Women's Day Special : क्या आप जानते हैं कि देश में कहां रखा जाता है सबसे ज्यादा घूंघट...और अब वहीं से इस प्रथा को बिल्कुल हटाने का लिया गया है प्रण...

शायद फिल्मों के ये सीन आपके जहन में जरूर होंगे जिनमें घूंघट हटा नारी अपनी बेबाकी से राय रखती है...फिर फिल्म और फिल्म के बाहर उसे देखने वाले जमकर उसकी हिम्मत पर जोर से ताली भी बजाते हैं।

By: Gaurav

Updated: 07 Mar 2020, 06:19 PM IST

सीकर. शायद फिल्मों के ये दृश्य आपके जहन में जरूर होंगे जिनमें घूंघट हटा नारी अपनी बेबाकी से राय रखती है...फिर फिल्म और फिल्म के बाहर उसे देखने वाले जमकर उसकी हिम्मत पर जोर से ताली भी बजाते हैं।
दरअसल जानकार मानते हैं कि घूंघट का ताल्लुक सबसे ज्यादा राजस्थान से है। लेकिन अब इसी घूंघट यानी पर्दा प्रथा को जड़ से खत्म करने के लिए भी यहीं से आवाज पुरजोर की जा रही है। इसमें महिला एवं बाल विकास विभाग के साथ-साथ महिला संगठन भी आगे आ रहे हैं।
इसी क्रम को लेकर अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस सप्ताह के अन्तर्गत शुक्रवार को महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा किशोरी बालिकाओं के लिए जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। सीताराम मोदी राजकीय संस्कृत महाविद्यालय में प्रोफेसर कौशल दत्त शर्मा विशिष्ट अतिथि रहे। सीडीपीओ संजय चेतानी ने किशोरियों के लिए संचालित केंद्र की योजनाएं बताई। विशिष्ट अतिथि प्रो. कौशल दत्त शर्मा, प्रचेता अरूणा राजपूत, पर्यवेक्षक सरोज इंदुलिया नें संबोधित कया।


हटानी होगी यह पहचान...
कार्यक्रम के एक सत्र में सीडीपीओ संजय चेतानी ने घूंघट मुक्त राजस्थान की अवधारणा की चर्चा करते हुए कहा कि पूरे देश में घूंघट सबसे ज्यादा राजस्थान में किया जाता है। अब समय आ गया है कि प्रदेश की इस दकियानूसी पहचान को बदला जाए। इस अवसर पर उन्होनें उपस्थित सभी लोगों को घूंघट नहीं करने एवं इस प्रथा को समाप्त करने की शपथ भी दिलवाई।
राउमावि गांवड़ी की व्याख्याता मीना चौधरी के नेतृत्व में आई बालिकाओं ने सांस्कृतिक प्रस्तुतियां दी। इस अवसर पर मेहंदी प्रतियोगिता में पायल व नेहा सहारण, पोस्टर में सुशीला व सीमा गुर्जर एवं नृत्य प्रतियोगिता में दीपिका व रिंकी कँवर ने बाजी मारी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned