चाय की चुस्की नहीं, मौत की चुस्की कहिए जनाब!

सीकर. शेखावाटी में चाय की चुस्की अब जानलेवा होती जा रही है। चाय में भी भारी मिलावट की जानकारी सामने आ रही है।

By: Vinod Chauhan

Published: 24 Jul 2018, 11:08 AM IST

 

सीकर. शेखावाटी में चाय की चुस्की अब जानलेवा होती जा रही है। चाय में भी भारी मिलावट की जानकारी सामने आ रही है। मिलावट भी उन चीजों की जो चाय की चुस्की को मौत की चुस्की बना सकती है। आपको बतादें कि चाय में लकड़ी के बुरादे और चमड़े का बुरादा मिलाया जा रहा है। जो आपको सांस सरीखी गंभीर बीमारी दे सकते हैं। यही वजह है कि रोजमर्रा की आदत बन चुकी चाय के प्याले को शेखावाटी में अब जहर का प्याला भी कहा जाने लगा है।

मुनाफे के लिए मिलावट

शेखावाटी में चाय के जरिए मौत बेचने के सौदागर मुनाफाखोरी के चक्कर में यह मिलावट खोरी कर रहे हैं। सुत्रों के मुताबिक आसाम से आने वाली चाय के नाम पर मिलावटखोर चायपत्ती के साथ लकड़ी और चमड़े का बुरादा मिला देते हैं। फिर उन्हें अच्छे भावों में बाजार में बेच देते हैं। असम की चाय के नाम पर लकड़ी का बुरादा और चमड़े का बूरा भी चाय के भाव बिक रहा है।

जिम्मेदार मौन
चाय की कालाबाजारी में सबसे बड़ी लापरवाही स्वास्थ्य विभाग की सामने आई है। विभाग की अनदेखी के कारण ही यह अवैध व्यापार फल फूल रहा है। बतादें कि स्वास्थय विभाग की टीम जो खाद्य पदार्थों के सैंपल लेती है, उसमें चाय पत्ती शामिल नहीं होती है। विभाग की टीम कभी भी इनका सैंपल जांच के लिए नहीं लेती। जिसका फायदा उठाते हुए ही मिलावटखोर आमजन की जिंदगी को खतरे में डालकर अच्छा मुनाफा कमाने के धंधे में जुटे हैं।

इन बीमारियों का खतरा
बुरादे से तैयार होने वाली चाय के कारण सांस फूलने, जी मिचलाना व डिहाइड्रेशन जैसी समस्याएं होती है। चिकित्सकों ने बताया कि मिलावट से तैयार चाय में शरीर में एसिड की मात्रा बढ़ जाती है। इससे पाचन तंत्र पूरी तरह खराब हो जाता है। हालांकि शुद्ध ग्रीन टी से बेड कॉलेस्ट्रॉल खत्म हो जाता है। साथ ही एंटी ऑक्सिडेंट होने के कारण मेटाबॉल्जिम की गति बढ़ जाती है।

इनका कहना है:
तैयार चाय के नमूने विभाग की ओर से नहीं लिए गए हैं। आने वाले चायपत्ती की दुकानों से नमूने लिए जाएंगे।
रतन गोदारा, खाद्य सुरक्षा अधिकारी

Vinod Chauhan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned