राजस्थान के छह हजार बेरोजगारों का पूरा होगा सरकारी नौकरी का सपना, शिक्षा विभाग ने किया जिला आवंटन

कनिष्ठ सहायक संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा 2018 के चयनित अभ्यर्थियों का नौकरी का सपना आखिरकार पूरा हो रहा है। शिक्षा विभाग ने 6100 अभ्यर्थियों को जिला आवंटन कर दिया है।

By: Sachin

Published: 29 Jun 2020, 09:50 AM IST

सीकर. कनिष्ठ सहायक संयुक्त प्रतियोगी परीक्षा 2018 के चयनित अभ्यर्थियों का नौकरी का सपना आखिरकार पूरा हो रहा है। शिक्षा विभाग ने 6100 अभ्यर्थियों को जिला आवंटन कर दिया है। माध्यमिक शिक्षा निदेशक ने टीएसपी व नॉन टीएसपी क्षेत्र के लिए अलग-अलग सूची जारी की है। सूची में नॉन टीएसपी क्षेत्र के 5707 व टीएसपी क्षेत्र के 418 अभ्यर्थी शामिल हैं। पहले प्रशासनिक सुधार विभाग की ओर से यह कवायद की गई थी, लेकिन अभ्यर्थियों की लगातार शिकायतों के बाद मुख्यमंत्री ने नए सिरे से कवायद करने के निर्देश दिए थे। इसके बाद शिक्षा विभाग ने अब अभ्यर्थियों को नए नियमों को आधार मानते हुए जिला आवंटन किया है। अब विभाग की ओर से चयनित अभ्यर्थियों के लिए स्कूलों का आवंटन किया जाएगा। इसके बाद विभाग की ओर आपत्ति मांगी जाएगी। यदि किसी अभ्यर्थी की आपत्ति सही मिली तो उसका जिला आवंटन नए सिरे से होगा।


विवादों से बाहर आने में लगा एक साल


भर्ती की विज्ञप्ति वर्ष 2018 में जारी हुई थी, लेकिन भर्ती के नियमों की वजह से मामला विवादों में आ गया। एक बार भर्ती को न्यायालय में भी चुनौती दी गई। आखिरकार दो साल बाद अभ्यर्थियों के सपने धरातल पर आए हैं।


पहले यह चूक: रिक्त पदों से ज्यादा आवंटन

सीकर में कनिष्ठ सहायक के 60 पद ही रिक्त हैं, लेकिन प्रशासनिक सुधार विभाग की ओर से पहले 270 अभ्यर्थी आवंटित कर दिए। इसी तरह चूरू, झुंझुनूं, अजमेर, नागौर सहित अन्य जिलों में भी रिक्त पदों से ज्यादा अभ्यर्थी अलॉट कर दिए। ऐसे में खुद शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने भी प्रशासनिक सुधार विभाग में आपत्ति दर्ज कराई थी।


अब यह रहेगा शैड्यूल


जिला स्तर पर काउसंलिंग की तैयारी: 28 जून से 4 जुलाई तक

जिला स्तर पर काउंसलिंग: पांच जुलाई से 14 जुलाई तक
परिवेदना देने का समय: कार्यग्रहण के अधिकतम 15 दिन में

परिवेदनाओं का निपटारा: अधिकतम एक महीने में

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned