scriptHigher education with the help of jugaad | Spotlight: जुगाड़ के सहारे उच्च शिक्षा, हॉस्टल तो कहीं स्कूल में चल रहे कॉलेज | Patrika News

Spotlight: जुगाड़ के सहारे उच्च शिक्षा, हॉस्टल तो कहीं स्कूल में चल रहे कॉलेज

प्रदेश में बेहतर उच्च शिक्षा का सपना देखने वाले विद्यार्थियों की उम्मीद अभी भी जुगाड़ के भंवरजाल में फंसी है।

सीकर

Published: March 04, 2022 01:03:01 pm

अजय शर्मा
सीकर. प्रदेश में बेहतर उच्च शिक्षा का सपना देखने वाले विद्यार्थियों की उम्मीद अभी भी जुगाड़ के भंवरजाल में फंसी है। जहां प्रदेश में निजी कॉलेजों की स्थापना के लिए भूमि रूपान्तरण, स्टाफ, भवन, खेल मैदान, पुस्तकालय सहित अन्य मापदंड पूरे होने पर ही मान्यता दी जाती है। वहीं सरकारी कॉलेजों की स्थापना में नियमों को पूरी तरह ताक पर रखा जा रहा है। सरकार ने पिछले तीन साल में 191 राजकीय महाविद्यालय खोलने की घोषणा तो कर दी, लेकिन इनके धरातल की नींव बेहद खोखली है। सरकार की ओर से अब तक तीन बजट घोषणा के हिसाब से 155 कॉलेज खोले भी हैं, लेकिन एक भी महाविद्यालय को मापदंडों के हिसाब से न तो भवन मिले और ना ही शिक्षक। खामियाजा प्रदेश के 1.70 लाख से अधिक विद्यार्थियों को भुगतना पड़ रहा है। जुगाड़ के सहारे संचालित यह कॉलेज कहीं स्कूल भवन तो कहीं हॉस्टल में संचालित हो रहे हैं। दरअसल, सरकार ने पिछले विधानसभा चुनाव के दौरान हर उपखंड मुख्यालय पर सरकारी कॉलेज खोलने की घोषणा की थी। विपक्ष के मुद्दा बनाने पर सरकार ने कॉलेज खोलने की झड़ी तो लगा दी लेकिन विद्यार्थियों की परेशानी की किसी को कोई फिक्र नहीं है।

स्पॉट लाइट: जुगाड़ के सहारे उच्च शिक्षा, हॉस्टल तो कहीं स्कूल में चल रहे कॉलेज
स्पॉट लाइट: जुगाड़ के सहारे उच्च शिक्षा, हॉस्टल तो कहीं स्कूल में चल रहे कॉलेज

विवि भी तरस रहे भवनों को : तीन खोले एक का भी नहीं बना भवन

तीन साल में तीन नए विवि खोले गए, लेकिन एक का भी भवन निर्माण का काम पूरा नहीं हुआ है। पत्रकारिता विवि की चारीदवारी अभी पूरी हुई है। भवन निर्माण का कार्य पिछले दिनों शुरू होने का दावा किया गया। विधि विवि के भवन निर्माण के लिए मामला निविदा में उलझा हुआ है। एमबीएम विवि को भी भूमि व भवन का मामला अभी प्रक्रियाधीन है।


28 कृषि, आयुर्वेद व पॉलिटेक्निक कॉलेजों में इंतजार
सरकार ने आनन-फानन में 14 कृषि महाविद्यालयों की घोषणा कर दी, लेकिन एक भी कॉलेज में भवन निर्माण का काम पूरा नहीं हो सका। चार पॉलिटेक्निक व दस आयुर्वेद कॉलेजों में भवन निर्माण का काम अधूरा है। चार पशु विज्ञान महाविद्याल व एक संस्कृत कॉलेज भी भवन को तरस रहे हैं।


यह है सरकारी दावों की हकीकत

केस एक : 615 को पढ़ाने के लिए पांच ही शिक्षक
सीकर के पाटन में कॉलेज खोला। पहले इलाके के विद्यार्थियों को नीमकाथाना जाना पड़ता था। लेकिन अब विद्यार्थी यहीं दाखिला ले रहे हैं। नामांकन इस साल 615 विद्यार्थियों का है, लेकिन तीन स्थायी शिक्षक के भरोसे विद्यार्थियों का भविष्य है। पिछले दिनों सरकार ने विद्या सम्बल योजना के तहत दो अस्थाई पदों पर प्राध्यापक लगाए। अब भी दो पद खाली है।

केस दो : छात्रावास में कॉलेज, स्थायी प्राध्यापक दो
नवम्बर 2021 में सरकार ने पूर्व शिक्षा मंत्री मास्टर भंवरलाल मेघवाल की स्मृति में सुजानगढ़ में राजकीय कन्या कॉलेज शुरू किया। भवन नहीं होने से फिलहाल महाविद्यालय का संचालन पूनमचंद बगडिय़ा छात्रावास से हो रहा है। नामांकन भी 196 तक पहुंच गया। यहां दो स्थायी प्राध्यापक ही नियुक्त है। विद्या सम्बल योजना के तहत चार अस्थाई प्राध्यापक कार्यरत है। जबकि कुल स्टाफ 21 का स्वीकृत है।

केस तीन : स्कूल में कॉलेज, कैसे मिले बेहतर शिक्षा
लोसल में भी राजकीय महाविद्यालय शुरू किया गया। यहां भी भवन नहीं होने से राजकीय स्कूल में ही कॉलेज संचालित है। स्टाफ व अन्य संसाधनों की कमी से विद्यार्थियों की पढ़ाई बाधित हो रही है। यहां 373 से अधिक विद्यार्थी महज चार शिक्षकों के भरोसे है।

विद्यार्थियों का दर्द : कैसे होंगे सपने पूरे...

नए सरकारी कॉलेजों में अध्ययनरत प्रिया कुमारी, रामकुमार ने बताया कि सरकारी कॉलेज में प्रवेश मिलने की खुशी तो है लेकिन स्टाफ नहीं होने से परेशानी भी है। भविष्य में प्रशासनिक सेवाओं की तैयारी करनी है। जब उच्च शिक्षा की नींव ही कमजोर होगी तो कैसे भविष्य सुनहरा होगा।

देश में उच्च शिक्षा की यह तस्वीर
1. सात फीसदी में स्टाफ कम

केन्द्र सरकार की ओर से स्थापित किए जाने वाले केन्द्रीय विश्वविद्यालयों में भी स्वीकृत पदों के मुकाबले सात फीसदी तक स्टाफ कम है। सरकार का दावा है कि जुलाई 2022 तक सभी रिक्त पदों को भर दिया जाएगा। आइआइटी व आइआइएम सहित अन्य उच्च शिक्षण संस्थाओं में यह आंकड़ा 2 फीसदी ही है।

2. केरल, महाराष्ट्र व दिल्ली में पहले संसाधन फिर कॉलेज

केरल, महाराष्ट्र व दिल्ली सहित 9 राज्यों में सरकारी कॉलेज को भी अनुमति तब ही मिलती है जब पहले भवन सहित अन्य संसाधन तय हो जाते हैं। जबकि राजस्थान में उलट स्थिति है।


फैक्ट फाइल
कॉलेजों की घोषणा : 191

शुरू हुए: 155
भवन निर्माण के लिए बजट नहीं : 50

20 फीसदी तक काम पूरा : 68 कॉलेज
50 फीसदी काम पूरा : 6

विवि जिनको भवन नहीं : 3
कृषि कॉलेजों को भवन नहीं : 28

एक्सपर्ट व्यू : विस्तार अच्छा, लेकिन संसाधन भी दें सरकार

उच्च शिक्षा का विस्तार होना अच्छी बात है। लेकिन बिना संसाधनों के कॉलेज खोलना गलत है। सरकार की 72 कॉलेजों को सोसायटी के जरिए चलाने का दावा किया जा रहा है। अभी तक कोई रोडमैप तय नहीं है। स्टाफ की भर्ती नहीं होने से दूसरे कॉलेज भी प्रभावित हो रहे हैं।
सुशील कुमार विस्सू, महामंत्री, रूक्टा राष्ट्रीय

दोहरी नीति से विद्यार्थियों को नुकसान

निजी व सरकारी कॉलेज की स्थापना के लिए अलग-अलग कायदे होने का नुकसान विद्यार्थियों को हो रहा है। निजी कॉलेजों में बिना भूमि रूपान्तरण और भवन के अनुमति नहीं दी जाती। जबकि सरकारी कॉलेज बिना संसाधनों के खोले जा रहे हैं।
कमल सिखवाल, कॉलेज संचालक, सीकर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

Thailand Open: PV Sindhu ने वर्ल्ड की नंबर 1 खिलाड़ी Akane Yamaguchi को हराकर सेमीफाइनल में बनाई जगहIPL 2022 RR vs CSK Live Updates: रोमांचक मुकाबले में राजस्थान ने चेन्नई को 5 विकेट से हरायासुप्रीम कोर्ट में अपने लास्ट डे पर बोले जस्टिस एलएन राव- 'जज साधु-संन्यासी नहीं होते, हम पर भी होता है काम का दबाव'ज्ञानवापी मस्जिद केसः सुप्रीम कोर्ट का सुझाव, मामला जिला जज के पास भेजा जाए, सभी पक्षों के हित सुरक्षित रखे जाएंशिक्षा मंत्री की बेटी को कलकत्ता हाई कोर्ट ने दिए बर्खास्त करने के निर्देश, लौटाना होगा 41 महीने का वेतनCBI रेड के बाद तेजस्वी यादव ने केंद्र सरकार पर कसा तंज, कहा - 'ऐ हवा जाकर कह दो, दिल्ली के दरबारों से, नहीं डरा है, नहीं डरेगा लालू इन सरकारों से'Ola-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार के लिए भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाईHyderabad Encounter Case: सुप्रीम कोर्ट के जांच आयोग ने हैदराबाद एनकाउंटर को बताया फर्जी, पुलिसकर्मी दोषी करार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.