scriptInternational Yoga Day : राजस्थान के युवा ने योग से दी घातक बीमारी को मात, छह साल पहले हुआ था कैंसर | International Rajasthan youth defeated a deadly disease through yoga, he had throat cancer six years ago | Patrika News
सीकर

International Yoga Day : राजस्थान के युवा ने योग से दी घातक बीमारी को मात, छह साल पहले हुआ था कैंसर

Yoga Day 2024 Highlights : योग को निरोग होने का सूत्र कहा जाता है। सुठोठ निवासी 64 वर्षीय जगदीश प्रसाद पिलानियां इसी सूत्र को सच साबित कर रहे हैं।

सीकरJun 21, 2024 / 04:40 pm

Supriya Rani

Rajasthan Yoga Day Special : योग को निरोग होने का सूत्र कहा जाता है। सुठोठ निवासी 64 वर्षीय जगदीश प्रसाद पिलानियां इसी सूत्र को सच साबित कर रहे हैं। जो कभी कैंसर सरीखी गंभीर बीमारी की जद में थे। उपचार के लिए आपरेशन के बाद रेडियो थैरेपी भी ले चुके थे। कमजोर होते शरीर के साथ उन्हें मौत की चिंता तक सताने लगी थी। इसी बीच उन्होंने अंतिम विकल्प के रूप में योग का सहारा लिया। नियमित योग के साथ जड़ी बूटियों का काढ़ा ही उनके लिए जीवनदायी साबित हुआ। छह साल पहले हुए कैंसर से मुक्त होकर अब वे जीवन सामान्य रूप से जी रहे हैं। पेश है उनकी ही जुबानी जीत की कहानी..

यूं जीती जिंदगी की जंग

yoga day

शिक्षा विभाग में सहायक प्रशासनिक अधिकारी पद से सेवानिवृत जगदीश पिलानिया बताते हैं कि उन्हें 2018 में गले में परेशानी हुई। जयपुर के संतोकबा दुर्लभ अस्पताल में दिखाया तो चिकित्सकों ने ऑपरेशन कर कुछ समय बाद महावीर कैंसर अस्पातल में रैफर कर दिया। यहां जांच में गले में कैंसर की पुष्टि हुई। इसके उपचार के लिए उन्हें 35 रेडियो थैरेपी दी गई। इससे शरीर काफी कमजोर हो गया। हर पल मौत की चिंता चित्त को सुलगाने लगी थी, पर थैरेपी के बाद अस्पताल से छुट्टी मिलते ही उन्होंने गांव की बजाय धोद बाइपास स्थित फार्म हाउस में रहना तय किया। जहां बीमारी से लड़ऩे के लिए उन्होंने योग का सहारा लेना शुरू किया। शुरू में 15 मिनट से योग शुरू करते हुए धीरे— धीरे समय बढ़ाया। साथ में घर पर बना जड़ी बूटियों का काढा भी लेते रहे। योग का अभ्यास असरकारक सिद्ध हुआ। स्वस्थ होने के साथ जांच रिपोर्ट भी बिल्कुल सही आने लगी। शुरुआती महीनों में बुलाने के बाद चिकित्सकों ने बाद में उन्हें कैंसर फ्री घोषित कर दिया।

64 की उम्र में करते हैं जटिल आसन

जगदीश पिलानिया सुबह व शाम को करीब डेढ घंटे नियमित योगासन करते हैं। कपाल भांति, अनुलोम विलोम, भुजंगासान, ताड़ासन, वृक्षासन, चक्रासन व शीर्षासन के साथ वे योग गुरु बाबा रामदेव द्वारा किए जाने वाले जटिल आसन भी 90 फीसदी तक कर लेते हैं।

Hindi News/ Sikar / International Yoga Day : राजस्थान के युवा ने योग से दी घातक बीमारी को मात, छह साल पहले हुआ था कैंसर

ट्रेंडिंग वीडियो