मंत्री, सांसद व विधायक की कोशिश से 34 दिन बाद मिला शव

राजस्थान के सीकर जिले के नीमकाथाना तहसील के गांव तिवाड़ी का बास निवासी युवक की कुवैत में हादसे के दौरान हुई मौत के बाद आखिर कार शनिवार को 34 दिन बाद शव वतन पहुंचा।

By: Sachin

Published: 24 May 2020, 09:22 PM IST

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के नीमकाथाना तहसील के गांव तिवाड़ी का बास निवासी युवक की कुवैत में हादसे के दौरान हुई मौत के बाद आखिर कार शनिवार को 34 दिन बाद शव वतन पहुंचा। शव जैसे ही गांव पहुंचा तो घर पर कौहराम मच गया। मृतक का शाम को उसके गांव तिवाड़ी का बास में अंतिम संस्कार कर दिया गया। गौरतलब है कि 19 अप्रैल को कुवैत एयरपोर्ट पर लिमार्क कंपनी में कार्यरत मृतक नवीन कुमार शर्मा की मशीन के टायर के नीचे आने से मौत हो गई थी। शव को गांव में लाने के लिए हर कोई उसके परिवार का साथ दे रहा था। केन्द्रीय मंत्री गजेन्द्र सिंह, सीकर सांसद सुमेधानंद सरस्वती, नागौर सांसद हनुमान बैनीवाल, नीमकाथाना विधायक सुरेश मोदी के अथत प्रयासों से शव शनिवार को कार्गो फ्लाइट से दिल्ली पहुंचा। दिल्ली एयरपोर्ट से शव को लेने पहुंचे मृतक के चाचा संतोष शर्मा और पवन कुमार शर्मा को सुबह 11.00 बजे शव दिया गया। परिजन गाड़ी से शव को लेकर शाम को गांव पहुंचे। गांव में शाम 5 बजे करीब मृतक का अंतिम संस्कार किया। इस दौरान परिवार व गांव सहित नीमकाथाना ब्राह्मण समाज के लोग भी मौजूद रहे।

मुआवजे के लिए जारी रहेगा संघर्ष


ग्रामीणों ने बताया कि परिवार की आर्थिक स्थिति कमजोर है। मृतक नवीन के बाद अब परिवार में पिता बजरंग लाल शर्मा, माता निर्मला शर्मा व बड़ा भाई दिनेश कुमार शर्मा है। ऑन ड्यूटी होने के बावजूद भी मृतक नवीन के परिवार को कोई मुआवजा नहीं दिया गया है। जिस प्रकार से पिछले 34 दिन से मृतक नवीन कुमार शर्मा की पार्थिव देह को कुवैत से मंगवाने के लिए संघर्ष जारी था। उसी प्रकार मृतक के परिवार को मुआवजा दिलाने के लिए संघर्ष जारी रहेगा। परिजनों की राज्य व केंद्र सरकार से अपील है कि मामले में संज्ञान लेकर परिवार को उचित मुआवजा दिलवाएं।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned