सफलता की राह समर्पण: दुर्गा देवी रणवां

सबसे प्रतिकूल व कठिन काम सबसे पहले करो। कोई भी कार्य करने से पहले सकारात्मक सोच जरूर रखो।

By: Sachin

Published: 07 Sep 2020, 06:11 PM IST

सबसे प्रतिकूल व कठिन काम सबसे पहले करो। कोई भी कार्य करने से पहले सकारात्मक सोच जरूर रखो। अच्छे समय की प्रतीक्षा इंसान को अकर्मण्य व आलसी बनाती है। जबकि हर परिस्थिति में डटे रहने का जज्बा रख समय का कार्यक्रम बनाकर काम करने वाला व्यक्ति सफलता व यश की प्राप्ति कर लेता है। कार्य करने वाले व्यक्ति अपनी प्रकृति के स्वामी होते हैं। वे आदतों के दास नहीं होते। वे नई सोच के साथ आगे बढ़ते हैं। स्वयं पर उनका नियंत्रण होता है। वो अपने रास्ते खुद तय करते हैं। दूसरों के बनाये रास्तों पर चलना इनका स्वभाव नहीं होता। ऐसे व्यक्ति धैर्यवान व अपनी ऊर्जा का सही उपयोग करने वाले होते हैं। परेशानियों से घबराते नहीं। आलोचनाओं से अपने मन को विचलित नहीं करते। योजना बनाकर कुछ नया करने की सेाच के साथ तन, मन,धन से अपने लक्ष्य में लगे रहते हैं। सुपर्द किए कार्य को भी तत्काल करते हैं। जीवन में आने वाले उतार- चढ़ाव को सहजता से स्वीकार कर लेते हैं। ऐसे व्यक्ति ही बड़ी मंजिल को पा सकते हैं। ईमानदारी के पथ पर चलते हुए किसी कार्य को कल के लिए नहीं टालते हैं। चाहे कोई व्यक्ति कितना ही मेहनती क्यों न हो, यदि समय पर मेहनत नहीं हो तो बेकार है। जिस तरह असमय पर बोया बीज निरर्थक चला जाता है। इसलिए इसका भी ध्यान रखना जरूरी है। हर कार्य की प्रकृति व समय समझकर अपनी पूर्ण क्षमताओं से उसे करें। यदि हम कोई भी काम पूरी ईमानदारी व सम्पूर्ण सम्पर्ण से करें तो सफलता खुद हाथ पकड़कर हमें आगे तक ले जाएगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned