कोरोना की भयावह स्थिति को चुनौती दे रहा भीड़तंत्र

'मौत' को दगा देने की कोशिश में अपने ना हो जाए दूर
बाजार में बहुतादाद में दुकानें खुली दिखीं। लोग वेडिंग शॉपिंग करते दिखे। सब्जी मंडी, परचून की दुकानों में भीड़ रही

By: Suresh

Published: 20 Apr 2021, 07:12 PM IST

सीकर. कोरोना की दूसरी लहर के खतरनाक साबित होने पर राज्य सरकार की ओर से घोषित जन अनुशासन पखवाड़े के नियम कायदे पहले ही दिन सड़कों पर टूट गए। सोमवार सुबह ही शहर की सड़कों पर आम दिनों की तरह वाहनों का रैला लग गया। कोई घर के सामान लेने तो कोई दूसरे काम निपटाने के लिए बाहर आया। शादी-विवाह के चलते भी लोग घरों से बाहर आ गए। कपड़ा बाजार में भी कई दुकानें खुल गई। ऐसे में पुलिस प्रशासन ने भी नियमों की पालना के लिए कड़ाई शुरू की। जिले भर में 26 अधिक दुकानों को सीज किया गया, जिनमें से दस दुकान शहर कोतवाली क्षेत्र की है। सीकर शहर में पुलिस ने 80 वाहन सीज किए।
इसके अलावा जिले भर में मास्क ना पहनने, सोशल डिस्टेसिंग का पालन नहीं करने पर 639 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई। श्रीमाधोपुर कस्बे में मनमर्जी से एक निजी बीएड कॉलेज संचालित होता हुआ मिला। श्रीमाधोपुर तहसीलदार ने कॉलेज को सीज किया है। देर शाम तक कॉलेज पर कोई जुर्माना नहीं लगाया गया है। जिला मुख्यालय सीकर पर कपड़ा मार्केट, ऑटोमोबाइल्स सहित अन्य दुकान भी खुल गई। उन्हें बाद में बंद करवाया गया।
बस स्टैण्ड पर बढ़ी भीड़
दो दिन के कफ्र्यू के बाद सोमवार को बस स्टैंडों पर भी लोगों की भीड़ जुट गई। कई बसों में 50 फीसदी के नियम की भी पालना नहीं हुई। सोशल डिस्टेंस की सबसे ज्यादा कायदे टूटे। वहीं लोग अपने वाहनों से भी यात्रा करने के लिए बाहर निकले। ऐेस में राष्ट्रीय राजमार्ग के साथ लिंक सड़कों पर भी काफी भीड़ नजर आई। जिला मुख्यालय पर कई कपड़ा व्यापारियों ने गाइडलाइन के तोड़ते हुए दुकान खोली ली। टीम के पहुंचते ही व्यापारियों में हडकम्प मच गया। इस दौरान कई व्यापारियों ने स्थानीय नेताओं को फोन लगा दिए। जैसे ही जनप्रतिनिधियों के फोन टीम में शामिल अफसरों के पास पहुंचे तो वह दबे पैर लौट आए। कई स्थानों पर सिर्फ चेतावनी देकर छोड़ दिया। जबकि कई स्थानों पर चालान काटकर दुकान सीज कर दी गई।
स्कूल-कॉलेज खुले तो मान्यता रद्द
जिला प्रशासन ने स्पष्ट किया कि यदि कोई भी स्कूल-कॉलेज बिना अनुमति के नियमित कक्षाएं संचालित करता है तो सीजर की कार्रवाई के साथ मान्यता रद्द करने के लिए मुख्यालय भी लिखा जाएगा। जिला कलक्टर ने सभी उपखंड अधिकारियों को गाइडलाइन की सख्ती से पालना कराने के निर्देश दिए है।
कपड़ा व्यापारियों से लेकर किराना की दुकानों पर सोमवार सुबह ग्राहकों की कतार लग गई। इससे सोशल डिस्टेंस के कायदे पूरी तरह टूट गए। इनमें से कई स्थानों पर प्रशासन ने भी कार्रवाई की है। सब्जी मंडी में भी पहले की तरह लोगों की भीड़ उमड़ रही है।

Suresh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned