सीकर: इस गांव में मिला ग्रेनेड सन् 1959 में बनाया गया था, पुलिस को शक है पूर्व सैनिकों पर...

vishwanath saini

Publish: Sep, 17 2017 02:22:17 (IST)

Sikar, Rajasthan, India
सीकर: इस गांव में मिला ग्रेनेड सन् 1959 में बनाया गया था, पुलिस को शक है पूर्व सैनिकों पर...

सीकर के इस गांव में मिला ग्रेनेड सन् १९५९ में बनाया गया था। अब पुलिस की जांच पूर्व सैनिकों पर अटक गई है।

सीकर.

भढाढऱ के पास खेत में सेना का हथगोला मिलना शेखावाटी अंचल में चिंता का विषय है। अंचल में ऐसा पहली बार नहीं हुआ है। झुंझुनूं जिले के किशोरपुरा की पहाड़ी में छह वर्ष पहले 13 हथगोले मिल चुके हैं। करीब चार वर्ष पहले नेछवा इलाके में पुलिस को सेना का बम मिला था।


यह बम सेना जमीन में दबाकर दुश्मन के बम उड़ाने में काम लेती है, लेकिन हर मामले में पुलिस की जांच पूर्व सैनिक की ओर से फैंके जाने पर जाकर अटक गई। इस मामले में पुलिस का मानना है कि इस हथगोले को कोई पूर्व सैनिक ही लेकर आया था।


बाद में उसे फैंक दिया गया। ऐसे में माना जा सकता है कि सेवाकाल के दौरान अंचल के कई पूर्व सैनिक सेना से हथियार लेकर आ गए और अब पुलिस कार्रवाई से बचने के लिए उन्हें फैंक दिया जाता है।


बम निरोधक दस्ते ने किया निष्क्रिय


सदर थाने में रखे गए हथगोले को शनिवार को बम निरोधक दस्ते ने निष्क्रिय कर दिया। शुक्रवार को खेत में मिले हथगोले को थाने में गड्ढ़ा खोदकर रखवाया गया था। पुलिस को अभी तक यह पता नहीं चल पाया है कि हथगोला यहां पर कैसे पहुंचा। पुलिस क्षेत्र के पूर्व सैनिकों से इस संबंध में जांच कर रही है।

1959 का बना है हथगोला


भढाढऱ के पास मिला हथगोला वर्ष 1959 का बना हुआ है। यह पूना की कंपनी की ओर से बनाया गया है। यह कंपनी सेना को हथगोले बनाकर देती है। हथगोले का डेटोनेटर और फ्यूज निकाला गया था। वर्ष 1961 और 1971 के युद्ध के दौरान सेना में हथियारों को लेकर इतनी पाबंदी नहीं थी। कई सैनिक वहां से हथियार भी लेकर आ गए।

इनका कहना है...
हथगोला फैंकने वाले का अभी तक पता नहीं चल पाया है। क्षेत्र के पूर्व सैनिकों से इस संबंध में पता करवाया जा रहा है। बम निरोधक दस्ते ने इसे निष्क्रिय कर दिया है। हथगोला वर्ष 1959 का बना हुआ है। ऐसे में आशंका है कि कोई सैनिक सेवाकाल के दौरान इसे घर ले आया। अब इसे खेत में फैंक दिया गया। जांच के बाद ही स्थिति स्पष्ट होगी। -मुस्ताक खां, थानाधिकारी, सीकर सदर

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned