किसान आंदोलन के पूरे 100 दिन... अब और मुखर होगा विरोध!

Full 100 days of Kisan agitation now there will be more opposition

छह मार्च को कृषि कानूनों के विरोध में किसान आंदोलन के सौ दिन पूरे हो रहे हैं। इस दिन किसान घरों पर काले झंडे लगा व काली पट्टी बांध जताएंगे विरोध।

By: Gaurav

Published: 05 Mar 2021, 07:21 PM IST

-छह मार्च को कृषि कानूनों के विरोध में किसान आंदोलन के सौ दिन हो रहे पूरे

-किसान घरों पर काले झंडे लगा व काली पट्टी बांध जताएंगे विरोध।
- एमएसपी दिलाओ अभियान शुरू
- शाहजहांपुर- खेडा बॉर्डर पर किसानों का आंदोलन जारी
सीकर.कृषि कानूनों को रद्द करने के विरोध में चल रहे किसानों के आंदोलन को छह मार्च को सौ दिन हो जाएंगे। इस दौरान किसानों की मांगों की लगातार उपेक्षा की गई गई है। इस लिए छह मार्च को देश मे सरकारी दमन के विरोध दिवस के तौर पर मनाया जाएगा। इस दिन किसान और वे सब लोग जो आंदोलन के साथ है,अपने घरों पर काले झंडे लगाएंगे तथा काली पट्टी बांधेंगे। यह निर्णय शुक्रवार को शाहजहांपुर बोर्डर पर संयुक्त किसान मोर्चा की आमसभा में किया गया। इस दौरान दिल्ली के चारों ओर केएमपी रोड को सुबह ग्यारह बजे से चार बजे तक जाम किया जाएगा। आठ मार्च को महिला दिवस है उस सभी मोर्चा पर महिला किसान एकत्र होकर आंदोलन में शरीक होंगी। पंद्रह मार्च को देश के श्रमिक, कर्मचारी व किसान मिलकर केंद्र सरकार की किसान मजदूर विरोधी नीतियों के खिलाफ मिलकर देश व्यापी विरोध प्रकट करेंगे।


अब एमएसपी अभियान शुरू
आंदोलन के दौरान किसानो ने शुक्रवार से एम एस पी दिलवाओ अभियान की शुरुआत की। शाहजहांपुर-खेड़ा बॉर्डर पर आमसभा को संबोधित करते हुए किसानों ने कहा कि देश के असली मालिक किसान है। इसलिए देश में कृषि नीति का निर्माण बिना किसान प्रतिनिधियों के बिना करना गलत है। सभा को राजा राम मील, अभय सिंह, सुखराज मान, काला मंडार, इक़बाल सिंह वजीग, चिमनाराम पांडर, किशन पारीक, लक्ष्मण सिंह गोंडा, उमराव सिंह , मास्टर शेर सिंह, मेजर सिंह मंटरा, रण सिंह राजगढ़, गीता सैनी, भोलाराम शर्मा, पाल सिंह खरलिया, गजराज सिंह, महेश श्रीवास्तव, जगदीश शर्मा, राजेन्द्र गोदारा, ज्ञानी राजवीर सिंह, राकेश विश्नोई, सुभाष यादव, ईशा शर्मा, छाजूराम रावत ने सम्बोधित किया। संचालन निर्मल प्रजापत ने किया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned