scriptCelebrated happiness in Sikar on withdrawing agricultural law | कृषि कानून वापस लेने पर मंदिरों में चढ़े प्रसाद, बंटे गुड़, जमकर हुई आतिशबाजी | Patrika News

कृषि कानून वापस लेने पर मंदिरों में चढ़े प्रसाद, बंटे गुड़, जमकर हुई आतिशबाजी

केंद्र सरकार द्वारा विवादित कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के साथ जिले में भी संयुक्त किसान मोर्चा, कांग्रेस, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी सहित विभिन्न संगठनों में खुशी की लहर दौड़ गई।

सीकर

Updated: November 19, 2021 08:00:58 pm

सीकर. केंद्र सरकार द्वारा विवादित कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के साथ जिले में भी संयुक्त किसान मोर्चा, कांग्रेस, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी सहित विभिन्न संगठनों में खुशी की लहर दौड़ गई। इसे किसानों की एकता व संघर्ष की जीत बताते हुए इन संगठनों ने आतिशबाजी कर जश्न मनाया। मिठाइयां भी बांटी। इस दौरान संयुक्त किसान मोर्चा कार्यकर्ताओं ने किसान संगठनों के कार्यालयों व 12 टोल बूथों पर जारी धरना स्थलों पर आतिशबाजी करते हुए आंदोलन को आगे भी जारी रखने की बात कही। प्रवक्ता बीएल मील ने बताया कि अगले 10 दिन तक किसानों के संघर्ष की जीत की खुशी मनाते हुए किसान संसद में इन बिलों की वापसी का प्रस्ताव नहीं होने तक दिल्ली व शाहजहांपुर खेड़ा सीमा पर डटे रहेंगे। उन्होंने बताया कि शाहजहांपुर खेड़ा अब किसान तपस्या स्थल बन गया है। जहां भारतीय किसान यूनियन(टिकैत) के प्रदेशाध्यक्ष राजाराम मील, अ.भा. किसान सभा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष अमराराम, प्रदेश अध्यक्ष पेमाराम, भारतीय किसान यूनियन राष्ट्रीय सचिव झाबर सिंह घोंसल्या, सीकर जिलाध्यक्ष दिनेश सिंह जाखड़, सीकर युवा इकाई अध्यक्ष नरेन्द्र धायल, उप प्रधान विकास मुंड, रामचंद्र खीचड़, सुरेंद्र छिल्लर, प्रिंस मुंड सहित कई किसान डटे हुए है।

कृषि कानून वापस लेने पर मंदिरों में चढ़े प्रसाद, बंटे गुड़, जमकर हुई आतिशबाजी
कृषि कानून वापस लेने पर मंदिरों में चढ़े प्रसाद, बंटे गुड़, जमकर हुई आतिशबाजी


कांग्रेस सेवादल ने चढ़ाया मंदिर में प्रसाद
कृषि कानून वापस लेने की पीएम मोदी की घोषणा के बाद कांग्रेस सेवादल ने गुड़ बांटकर तथा आतिशबाजी करते हुए जश्न मनाया। कार्यकर्ता ने गणेश जी के मन्दिर पंहुच कर प्रसाद चढ़ाया। जिलाध्यक्ष नरेन्द्र बाटड़ ने बताया कि पीएम मोदी की सद्बुद्धि के लिए मंदिर में प्रसाद चढ़ाया गया है। ताकि कृषि कानूनों की तरह गैस, पेट्रोल- डीजल की बढ़ी कीमतों को भी सरकार वापस ले ले। बाटड़ ने बताया की सेवादल कार्यकर्ताओं द्वारा जिले के सभी विधानसभा क्षेत्रों में मंदिरो में प्रसाद चढ़ाकर गुड़ बांटे गए। इस दौरान राजेन्द्र सैनी, रविकांत तिवाड़ी, अंकुर बहड़ सहित कई कार्यकर्ता मौजूद रहे।

किसान की ऐतिहासिक जीत : भावरिया

श्रीमाधोपुर. कृषि कानूनों को वापस लेने पर किसान महापंचायत के प्रदेश महामंत्री सुंदरलाल भावरिया ने भी खुशी जाहिर करते हुए इसे केंद्र सरकार की हार व किसानों की जीत बताया। कहा कि ये किसान के संघर्ष की जीत है। किसान पिछले 12 माह से लगातार सड़क से लेकर के संसद तक संघर्ष कर रहा था। किसानों के संघर्ष के आगे केंद्र कि भाजपा सरकार को मजबूर होकर झुकना पड़ा। किसान आंदोलन में अनेक किसानों ने अपना बलिदान दिया है। जिन्हें हमेशा याद रखा जाएगा। कहा कि केंद्र सरकार न्यूनतम समर्थन मूल्य को गारंटी कानून घोषित नहीं करती है तब तक किसान का आंदोलन जारी रहेगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

धन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोगशाहरुख खान को अपना बेटा मानने वाले दिलीप कुमार की 6800 करोड़ की संपत्ति पर अब इस शख्स का हैं अधिकारजब 57 की उम्र में सनी देओल ने मचाई सनसनी, 38 साल छोटी एक्ट्रेस के साथ किए थे बोल्ड सीनMaruti Alto हुई टॉप 5 की लिस्ट से बाहर! इस कार पर देश ने दिखाया भरोसा, कम कीमत में देती है 32Km का माइलेज़UP School News: छुट्टियाँ खत्म यूपी में 17 जनवरी से खुलेंगे स्कूल! मैनेजमेंट बच्चों को स्कूल आने के लिए नहीं कर सकता बाध्यअब वायरल फ्लू का रूप लेने लगा कोरोना, रिकवरी के दिन भी घटेइन 12 जिलों में पड़ने वाल...कोहरा, जारी हुआ यलो अलर्ट2022 का पहला ग्रहण 4 राशि वालों की जिंदगी में लाएगा बड़े बदलाव
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.