जीणमाता का दरबार खाली, 9 दिन कोलकात्ता के फूलों से महकेगा मंदिर

राजस्थान की प्रमुख शक्ति पीठों में से एक जीणमाता मंदिर में श्रद्धालुओं के लिए दर्शन बंद होने की वजह से आज भी दरबार में सन्नाटा पसरा है।

By: Sachin

Published: 18 Oct 2020, 09:48 AM IST

सीकर/ जीणमाता. राजस्थान की प्रमुख शक्ति पीठों में से एक जीणमाता मंदिर में श्रद्धालुओं के लिए दर्शन बंद होने की वजह से आज भी दरबार में सन्नाटा पसरा है। केवल पुजारी परिवार की ओर से पूजा- अर्चना की जा रही है। कोरोना संक्रमण के खतरे के चलते यहां दर्शन 25 अक्टुबर बाद ही किए जा सकेंगे। इससे पहले शारदीय नवरात्रि के आरंभ के साथ ही मंदिर में मां जीण भवानी की 9 दिवसीय विशेष पूजा आराधना शुरू हुई। जिसके लिए मां के दरबार का विशेष श्रृंगार किया गया।

दिल्ली व कोलकाता के फूलों से श्रृंगार
श्री जीणमाता मंदिर ट्रस्ट के श्यामसुन्दर पुजारी ने बताया कि नवरात्रि के पहले दिन कानपुर की विशेष लाल पौशाक से माता का श्रृंगार कर महाआरती की गई। मुख्य मंदिर को विशेष लाइट व फूलों से सजाया गया है। नौ दिन माता का दिल्ली व कोलकाता से मंगाए जा रहे विशेष फूलों से श्रृंगार किया जाएगा। कोरोना के चलते मंदिर दर्शनों के लिए बंद होने के कारण सुबह कुछ श्रद्धालु माता के मंदिर के बाहर लगी बेरिकेट्स के पास धोक लगाकर अपनी आस्था को पूरा करते नजर आए।

रास्ते करवाए बंद
जीणमाता मंदिर में श्रद्धालुओं की भीड़ रोकने के लिए दांतारामगढ़ उपखण्ड अधिकारी अशोक रणवां ने जीणमाता पहुंच कर मंदिर की तरफ जाने वाले समस्त रास्तों को बंद करवा दिया। मंदिर ट्रस्ट व रानोली थानाधिकारी को मंदिर श्रेत्र को सील करने के निर्देश दिए। उपखंड अधिकारी मंदिर क्षेत्र में स्थाई दुकान लगाने वाले दुकानदारों के कोरोना की जांच के लिये सैंपल लेने के निर्देश भी दिए, लेकिन चिकित्सा विभाग से कोई उपस्थित नही होने के कारण सैंपलिंग का कार्य शुरू नही हो सका। रानोली थानाधिकारी घासीराम मीणा ने बताया कि जीणमाता मंदिर क्षेत्र में मुख्य रास्तों पर बेरिकेट्स करवा कर अतिरिक्त पुलिस कर्मी तैनात कर दिए है। मंदिर ट्रस्ट के राकेश पुजारी, बंशीधर पुजारी,शंकर पुजारी, जीणमाता पुलिस चौकी प्रभारी सुमेर सिंह, पटवारी सज्जनसिंह आदी भी मौजूद रहे। इधर, कई संगठनों ने मंदिर को खोलने की मांग की है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned