scriptdiwali special stroy | Diwali Special: ठाकुर अलखां के पास साक्षात आई थी मां लक्ष्मी, सीकर और जयपुर में आज भी सबूत मौजूद | Patrika News

Diwali Special: ठाकुर अलखां के पास साक्षात आई थी मां लक्ष्मी, सीकर और जयपुर में आज भी सबूत मौजूद

दिवाली की देवी मां लक्ष्मी से जिले में आस्था का बेहद अनूठा किस्सा जुड़ा है। जिसके तारों ने सीकर और जयपुर को भी आपस में जोड़ रखा है।

सीकर

Published: November 04, 2021 06:40:30 pm

सीकर. दिवाली की देवी मां लक्ष्मी से जिले में आस्था का बेहद अनूठा किस्सा जुड़ा है। जिसके तारों ने सीकर और जयपुर को भी आपस में जोड़ रखा है। कहते हैं कि 352 साल पहले मां लक्ष्मी जिले के खोह यानी रघुनाथगढ़ में साक्षात प्रकट हुई थी। जिसके बाद एक गरीब पुरोहित वंश जयपुर कटले के मालिक से लेकर सीकर विधायक की कुर्सी तक पर राज कर चुका है। किस्से को लोग कोल कल्पित भी मानते हैं, लेकिन दो जिलों से जुड़े सबूत आज भी उसकी गवाही दे रहे हैं।

दिवाली स्पेशल: ठाकुर अलखां के पास साक्षात आई थी मां लक्ष्मी, सीकर और जयपुर में आज भी सबूत मौजूद
दिवाली स्पेशल: ठाकुर अलखां के पास साक्षात आई थी मां लक्ष्मी, सीकर और जयपुर में आज भी सबूत मौजूद

ठाकुर अलखां ने किया था आह्वान

इतिहासकार महावीर पुरोहित बताते हैं कि खोह यानी रघुनाथगढ़ में 351 साल पहले अलखां टकणेत का शासन था। हरिराम उनके कुल पुरोहित थे। दिवाली के दिन ठाकुर अलखां ने पुरोहित से बोहरा की दुकान से चावल और शक्कर लाने को कहा। लेकिन, पुरानी उधार चुकता नहीं होने पर उन्हें समान नहीं मिला। गुस्साए पुरोहित ने ठाकुर से नाराज होकर कहा कि कहीं ओर आसरा होता तो यह दिन नहीं देखना पड़ता। इस पर ठाकुर ने तांबे के टके पुरोहित को देकर घर पर तेल के दीये जलाने की बात कही। पुरोहित के घर के अलावा गांव में कहीं भी दिवाली नहीं मनाने की घोषणा के साथ मां लक्ष्मी के ध्यान में बैठ गए। कहते हें कि खुश होकर मां लक्ष्मी ठाकुर अलखां के सामने प्रकट हो गई और गढ़ का खजाना खोलने को कहा। इस पर ठाकुर ने उन्हें कुलगुरु के घर जाने की बात कही। मां लक्ष्मी जब पुरोहित के घर पहुंची तो उन्होंने भी मां लक्ष्मी को वापस ठाकुर के पास यह कहकर भेज दिया कि ठाकुर संपन्न होंगे तो उनकी पेट भराई अपने आप हो जाएगी। लेकिन, वापस आने पर ठाकुर ने लक्ष्मीजी को ब्राहम्ण को दान करने की बात कहते हुए वापस लौटा दिया। वापसी पर पुरोहित ने लक्ष्मीजी को स्थाई रूप से रहने की प्रार्थना की। इस पर मां लक्ष्मी ने जुए, नशे और वारांगनाओं से दूर रहने सरीखी शर्त के साथ स्थाई रूप से रहकर पुरोहित परिवार को धनी बना दिया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

हार्दिक पांड्या ने चुनी ऑलटाइम IPL XI, रोहित शर्मा की जगह इसे बनाया कप्तानVIDEO: राजस्थान में 24 घंटे के भीतर बारिश का दौर शुरू, शनिवार को 16 जिलों में बारिश, 5 में ओलावृष्टिName Astrology: अपने लव पार्टनर के लिए बेहद लकी मानी जाती हैंधन-संपत्ति के मामले में बेहद लकी माने जाते हैं इन बर्थ डेट वाले लोग, देखें क्या आप भी हैं इनमें शामिलइन 4 राशि की लड़कियों के सबसे ज्यादा दीवाने माने जाते हैं लड़के, पति के दिल पर करती हैं राजशेखावाटी सहित राजस्थान के 12 जिलों में होगी बरसातदिल्ली-एनसीआर में बनेंगे छह नए मेट्रो कॉरिडोर, जानिए पूरी प्लानिंगयदि ये रत्न कर जाए सूट तो 30 दिनों के अंदर दिखा देता है अपना कमाल, इन राशियों के लिए सबसे शुभ

बड़ी खबरें

विश्व के सबसे लोकप्रिय नेता बने PM Modi, ग्लोबल सर्वे में बाइडेन और ट्रूडो जैसे दिग्गजों को पछाड़ाCorona Update: कोरोना ने बनाया नया रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख 47 हजार नए केस, 2.51 लाख रिकवरदिल्ली में घटते कोरोना मामलों के बीच वीकेंड कर्फ्यू हटाने का फैसला, CM अरविन्द केजरीवाल ने उपराज्यपाल को भेजा पत्र50 साल से जल रही ‘अमर जवान ज्योति’ आज से इंडिया गेट पर नहीं, राष्ट्रीय युद्ध स्मारक पर जलेगीT20 World Cup 2022: ICC ने जारी किया शेड्यूल, इस दिन होगी भारत-पाकिस्तान की टक्करप्रधानमंत्री 5 फरवरी को हैदराबाद में रामानुजाचार्य की 216 फुट ऊंची प्रतिमा का करेंगे अनावरण, 120 किलो सोने से बनी है ये प्रतिमाPariksha Pe Charcha 2022: छात्र, शिक्षक अब 27 जनवरी तक कर सकते हैं आवेदनबोर्ड का नया कदम, परीक्षा के पहले भी होगा परीक्षार्थियों का टेस्ट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.