Ganesh Chaturthi Special: 9 पीढ़ी पूजी गई गणेश मूर्ति रावरानी की मौत के साथ हो गई थी गायब, 45 साल से दफन है राज

सचिन माथुर
सीकर. गणेश चतुर्थी पर घरों से मंदिरों तक शुक्रवार को भगवान गणेश का प्राकट्योत्सव मनाया जाएगा। इस बीच हम आपको 'गणेशजी' के गायब होने की अनूठी दास्तां बता रहे हैं। जो 45 साल से अब भी राज बना हुआ है।

By: Sachin

Published: 10 Sep 2021, 01:30 PM IST

सीकर. गणेश चतुर्थी पर घरों से मंदिरों तक शुक्रवार को भगवान गणेश का प्राकट्योत्सव मनाया जाएगा। इस बीच हम आपको 'गणेशजी' के गायब होने की अनूठी दास्तां बता रहे हैं। जो 45 साल से अब भी राज बना हुआ है। ये किस्सा सीकर के पूर्व राजघराने की एक चांदी की गणेश मूर्ति का है। जिसे देखकर ही भोजन करने की रावरानियों की 9 पीढिय़ों तक की एक लंबी परंपरा चली। लेकिन, जिस दिन अंतिम रावरानी स्वरूप कंवर (जोधीजी) ने अंतिम सांस ली, उसी दिन वह मूर्ति भी गायब हो गई।

इतिहासकार महावीर पुरोहित बताते हैं कि सीकर के दूसरे राजा शिवसिंह का विवाह संवत 1778 यानी सन 1721 के आसपास हुआ था। उनकी रानी बीदासर निवासी बिदावतजीका को पिता भाव सिंह ने 16 सेर यानी करीब 15 किलो चांदी की मूर्ति उपहार में दी थी। जिसकी पूजा करने के बाद ही रानी भोजन करती थी। अपनी मृत्यु से पहले उन्होंने आगे भी राजरानियों से इस परंपरा को निभाने की इच्छा जाहिर की। जिसके बाद राजा समर्थ सिंह, नाहर सिंह, चांद सिंह, देवी सिंह, लक्ष्मणसिंह, रामप्रताप सिह, भैरुं सिंह, माधव सिंह व रावराजा कल्याण सिंह तक की 9 पीढिय़ों की रानियों ने गणेश मूर्ति की पूजा के बाद ही भोजन की उस परंपरा को 250 से भी ज्यादा वर्षों तक निभाया। लेकिन 1976 में कल्याणसिंहजी की रावरानी स्वरूप कंवर (जोधीजी) के निधन के दिन ही वह मूर्ति गायब हो गई।


अंतिम संस्कार से पहले अंतिम दर्शन

गणेशजी की मूर्ति के अंतिम दर्शन रावरानी स्वरूप कंवर के अंतिम संस्कार से पहले ही हुए। रावरानी की अंत्येष्टि के बाद से ही वह मूर्ति राजमहल में नहीं दिखी। मूर्ति गायब होने पर युवराज हरदयाल सिंह की रानी त्रेलोक्य को नजदीकी लोगों ने मूर्ति चोरी का मुकदमा दर्ज कराने की सलाह भी दी। लेकिन, उन्होंने किसी को बेवजह आरोपी बनाने की बात कहते हुए उसे टाल दिया।


प्रत्यक्षदर्शियों ने बयां की थी घटना

इतिहासकार पुरोहित के अनुसार सरवड़ी के अर्जुन सिंह रावजीका, खोरी के किशोर सिंह परसरामजीका व बड़ीपुरा निवासी लादूसिंह परसरामजीका गणेश मूर्ति के प्रत्यक्षदर्शी थे। एडीसी पद पर होने की वजह से उनका रानिवास में आना- जाना था। ऐसे में वे भी गणेश मूर्ति के दर्शन करते थे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned