scriptIn sikar Free investigation entangled in the misunderstanding | आदेशों की गफलत में उलझी निशुल्क जांच, मरीज हो रहे परेशान | Patrika News

आदेशों की गफलत में उलझी निशुल्क जांच, मरीज हो रहे परेशान

घोषणा के बाद भी कल्याण अस्पताल मे सीटी और एमआरआई के लग रहे रुपए

सीकर

Published: April 06, 2022 08:31:18 pm

सीकर। एक ओर सरकार सरकारी अस्पताल में आने वाले मरीजों की पर्ची लेकर सभी जांच निशुल्क करने की वाह-वाही लूट रही है लेकिन सीकर जिला अस्पताल में इन आदेशों को दरकिनार किया जा रहा है। इसकी बानगी मंगलवार को कल्याण अस्पताल में देखने को मिली। जहां आउटडोर में आने वाली एक तीस वर्ष की महिला के सिर की सीटी के लिए 1100 रुपए का शुल्क लिया गया। जिसकी दिन भर कल्याण अस्पताल में चर्चा रही। इधर अस्पताल प्रबंधन के अनुसार सरकार ने जांच और पंजीयन शुल्क को निशुल्क करने की घोषणा तो कर दी लेकिन पीपीपी मोड पर जांच कर रही एजेंसी को भुगतान करने के लिए अलग से बजट का प्रावधान नहीं किया है। इस कारण आउटडोर में आने वाले मरीजों की सीटी व एमआरआई जैसी जांच को बेहद जरूरत होने पर अधीक्षक की अनुमति से निशुल्क किया जा रहा है। इसके अलावा निजी अस्पतालों में परामर्श लेने वाले कई मरीज केवल जांच के लिए सरकारी अस्पताल में आ रहे है। चिकित्सकों के अनुसार अस्पताल के आउटडोर में आने वाले मरीज और नर्सिंग स्टॉफ निशुल्क जांच को लेकर चिकित्सकों पर दवाब बनाता है। गौरतलब है कि कल्याण अस्पताल में रोजाना औसतन दो दर्जन से ज्यादा सीटी और एमआरआई की जाती है।
सीकर। घोषणा के बाद भी कल्याण अस्पताल मे सीटी और एमआरआई के लग रहे रुपए
सीकर। घोषणा के बाद भी कल्याण अस्पताल मे सीटी और एमआरआई के लग रहे रुपए
जरूरत हो तो ही करवाए

चिकित्सकों के अनुसार एक्सरे, सोनोग्राफी जैसी जांच के बाद ही मरीज की सिटी स्केन या एमआरआई करवानी चाहिए। चिकित्सकों को एमआरआई और सीटी स्केन के दौरान निकलने वाली विकिरणों से होने वाले संभावित नुकसान के बारे में बताया जाना जरूरी है। जिससे संबंधित मरीज को घातक विकिरणों से बचाया जा सके। इसके बाद कई बार मरीज बिनाकारण ही सीटी स्केन और एमआरआई जांच करवाने की जिद््द करता है। जिससे न केवल जरूरत मंद अन्य मरीजों का समय खर्च होता है। वहीं मरीज के स्वास्थ्य को नुकसान होता है।
इनका कहना है

अस्पताल में एक अप्रेल से सीटी व एमआरआई जैसी महंगी जांच को निशुल्क कर दिया गया है। फिलहाल अप्रेल माह में होने वाली सभी जांच को लेकर डेटा जुटाए जा रहे हैं। एक मई से इस संबंध में स्पष्ट गाइडलाइन आने के बाद सभी जांच पूरी तरह से निशुल्क हो जाएगी। अस्पताल में संचालित सेंटर पर कोइ्र व्यक्ति बाहर से आकर जांच करवाता है तो उसे पाबंद किया जाएगा।
डा महेन्द्र कुमार, अधीक्षक कल्याण अस्पताल

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

Eknath Shinde Property: मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे से 12 गुना ज्यादा अमीर हैं शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे, जानें किसके पास कितनी संपत्तिपश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के आवास में घुसने वाले शख्स ने परिसर को समझ लिया था कोलकाता पुलिस का मुख्यालयबीजेपी नेता कपिल मिश्रा को मिली जान से मारने की धमकी, ईमेल में लिखा - 'हम तुम्हें जीने नहीं देंगे'हैदराबाद के एक कार्यक्रम में भाग लेने पहुंचे RCP सिंह तो BJP में शामिल होने की लगने लगी अटकलें, भाजपा ने कही ये बातप्रदेश के भोपाल, इंदौर समेत 11 नगर निगमों में मतदान 6 को, चुनावी शोर थमाकानपुर मेट्रो: टनल बनाने का काम शुरू, देश को समर्पित करने के विषय में मिली ये जानकारीउदयपुर कन्हैया हत्याकांड का वीडियो सोशल मीडिया पर पोस्ट करने पर युवक गिरफ्तारवरिष्ठता क्रम सही करने आरक्षकों की याचिका पर विभाग को 21 दिन में निर्णय लेने का आदेश
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.