scriptIdentity of Khandela who is getting goat from Surat 10101 | खास खबर: सूरत से गोटा मंगवा कायम रख रहे खंडेला की पहचान | Patrika News

खास खबर: सूरत से गोटा मंगवा कायम रख रहे खंडेला की पहचान

-आत्मनिर्भर खंडेला अब सूरत पर निर्भर, दम तोड़ रहा खंडेला का गोटा उद्योग, कभी सूरत जाता था..अब वहां से खंडेला आता है गोटा

सीकर

Published: December 30, 2021 11:16:09 am

आशीष जोशी
सीकर. यह एक आत्मनिर्भर उद्योग और कस्बे की अजीब दास्तां है। कभी देश भर में गोटा-पत्ती व बूटा की आपूर्ति करने वाला सीकर जिले का खंडेला (Sikar Khandela) अब खुद अपनी पहचान कायम रखने के लिए जद्दोजहद कर रहा है। दो-तीन दशक पहले तक घर-घर में नजीर बिसायती का यह ‘स्टार्ट अप्य’ परवान पर था, लेकिन सरकारी उदासीनता व बेरूखी के कारण खंडेला का गोटा उद्योग (Khandela gota industry) मरणासन्न स्थिति में आ गया है। पहले यहां हजारों मशीनें चला करती थीए अब गिनती की रह गई हैं। ऐसे में यहां के व्यापारियों ने सूरत से फैंसी गोटा मंगवाना शुरू किया। ताकि गोटा खरीदने आसपास के शहरों से खंडेला आने वाले लोगों की आस नहीं टूटे और इस कस्बे की पहचान कायम रहे। यहां सालाना तीन करोड़ का गोटा सूरत से आ रहा है। (Gotta of three crores is coming from Surat annually) जबकि पहले यहां तैयार होने वाला फू ल-पत्ती व स्टार सहित पारंपरिक डिजाइन का गोटा राजस्थान के अलावा दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, गुजरात, उत्तर प्रदेश सहित अनेक राज्यों के बड़े शहरों में जाता था।

सौ वर्ष पुराना उद्योगए 70 फ ीसदी आबादी जुड़ी थी
लगभग सौ वर्ष पूर्व यहां के नजीर बिसायती ने शहर से गोटा लाकर बेचना शुरू किया था। बादमें उन्होंने एक गोटा मशीन लगाकर गोटे का उत्पादन शुरू किया। धीरे.धीरे यहां मशीनों की संख्या बढऩे लगी। एक व्यक्ति 8 से 10 मशीन चला लेता था। कस्बे की 70 फीसदी से ज्यादा आबादी इस उद्योग से जुड़ी थी।

कबाड़ हो रही मशीनें
कस्बे की अधिकांश मशीनें अब कबाड़ बन चुकी हैं। मजबूरन कई व्यापारियों ने बिजली के व्यावसायिक कनेक्शनों को बंद करवा दिया। कइयों ने उन्हें घरेलू में तब्दील करवा दिया। पहले जहां दस से पन्द्रह हजार मशीनें चलती थी। अब उनकी संख्या घटकर सौ से भी कम रह गई हैं।

इस कारण बंद होने की कगार पर
. सूरत की अत्याधुनिक मशीनरी से फैंसी गोटे की डिजाइन में नित नए बदलाव।
. यहां नई मशीनें लगाने के लिए सरकारी सहायता व प्रशिक्षण का अभाव।
. महंगी होती बिजलीए सुविधाओं की कमी।
. कारीगरों को नहीं मिली नई तकनीक की जानकारी।
. खंडेला की बड़े शहरों से कमजोर कनेक्टिविटी

यों बच सकता है हमारा उद्योग
. नई डिजाइन व तकनीक की जानकारी के लिए प्रशिक्षण शिविर का आयोजन।
. उद्योग को मिले सरकारी अनुदान व प्रोत्साहन।
. बिजली की दरों में रियायत।
. गोटा उत्पादन के बाद निर्यात के लिए बेहतर इंतजाम।

उद्योग मंत्री ने जगाई उम्मीद
खंडेला के गोटा उद्योग की देश-दुनिया में पहचान थी। यहां के घर-घर में मशीनें लगी हुई थी। मशीनीकरण के साथ बाजार की प्रतिस्पर्धा में पिछडऩे की वजह से खंडेला के गोटा उद्योग पर संकट आ गया। यदि सरकार इस उद्योग को दुबारा से प्रोत्साहित करें तो स्थानीय लोगों को रोजगार मिलने के साथ सरकार को राजस्व भी मिल सकता है। पिछले दिनों जिले की प्रभारी मंत्री शकुंतला रावत को इस समस्या के बारे में बताया था। वे उद्योग वाणिज्य मंत्री भी हैं। वे इस उद्योग को संजीवनी दिलाने के लिए प्रयास कर रही हैं।
महादेव सिंह, विधायक, खंडेला

खास खबर: सूरत से गोटा मंगवा कायम रख रहे खंडेला की पहचान
खास खबर: सूरत से गोटा मंगवा कायम रख रहे खंडेला की पहचान

इसे सरकारी अनुदान, अत्याधुनिक मशीनरी और प्रशिक्षण की दरकार है। सरकार इस उद्योग को संरक्षण दे तो न केवल खंडेला आत्मनिर्भर बन सकता हैए बल्कि आसपास के कई शहरों के युवाओं को रोजगार मिलेगा।
सुरेंद्र जैन, अध्यक्ष, व्यापार महासंघ खण्डेला

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

किसी भी महीने की इन तीन तारीखों में जन्मे बच्चे होते हैं बेहद शार्प माइंड, लाइफ में करते हैं बड़ा कामपैदाइशी भाग्यशाली माने जाते हैं इन 3 राशियों के बच्चे, पिता की बदल देते हैं तकदीरइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथ7 दिनों तक मीन राशि में साथ रहेंगे मंगल-शुक्र, इन राशियों के लोगों पर जमकर बरसेगी मां लक्ष्मी की कृपादो माह में शुरू होने वाला है जयपुर में एक और टर्मिनल रेलवे स्टेशन, कई ट्रेनें वहीं से होंगी शुरूपटवारी, गिरदावर और तहसीलदार कान खोलकर सुनले बदमाशी करोगे तो सस्पेंड करके यही टांग कर जाएंगेआम आदमी को राहत, अब सिर्फ कमर्शियल वाहनों को ही देना पड़ेगा टोल15 जून तक इन 3 राशि वालों के लिए बना रहेगा 'राज योग', सूर्य सी चमकेगी किस्मत!

बड़ी खबरें

ज्ञानवापी मस्जिद: नौ तालों में कैद वजूखाना, दो शिफ्टों में निगरानी कर रहे CRPF जवान, महंतो का नया दावापाकिस्तान व चीन बॉडर पर S-400 मिसाइल तैनात करेगा भारत, जानिए क्या है इसकी खासियतप्रयागराज में फिर से दिखा लाशों का अंबार, कोरोना काल से भयावह दृश्य, दूर-दूर तक दफ़नाए गए शव31 साल बाद जेल से छूटेगा राजीव गांधी का हत्यारा, सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेशगुजरातः चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, हार्दिक पटेल ने दिया इस्तीफा, BJP में शामिल होने की चर्चाकान्स फिल्म फेस्टिवल में राजस्थान का जलवा, सीएम गहलोत ने जताई खुशीऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड का बड़ा फैसला, ज्ञानवापी सर्वे मामले को टेक ओवर करेगा बोर्डआतंकियों के निशाने पर RSS मुख्यालय, रेकी करने वाले जैश ए मोहम्मद के कश्मीरी आतंकी को ATS ने किया गिरफ्तार
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.