तेज बरसात की चेतावनी के बीच राजस्थान में यहां पौन घंटे बरसे मेघ

राजस्थान के 13 से ज्यादा जिलों में आज से तीन दिन मानसून की मेहरबानी की मौमस विभाग द्वारा जताई गई संभावना के बीच राजस्थान के सीकर शहर व आसपास के इलाकों में करीब पौन घंटे बरसात हुई।

By: Sachin

Published: 30 Aug 2020, 02:12 PM IST

सीकर. राजस्थान के 13 से ज्यादा जिलों में आज से तीन दिन मानसून की मेहरबानी की मौमस विभाग द्वारा जताई गई संभावना के बीच राजस्थान के सीकर शहर व आसपास के इलाकों में करीब पौन घंटे बरसात हुई। बरसात साढ़े बारह बजे शुरू हुई, जो करीब सवा बजे तक जारी रही। हांलांकि मौसम विभाग की तेज बरसात की चेतावनी से इतर बरसात की रफ्तार मध्यम ही रही। लेकिन, रिमझिम बरसे बादलों ने किसानों के चेहरे खिला दिए। क्योंकि खेती- किसानी के लिए रिमझिम बरसात जमीन को भीतर से नमी देने के कारण ज्यादा बेहतर मानी जाती है। उधर, अंचल में बादलों का डेरा अब भी जारी है। जिससे आगे भी बरसात की उम्मीद बनी हुई है। इससे पहले रविवार को सीकर व आसपास के इलाकों में सुबह से ही बादल मंडराते हुए दिखे। बीच बीच में ठंडी हवाओं का दौर भी जारी रहा। इसी बीच करीब साढ़े बारह बजे बरसात ने रिमझिम बरसना शुरू कर दिया। जिससे मौसम सुहाना हो गया। गौरतलब है कि कुछ दिनों से सूखे चल रहे शेखावाटी सहित प्रदेश के 13 जिलो के लिए मौसम विभाग ने ओरेंज अलर्ट जारी किया था। इसके अलावा 31 अगस्त और एक सितम्बर को भारी बारिश के लिए यलो अलर्ट जारी किया है। मौसम विभाग के अनुसार रविवार को सीकर, अजमेर, बांसवाडा, भीलवाड़ा, चित्तौडगढ़, झालावाड़, डूंगरपुर, दौसा, राजसमंद, सिरोही, टोंक, बाडमेर, पाली, जालौर, नागौर जिले में तेज मेघगर्जना के साथ भारी / अत्यधिक भारी बारिश के आसार है। वहीं सोमवार को सीकर, अलवर, दौसा में भारी बारिश और चूरू, बाडमेर, नागौर, जोधपुर, जालौर जिले में भारी से अत्यधिक भारी बारिश होगी। एक सितम्बर को सीकर, चूरू, भरतपुर, भीलवाडा, धौलपुर, करौली, सवाईमाधोपुर, बीकानेर, नागौर, बाडमेर, पाली, जालौर, हनुमानगढ जिले में भारी बारिश की चेतावनी दी गई है। दो सितम्बर को अजमेर, भीलवाडा, भरतपुर, सवाईमाधोपुर, बीकानेर, नागौर व जोधपुर जिले के लिए भी यलो अलर्ट जारी किया गया है।


फसलों को होगा फायदा
लम्बे अंतराल के बाद आसमान में बादल व बरसात की गिरती बूंदे देख किसानों के चेहरे खुशी से खिल उठे। वहीं, तीन दिन बरसात की मौसम विभाग की संभावना भी किसानों में नई उम्मीद जगा रही है। क्योंकि सावन माह में कई इलाकों में बरसात नहीं होने से फसलें सूखती जा रही थी। किसानों ने बताया कि पिछले दो दिन से हवाओं की दिशा बदलने से हल्की बरसात हुई है। हवाएं थमने के कारण बरसात का क्रम आगे भी जारी रहने की उम्मीद है। जिन फसलों में नुकसान हो चुका है उन्हें बारिश का पानी मिलने से उन फसलों में भी फायदा होगा।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned