घर बना तंदूर, सडक़ें भट्टी

घर बना तंदूर, सडक़ें भट्टी

Puran Singh Shekhawat | Publish: May, 01 2019 09:15:03 PM (IST) | Updated: May, 01 2019 09:15:04 PM (IST) Sikar, Sikar, Rajasthan, India

शेखावाटी में कई दिन से तापमान 40 डिग्री के पार
दिन के साथ अब रात में लू का कहर

पिलानी 42.5 डिग्री, चूरू 42.4 फतेहपुर 40 डिग्री

 



सीकर. शेखावाटी अंचल में बैसाख महीने में पड़ रही भीषण गर्मी से लोग झल्ला उठा हैं। पिछले कई दिन से 40 डिग्री से ज्यादा तापमान होने से हालात यह है कि न तो घर में चैन मिल रहा है और न ही बाहर। सडक़ें भट्टी की तरह तप रही हैं और घर तंदूर की तरह। सुबह होते ही कुछ देर बाद आसमान से आग बरसने लगती है। वहीं तपन के साथ उमस भरी गर्मी से अंचलवासी बेहाल हो गए। इधर मौसम विभाग का कहना है कि बुधवार देर रात तक प्रदेश में मौसम पलटा खाएगा। इस दौरान 30 से 40 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चलेगी। आकाशीय गर्जना के साथ बिजली भी गिर सकती है। दोपहर में शहर के प्रमुख स्थानों और सडक़ों पर अघोषित कफ्र्यू जैसी स्थिति रहने लगी है। गर्मी की प्रचंडता का इसी से अनुमान लगाया जा सकता है कि पंखे की हवा लू की तरह लगती और कूलर राहत नहीं दे पा रहा। पिलानी में अधिकतम तापमान 42.5 डिग्री और न्यूनतम तापमान 23.9 डिग्री रहा। चूरू में अधिकतम तामपान 42.4 डिग्री व न्यूनतम तापमान 26.4 डिग्री और फतेहपुर कृषि अनुसंधान केन्द्र पर अधिकतम तापमान 40 डिग्री और न्यूनतम तापमान 23 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।


आज बदलेगा मौसम

मौसम विभाग के अनुसार बुधवार को प्रदेश के पश्चिमी और पूर्वी जिलों में मौसम पलट जाएगा। इस दौरान प्रदेश के चूरू, नागौर, बीकानेर, हनुमानगढ़, श्रीगंगानगर, जोधपुर जिला और पूर्वी राजस्थान के सीकर और झुंझुनूं जिले में मौसम में उलटफेर रहेगा।

दिनभर चले लू के शूल
शेखावाटी के तीनों जिलों में दिन चढऩे के साथ बढ़ी गर्मी दोपहर में परवान पर रही। सूरज की तेज किरणों के साथ लू के थपेड़ों ने लोगों को झुलसा दिया है। छांव में खड़े होने पर भी तपिश का अहसास हुआ। तेज गर्मी से पशु पक्षी सहित लोग निढाल हो गए। दोपहर बाद आंशिक बादलवाही व हवाओं की गति बदली लेकिन गर्मी के तेवर बरकरार रहे। लू से बचने के लिए लोगों ने सिर पर तौलिया रखा और मुंह पर स्कार्फ बांधकर बचाव किया। दोपहर में करीब छह किलोमीटर प्रतिघंटा की गति से गर्म हवाएं चली।


यात्रियों ने मोड़ा मुंह

तेज गर्मी और लू से लोग अब यात्रा करने से कतरा रहे हैं। केन्द्रीय बस स्टैंड से रोडवेज बसें दिन के समय अधिकांशतया खाली ही चल रही है। तेज गर्मी को देखते हुए यात्रियों ने दिन की यात्रा से मुंह मोड़ लिया है। अप्रेल माह के दूसरे पखवाड़े में बसों में करीब 80 प्रतिशत तक यात्री भार था। इसके बाद यात्री भार घट कर करीब 58-70 प्रतिशत रह गया है। मजबूरी में दिन की यात्रा करने वाले यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। स्थिति यह है कि बस के शीशे खोलते हैं तो लू के थपेडे लगते हैं और बंद करते हैं तो शरीर पसीने से तरबतर हो जाता है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned