दो दिन से ओले-बारिश ने किसानों के खेतों में मचाया कहर

अन्य फसल ओलावृष्टि की चपेट में

By: Suresh

Published: 07 Mar 2020, 05:54 PM IST

सीकर. कृषि विभाग के सर्वे की रिपोर्ट के अनुसार गुरुवार रात को नीमकाथाना, श्रीमाधोपुर क्षेत्र के 16 गांव में हुआ है। जहां गेहूं, सरसों, चना व अन्य फसलों में कई जगह नुकसान दस से 90 प्रतिशत तक आंका गया है। नीमकाथाना के नाथा की नांगल में 110 हेक्टेयर में दस से 15 प्रतिशत, मांउडा के 120 हेक्टेयर में दस से 15 प्रतिशत, श्रीमाधोपुर के झाडली में 155 हेक्टेयर में 20 से 30 प्रतिशत, शेरपुरा के 40 हेक्टेयर में दस प्रतिशत, हाथीदेह के 80 हेक्टेयर मे 55 से 60 प्रतिशत, देवीपुरा के 120 हेक्टेयर में 80 से 90 प्रतिशत, हरदास का बास के 80 हेक्टेयर में 50 से 55 प्रतिशत, बुर्जा की ढाणी के 140 हेक्टेयर में 80 से 90 प्रतिशत, खिरोटी के 120 हेक्टेयर में 60 से 80 प्रतिशत 70 हेक्टेयर में 60 से 80 प्रतिशत, सैदाला भगवानपुरा के 40 हेक्टेयर में 30 से 80 प्रतिशत, भोजमेड के 102 हेक्टेयर में 40 से 90 प्रतिशत, सांवलपुरा तंवरान के 90 हेक्टेयर में 40 से 90 प्रतिशत, अविनाशी के 70 हेक्टेयर में 40 से 85 प्रतिशत, किशनपुरा के 30 हेक्टेयर में 30 से 60 प्रतिशत, चूडला के 42 हेक्टेयर में 10 से 30 प्रतिशत तक नुकसान हुआ। शुक्रवार को हुई ओलावृष्टि के कारण डांसरोली, प्रेमपुरा, केरिया, राजपुरा, केशव का बास, कांकरा, शिवसिंहपुरा विजयपुरा, हिंडाला का बास, मगरा, गोपीनाथपुरा, करणीपुरा, करड़, बाल्यावास, मेई, राजनपुरा, धोलासरी सहित आस-पास के इलाके में गेहूं की 198 हेक्टेयर, सरसों 13 हेक्टेयर, चना दो हेक्टेयर में फसलें आडी गिर गई। इस दौरान क्षेत्र में 18 से 24 प्रतिशत का नुकसान हुआ है। नीमकाथाना, श्रीमाधोपुर, खंडेला इलाके में 2224 हेक्टेयर में गेहूं, 2427 हेक्टेयर में सरसों व 792 हेक्टेयर में चना व 1744 हेक्टेयर में अन्य फसल ओलावृष्टि की चपेट में आ गई।
अजीतगढ. क्षेत्र के विभिन्न गांवों में ओलावृष्टि के कारण हुए नुकसान का जायजा लेने के लिए शुक्रवार से सर्वे शुरू हुआ। प्रभावित गांवों के सर्वे के लिए पटवारी गिरदावर व कर्मचारियों की टीम गठित की गई।
शनिवार से बुर्जा की ढाणी, चीपलाटा, सांवलपुरा तंवरान, हाथीदेह, हरदास का बास सर्वे शुरू किया जाएगा। रिपोर्ट तैयार राज्य सरकार को भेजेंगे।
केबिनेट मंत्री मुंडा से लखोटिया मिले
लक्ष्मणगढ़. भाजपा नेता श्री कुमार लखोटिया ने शुक्रवार को केबिनेट मंत्री अर्जुन मुंडा से मिलकर सीकर-दिल्ली ब्रॉडगेज ट्रैक पर नवीन गाडिय़ों व पूर्व में संचालित गाडिय़ों के विस्तार को लेकर ज्ञापन दिया। ज्ञापन में बताया गया है कि शेखावाटी इलाका व्यापारियों व कोचिंग सेंटर्स का एक बड़ा हब है। इस कारण एक ओर जहां यहां के व्यापारियों को दूर दराज के महानगरों में व्यापारिक कार्यो से आना जाना पड़ता है, वहीं दूसरी ओर कोचिंग सेंटर्स हब होने से देशभर के विभिन्न शहरों से मेडिकल व इंजीनियरिंग के बच्चे सीकर में पढऩे को आते है। रेल सेवा की समुचित उपलब्धता नहीं होने से व्यापारियों व विद्यार्थियों के साथ साथ किसान व आमजन परेशान होते हैं। लखोटिया ने इसके साथ ही सालासर-लक्ष्मणगढ़ नई रेल सेवा बिछाने की भी मंाग दोहराई। मुंडा ने सभी समस्याओं को प्रमुखता से संसद में उठाने का आश्वासन दिया।

Suresh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned