रिया पर अंकूश लग गया।

परिवहन विभाग में मिलीभगत का खेल: ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक से कैमरे हटे, ट्रैक संचालकों को मिली खुली छूट
परिवहन विभाग में मिलीभगत का खेल: ड्राइविंग टेस्ट ट्रेक से कैमरे हटे, ट्रैक संचालकों को मिली खुली छूट

आरोप: अवैध वसूली के लिए हटाए कैमरे

फर्जी लाइसेंस बनने की प्रक्रिया बंद होने से ट्रैक संचालकों अवैध वसूली के आरोप फिर लगने लगे है। विभाग के अधिकारियों ने पहले तो ट्रैक की निगरानी में लगे मोटर वाहन उप निरीक्षक को कार्यालय से हटाकर फिल्ड में लगा दिया। लेकिन इसके बाद भी जब वसूली शुरू नहीं हुई तो ट्रैक संचालकों से बातचीत की। ट्रैक संचालकों ने ट्रैक पर लगे दो सीसीटीवी कैमरे हटाने की बात कही। अधिकारियों ने गुरुवार को सुबह साढ़े दस स्टाफ के आने से पहले ही गुपचुप तरीके से रेस्को के माध्यम से लगे गार्ड के जरीए दोनों कैमरों को हटवा दिया।

अब तेज होगी लाइसेंस बनने की प्रक्रिया

परिवहन कार्यालय में इन दो सीसीटीवी कैमरों के अलावा भी पांच से छह कैमरे लगे हुए है। लेकिन परिवहन अधिकारी ने केवल ट्रैक पर लगे इन दो कैमरों को ही हटवाया है। इससे साफ है कि ट्रैक पर मनमानी का दौर शुरू होने वाला है। पिछले दो तीन महीने में बने लाइसेंस और अब सीसीटीवी कैमरे हटाने के बाद लाइसेंस की प्रक्रिया को देख कुछ समय बाद ही स्थिति साफ हो जाएगी। ट्रैक पर मार्च महीने में 101 और अप्रैल में अब तक करीब 90 के आसपास लाइसेंस बने है।

इनका कहना है

प्रादेशिक परिवहन विभाग कार्यालय में संचालित ड्राइविंग टेस्ट ट्रैक पर विभाग की ओर से सीसीटीवी कैमरे लगाने का कोई प्रावधान नहीं है। विभाग के स्तर पर किसी प्रकार के कोई कैमरे नहीं लगाए गए है।

भारती नैथानी, जिला परिवहन अधिकारी सीकर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Maharashtra Politics: फडणवीस को डिप्टी सीएम बनने वाला पहला CM कहने पर शरद पवार की पूर्व सांसद ने ली चुटकी, कहा- अजित पवार तो कभी...Udaipur Killing: आरोपियों के मोबाइल व सोशल मीडिया का डाटा एटीएस के लिए महत्वपूर्ण, कई संदिग्धों पर यूपी एटीएस का पहराJDU नेता उपेंद्र कुशवाहा ने क्यों कहा, 'बिहार में NDA इज नीतीश कुमार एंड नीतीश कुमार इज NDA'?कन्हैया की हत्या को माना षड्यंत्र, अब 120 बी भी लागूकानपुर में भी उदयपुर घटना जैसी धमकी, केंद्रीय मंत्री और साक्षी महाराज समेत इन साध्वी नेताओं पर निशानाAmravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या मामले पर नवनीत राणा ने गृह मंत्री अमित शाह को लिखी चिट्ठी, की ये बड़ी मांगmp nikay chunav 2022: दिग्विजय सिंह के गैरमौजूदगी की सियासी गलियारे में जबरदस्त चर्चाबहुचर्चित अवधेश राय हत्याकांड में बढ़ी माफिया मुख्तार की मुश्किलें, जाने क्या है वजह...
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.