कराटे व बॉक्सिंग का इंटरनेशनल चैंपियन बेच रहा चाय, यह है मजबूरी

कराटे व बॉक्सिंग में इंटरनेशनल लेवल पर देश का नाम रोशन करने वाला खिलाड़ी उमेश शर्मा इन दिनों सीकर में अपने पिता की दुकान पर चाय बना रहा है। 

By: vishwanath saini

Published: 18 Aug 2017, 11:35 AM IST

 सीकर. परशुराम पार्क के पास संचालित एक चाय की दुकान की खास बात है। इसकी चाय की चुस्की में अदरक और चीनी की मिठास के साथ बॉक्सिंग और कराटे की कड़वाहट भी शामिल है। क्योंकि खेलों के प्रति सरकारी उदासीनता ने यहां एक बॉक्सर और कराटे के चैंपियन को भी चाय बेचने पर मजबूर कर दिया है।


जी हां, रेसलिंग में मुक्के बरसाने वाला अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी पोलो ग्राउंड, विजय विहार सीकर निवासी उमेश वर्तमान में यहां चाय की दुकान पर अदरक कूट रहा है। बेरोजगारी की मार में उसके सपने दम तोड़ रहे है। उमेश ने कराटे और बॉक्सिंग में भले ही दो अंतरराष्ट्रीय और १७ राष्ट्रीय मेडल हासिल कर अपना नाम कमाया हो। लेकिन, नौकरी की आस लिए बैठे इस खिलाड़ी को परिवार का पेट पालना मुश्किल हो रहा है।

 

उमेश का कहना है कि पूणे (महाराष्ट्र) में आयोजित ओपन इंटरनेशनल कराटे एंड बॉक्सिंग चैंपियनशिप में दोनों ही प्रतियोगिता में अफगानिस्तान, बांग्लादेश, श्रीलंका, भूटान व नेपाल के खिलाडि़यों को हराकर दो गोल्ड मेडल जीते थे। लेकिन, वर्तमान में हालात ने मुझे हरा रखा है। उसे अभी तक खेल कोटे में नौकरी नहीं मिली है। हरियाणा और पंजाब में सरकार पानी की तरह खिलाडि़यों पर पैसा बहा रही है। जबकि प्रदेश में सरकार की अनदेखी के कारण आज भी सैकड़ों खिलाड़ी परेशानी भुगत रहे हैं।

 

चाय के पैसों से बनाया चैंपियन

 

उमेश के पिता रामदयाल शर्मा के अनुसार चाय बेचकर जो बचत होती थी। उसी जमा पैसे से उमेश को दूर-दराज खेलने के लिए भेजा जाता था। लेकिन, इतने मेडल लेने के बाद आज भी चाय की दुकान ही सहारा बनी हुई है। हालांकि खाली समय में उमेश पीटीआई की पढ़ाई करता है। ताकि शारीरिक शिक्षक बनकर सुविधाओं के महरूम रहने वाले खिलाडि़यों को तैयार कर सके।

 

स्थानीय स्तर पर नहीं मिली तवज्जो

 

मेडल जीतने के बाद उमेश ने राजकीय स्तर पर मनाए जाने वाले गणतंत्र व स्वतंत्रता दिवस पर सम्मान पाने के लिए कई बार आवेदन किए। लेकिन, जिला स्तर पर उसे एक भी मौका नहीं दिया। जबकि अभिशंषा के लिए वह सांसद, विधायक व कलक्टर के पास चक्कर काट चुका है।

Show More
vishwanath saini Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned