scriptInsurance is not being done for three years due to mutual dispute | केन्द्र व राज्य की आपसी रार में अटकी प्रदेश के पशुपालकों की आस,तीन साल से नहीं हो पा रहा बीमा | Patrika News

केन्द्र व राज्य की आपसी रार में अटकी प्रदेश के पशुपालकों की आस,तीन साल से नहीं हो पा रहा बीमा

केन्द्र व राज्य सरकार की आपसी रार के बीच प्रदेश के पशुपालकों के पशुधन की बीमा की आस भी अटक गई है।

सीकर

Published: March 21, 2022 12:22:42 pm

सीकर. केन्द्र व राज्य सरकार की आपसी रार के बीच प्रदेश के पशुपालकों के पशुधन की बीमा की आस भी अटक गई है। दरअसल, सरकार की ओर से चुनावी घोषणा पत्र से लेकर बजट में पशुपालकों को पशुधन का बीमा कराने की बात कही थी। लेकिन तीन साल बाद भी प्रदेश के पशुपालकों की यह आस अधूरी है। सरकार का दावा है कि केन्द्र सरकार की ओर से तय दरें काफी कम थी। ऐसे में किसी भी कंपनी ने निविदा को लेकर रूचि नहीं दिखाई। पशुपालन विभाग का दावा है कि केन्द्र सरकार की ओर से बद में दरों को संशोधित भी किया गया। लेकिन इसमें देरी होने की वजह से एक साल तक निविदा अटकी रही। सियासी रार की वजह से प्रदेश के पशुधन का तीन साल से बीमा नहीं हो पा रहा है। सरकार का दावा है कि अब बजट में 150 करोड़ का प्रावधान पशुधन के बीमा के लिए किया गया है। इससे छह लाख से अधिक पशुओं का बीमा हो सकेगा। इधर, सैकड़ों पशुपालकों की ओर से अपने खर्चे पर महंगी दरों पर निजी कंपनियों से पशुधन का बीमा कराया जा रहा है।

केन्द्र व राज्य की आपसी रार में अटकी प्रदेश के पशुपालकों की आस,तीन साल से नहीं हो पा रहा बीमा
केन्द्र व राज्य की आपसी रार में अटकी प्रदेश के पशुपालकों की आस,तीन साल से नहीं हो पा रहा बीमा

इसलिए अटकी बीमा
-वर्ष 2018-19 में प्रदेश में पशुधन बीमा के लिए बीमा कंपनियों से आवेदन मांगे गए। लेकिन इस दौरान भारत सरकार की ओर से निर्धारित दरों से अधिक प्रीमियम राशि कंपनियों ने दी। इस वजह से प्रदेश में एक भी पशुधन का बीमाा नहीं हो सका।

- वर्ष 2019-20 में भी पशुधन का बीमा नहीं होने के लिए राज्य सरकार की ओर केन्द्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया गया। पशुपालन विभाग का तर्क है कि केन्द्र सरकार से निर्धारित समय पर राशि प्राप्त नहीं होने के कारण निविदा जारी नहीं की जा सकी।
-वर्ष 2020-21 में किसी भी बीमा कंपनी ने निविदा प्रक्रिया में भाग नहीं लिया गया।

-वर्ष 2021-22 में केन्द्र सरकार ने संशोधित प्रीमियम दर जारी कर दी। लेकिन महज एक कंपनी की ओर से निविदा फार्म भरा गया। इस कंपनी ने भी महज जयपुर व अजमेर संभाग के लिए आवेदन किया।


अब 6 लाख पशुओं के बीमे का दावा
पशुपालकों के पशुधन के बीमा की मांग उठने पर सरकार की ओर से इस बार बजट में छह लाख पशुपालकों के पशुओं के बीमा किए जाने की घोषणा की है। इसके लिए सरकार ने बजट में 150 करोड़ का प्रावधान भी किया है। राज्य सरकार का दावा है कि पशुधन के बीमे के लिए निविदा जारी करने की तैयारी कर ली है। कंपनी से एमओयू होने के बाद प्रदेश के किसानों को फायदा मिल सकेगा।

और सरकार का यह भी दावा

इस वित्तिय वर्ष में टीकाकरण: 15.92 लाख
पशु चिकित्सालयों में निशुल्क दवाएं: 138

इस साल पशु बीमा के लिए बजट: 150 करोड़
कितने पशुओं का बीमा: 6 लाख

पिछले तीन साल में बीमा हुआ: 0

और ऐसे समझें पशुपालकों का दर्द
केस एक: मजबूरी में बीमा के लिए चुकाने पड़ रहे ज्यादा पैसे
सीकर निवासी पशुपालक सुंदर सिंह का कहना है कि पहले उनके चार पशुओं का भामाशाह बीमा योजना में बीमा था। लेकिन सरकार ने अचानक योजना को बंद कर दिया। वर्तमान में अच्छी नस्ल के पशुओं की कीमत भी काफी बढ़ गई है। ऐसे में मजबूरी में निजी बीमा कंपनियों को ज्यादा रुपए चुकाकर पशुओं का बीमा कराना पड़ रहा है।


केस दो: बीमा होता तो नहीं आती आर्थिक मुसीबत

पशुपालक विनोद कुमार का कहना है कि बिजली करंट की वजह से पशु की मौत हो गई। उन्होंने बताया कि पूरा परिवार दुग्ध उत्पादन की आय पर ही निर्भर था। कोरोना के बीच में यह मुसीबत आने से आर्थिक संकट बढ़ गया। यदि बीमा होता तो राहत मिल सकती थी। अब उधार के पैसे लेकर दूसरा पशुधन खरीदा है।


केस तीन: 6 लाख कौनसे पशुपालक पात्र होंगे
सरकार की बजट घोषणा के बाद भी किसानों में भ्रम की स्थिति बनी हुई है। पशुपालक रामकुमार का कहना है कि सरकार ने बजट में 6 लाख पशुओं के बीमा कराने की घोषणा तो की है लेकिन अभी तक यह स्पष्ट नहीं है कि इसके दायरे में कौनसे किसान आएंगे। इस वजह से पशुपालक निजी कंपनियों से भी बीमा नहीं करवा पा रहे हैं। उनका कहना है कि सरकार को जल्द गाइडलाइन जारी करनी चाहिए।


पहले किसानों को ऐसे मिल रहा था फायदा

प्रदेश में सितंबर 2018 से पहले भामाशाह पशु बीमा योजना संचालित थी। इस योजना में पशुपालकों को 330 से 413 रुपए के प्रीमियम पर चार से पांच लाख रुपए का बीमा मिल रहा था। इसमें सरकार की ओर से 50 से 70 फीसदी छूट का भी प्रावधान शामिल था।


अन्य राज्यों में पशुधन बीमा की क्या स्थिति...


हरियाणा: अलग ट्रस्ट बनाने की तैयारी में सरकार
हरियाणा सरकार की ओर से पशुधन का बीमा कराने के लिए फिलहाल बीमा कंपनियों का सहारा लिया जा रहा है। भविष्य में सरकार की ओर से ट्रस्ट बनाकर बीमा कराने की योजना बनाई है। सरकार का दावा है कि इससे ज्यादा पशुधन कवर होने के साथ प्रीमियम की राशि भी कम हो सकेगी।


उत्तरप्रदेश: पांच लाख रुपए तक का बीमा

यहां भी राज्य सरकार की ओर से पशुधन का सब्सिड़ी देकर बीमा कराया जा रहा है। सरकार की ओर से बीमित पशु की मौत पर पांच लाख रुपए तक मुआवजा देने का प्रावधान है।


कांग्रेस की नीति और नियत में खोट: भाजपा
कांग्रेस की नीति और नियत में खोट की वजह से किसान, मजदूर, पशुपालक, युवा सहित सभी वर्ग परेशान है। सरकार ने कर्जामाफी का वादा कर सत्ता हासिल कर ली। अब तक किसानों का कर्जा माफ नहीं हुआ है। केन्द्र सरकार की ओर से सभी राज्यों को एक समान प्रीमियम राशि दी जा रही है। इसके बाद भी प्रदेश में तीन साल से पशुधन की बीमा योजना बंद है। जबकि भाजपा के शासन के समय में भामाशाह बीमा योजना संचालित थी, सरकार ने चुपके से इसको बंद कर दिया।

हरिराम रणवां, प्रदेश अध्यक्ष, भाजपा किसान मोर्चा

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

बुध जल्द वृषभ राशि में होंगे मार्गी, इन 4 राशियों के लिए बेहद शुभ समय, बनेगा हर कामज्योतिष: रूठे हुए भाग्य का फिर से पाना है साथ तो करें ये 3 आसन से कामजून का महीना किन 4 राशियों की चमकाएगा किस्मत और धन-धान्य के खोलेगा मार्ग, जानेंमान्यता- इस एक मंत्र के हर अक्षर में छुपा है ऐश्वर्य, समृद्धि और निरोगी काया प्राप्ति का राजराजस्थान में देर रात उत्पात मचा सकता है अंधड़, ओलावृष्टि की भी संभावनाVeer Mahan जिसनें WWE में मचा दिया है कोहराम, क्या बनेंगे भारत के तीसरे WWE चैंपियनफटाफट बनवा लीजिए घर, कम हो गए सरिया के दाम, जानिए बिल्डिंग मटेरियल के नए रेटशादी के 3 दिन बाद तक दूल्हा-दुल्हन नहीं जा सकते टॉयलेट! वजह जानकर हैरान हो जाएंगे आप

बड़ी खबरें

UP Budget 2022 Live : सीएम ने कहा 25 करोड़ जनता का बजट, बिजली, सिलेंडर मुफ्त, किसानों के लिए कोषमोदी सरकार के 8 साल पूरे; नोटबंदी, एयर स्ट्राइक, धारा 370 खत्म करने सहित सरकार के 8 बड़े फैसलेआयकर विभाग के कर्मचारी ने तीन- तीन लाख रुपए में बेचे कांस्टेबल भर्ती परीक्षा के पेपर, शिक्षिका पत्नी के खाते में किए ट्रांसफरपाकिस्तान में गृहयुद्ध जैसे हालात, लाखों समर्थकों संग डी-चौक पहुंचे इमरान खान, लोगों ने फूंका मेट्रो स्टेशन, राजधानी में सड़कों पर सेनाउद्धव के एक और मंत्री पर ED का शिकंजा, महाराष्ट्र के परिवहन मंत्री अनिल परब के घर प्रवर्तन निदेशालय का छापाKashmir On Alert: जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में लश्कर के 3 आतंकी ढेर, सभी सशस्त्र बलों की छुट्टियाँ रद्दBy election in Five States: पांच राज्यों की तीन लोकसभा और सात विधानसभा सीटों पर उपचुनाव का ऐलान, इस दिन होगी वोटिंगआज से लागू हुआ नया टैक्स रूल, 20 लाख से अधिक के लेन-देन के लिए पैन या आधार जरूरी, जानिए क्या है नियम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.