शोध नहीं होने से भटक रहे विद्यार्थी

शोध नहीं होने से भटक रहे विद्यार्थी

Vishwanath Saini | Publish: Mar, 14 2018 11:52:00 PM (IST) Sikar, Rajasthan, India

पंडित दीनदयाल उपाध्याय शेखावाटी विवि में नहीं हो रहे शोध

 

 

सीकर . पंडित दीनदयाल उपाध्याय शेखावाटी विवि सीकर की स्थापना के बाद क्षेत्र के हजारों विद्यार्थियों को आस जगी थी, कि अब उन्हें उच्च अध्ययन के लिए बाहर नहीं भटकना पड़ेगा। पीएचड़ी/ एमफिल व अन्य डिग्रियां भी खुद के क्षेत्र के विवि में ही मिल जाएगी। लेकिन विद्यार्थियों की यह आशा पूरी नहीं हो रही। शोध नहीं होने से विद्यार्थी भटक रहे हैं। उच्च अध्ययन करने के लिए विद्यार्थियों को अभी भी दूसरे विवि में जाना पड़ रहा है। ऐसे में उनके धन व समय दोनों की बर्बादी हो रही है।
शोध नहीं होने के कारण विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) से शोध के लिए राशि भी नहीं मिल रही है। वर्ष 2012 में सीकर में नवस्थापित विश्वविद्यालय में शोध कार्य प्रारम्भ नहीं होने व इन्हें यूजीसी अधिनियम की धारा 12 बी के तहत मान्यता नहीं मिलने के कारण शोध अनुदान नहीं मिल रहा है।

हर बार विश्वविद्यालय अनुदान आयोग को प्रोजेक्ट तैयार कर भेजने होते हैं, इसकी स्वीकृति के लिए परीक्षाओं का आयोजन भी होता है। अलग-अलग मदों में प्रोजेक्ट के हिसाब से यह राशि मिलती है। अलग-अलग विषयों के विभागाध्यक्ष इस प्रोजेक्ट को भेजते हैं। कई बार शोध के लिए छात्रवृत्ति जेआरएफ की तरह सीधे विद्यार्थियों के खातों में भी आ जाती है।

ध्यान एफिलेशन पर

इधर निजी कॉलेज संघटनों का आरोप है विवि का ध्यान उच्च शिक्षा, शोध व अन्य कार्यों की बजाय निजी कॉलेजों के निरीक्षण करने पर है। फिर भी वे एफिलेशन जारी नहीं कर रही। इस कारण विद्यार्थियों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

यह होगा फायदा
विद्यार्थियों को शोध के लिए बाहर नहीं जाना पड़ेगा। इससे उनके समय व धन की बर्बादी बचेगी। जहां से उन्होंने पढाई वहीं पर शोध करने की सुविधा होने से उनको स्थानीय शिक्षकों से भी पूरा समय लेने में आसानी रहेगी।

इस संबंध में गंभीरता से कार्य किया जा रहा है। जल्द ही राज्यपाल के पास इसका प्रस्ताव भेजा जाएगा। एक बैठक में यह प्रस्ताव पारित हो चुका। केवल एक बैठक में शेष है। वहां से भी पारित करवा लिया जाएगा। जुलाई या अगस्त से शोध कार्य शुरू करवा दिया जाएगा।
प्रो बीएल शर्मा, कुलपति, पीडीयू सीकर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned