भाजपा के पूर्व विधायक बोले, ईओ को जनता का नौकर बनकर करना होगा काम

श्रीमाधोपुर में गरमाई सियासत
कांग्रेसी पार्षद कर्मचारियों के साथ धरने पर
पालिकाध्यक्ष के पदभार ग्रहण के समय हुआ था विवाद
कर्मचारी बोले, जब तक कार्रवाई नहीं, पालिकाध्यक्ष के वार्ड में नहीं करेंगे सफाई

By: Suresh

Published: 12 Feb 2021, 06:15 PM IST

श्रीमाधोपुर. निर्दलीय विधायक को भाजपा में शामिल कर पालिकाध्यक्ष बनाने के बाद श्रीमाधोपुर की सियासत गरमाई हुई है। पालिकाध्यक्ष के पद्भार ग्रहण करते समय हुआ विवाद अभी थमने का नाम नहीं ले रहा है। यहां पिछले दिनों पालिकाध्यक्ष के पद्भार कार्यक्रम के दौरान नगर पालिका ईओ रजत जैन के बाहर नहीं निकलने पर पूर्व विधायक खर्रा ने जमकर खरी-खोटी सुनाई थी। इसके विरोध में शुक्रवार को कांग्रेसी पार्षद, कार्यकर्ता कर्मचारियों के साथ धरने पर बैठ गए।

नगर पालिका कर्मचारियों ने पालिका के बाहर दो घंटे रास्ता रोककर तो कांग्रेस कार्यकर्ता व पार्षदों ने एसडीएम कार्यालय पर धरना देकर मामले में आक्रोश जताया। पालिका कर्मचारियों ने आरोप लगाया कि अध्यक्ष पए ग्रहण करने के लिए आए तो करीब 200 लोग मौजूद थे। अध्यक्ष, पूर्व विधायक खर्रा व भाजपा कार्यकर्ताओं ने कर्मचारियों का धमकाया व अपशब्द कहे जो अशोभनीय था। कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि इन लोगों ने विधायक दीपेन्द्र सिंह शेखावत व नगर पालिका ईओ व कर्मचारियों को अशोभनीय शब्द कहे। जिसके लिए अध्यक्ष ने एक बार भी माफ नहीं मांगी। प्रदर्शनकारी पूर्व विधायक झाबर सिंह खर्रा व पालिकाध्यक्ष हरिनारायण महंत के खिलाफ नारेबाजी भी करते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग की। सूचना पर तहसीलदार महिपाल सिंह, एसआई कैलाश चंद मौके पर पहुंचे और पालिका कर्मचारियों व पार्षदों से समझाइश की और प्रदर्शनकारियों का सरकार के नाम लिखा ज्ञापन लेकर उचित कार्रवाई का आश्वासन भी दिया। इसके बाद कांग्रेस पार्षदों ने अपना धरना उठाया। तो पालिका कर्मचारी रास्ते से हटकर पालिका परिसर के अंदर धरने पर बैठ गए। जहां कार्य बहिष्कार कर मामले में दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की उनकी मांग की साथ ही कहा कि जब तक दोषियों के खिलाफ कार्रवाही नहीं होगी तब तक अध्यक्ष के वार्ड 12 में सफाई का काम नही करने की बात कही।
यह था मामला
50 साल कांग्रेस में रहे व इस बार निर्दलीय जीतकर भाजपा में शामिल होकर पालिकाध्यक्ष चुने गए हरिनारायण महंत का 9 फरवरी को पद ग्रहण समारोह था। समारोह में ईओ रजत जैन के समारोह में नहीं आये व कार्यक्रम को राजनीतिक बताते हुए वे अपने कक्ष में ही रहे। इस पर पूर्व विधायक झाबर सिंह खर्रा ने उन्हें खरी खोटी सुना दी। जिससे पालिका परिसर में गहमा गहमी का माहौल हो गया था। इसी के विरोध में कांग्रेसी पार्षद व पालिका कर्मचारी शुक्रवार को प्रदर्शन पर उतर आए। जिसमें उन्होंने पालिकाध्यक्ष व पूर्व विधायक व अन्य के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर मुख्यमंत्री, विधायक श्रीमाधोपुर, जिला कलक्टर व जिला पुलिस अधिक्षक सीकर, अध्यक्ष नगर पालिका श्रीमाधोपुर के नाम का ज्ञापन तहसीलदार महिपाल सिंह को व थानाधिकारी श्रीमाधोपुर के नाम का ज्ञापन एसआई कैलाश चन्द को देकर कार्रवाई करने की मांग की।
इनका कहना है...
पालिका के सचिव ने नगर पालिका के नवनिर्वाचित पार्षदों व अध्यक्ष के साथ जिस प्रकार का उपेक्षापूर्ण व अपमानजनक व्यवहार किया वो किसी भी सूरत में बर्दाश्त नही किया जाएगा। आम जनता के पैसे से वेतन मिलता है तो उसे जनता का नौकर बनकर रहना होगा अगर वो अपने आप को ज्यादा होशियार समझता है तो नौकरी छोडकर राजनीति या अन्य फिल्ड में आ जाए।
झाबर सिंह खर्रा, पूर्व विधायक, श्रीमाधोपुर

Suresh Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned