खाटूश्याम मेला 2021: हर बार से जुदा होगा इस बार का फाल्गुनी मेला

Khatushyam Fair 2021: Phalguni fair will be different from each time

शाटूश्यामजी में इस फाल्गुन लगने वाला लक्खी मेला हर बार से जुदा होगा। कोरोना के चलते मेले के लिए एक खाका तैयार किया जा रहा है।

By: Gaurav

Published: 05 Feb 2021, 05:44 PM IST

Khatushyam Fair 2021: Phalguni fair will be different from each time

-नहीं लगेंगे शाही भण्डारे
-श्याम कुंड में भक्त नहीं कर सकेंगे स्नान
-बाहर से आने वाली रथ यात्राओं व डीजे पर भी रोक रहेगी
- नगरपालिका द्वारा लगाई जाने वाली अस्थाई दुकानों पर भी रोक रहेगी
-मेले में आने से पहले ऑनलाइन पंजीयन और कोविड टेस्ट कराना होगा

सीकर. शाटूश्यामजी (khattushyamji)में इस फाल्गुन लगने वाला लक्खी मेला हर बार से जुदा होगा। कोरोना के चलते मेले के लिए एक खाका तैयार किया जा रहा है। जिला प्रशासन की मानें तो इस साल फाल्गुन में लगने वाले खाटू लक्खी मेले में हर साल की तरह लगने वाले भण्डारे देखने के नहीं मिल सकेंगे। यही नहीं कोरोना के चलते लिए ही इस बार यहां मेले में आने वाले भक्त श्री श्याम कुंड में स्नान भी नहीं कर सकेंगे। वहीं बाहर से आने वाली रथयात्राओं और नगरपालिका द्वारा लगाई जाने वाली अस्थाई दुकानों पर भी रोक रहेगी।
हालांकि श्याम भक्तों की फाल्गुनी मेले की अर्जी सरकार ने सुन ली है। बाबा श्याम का फाल्गुनी लक्खी मेला रद्द करने का फैसला प्रशासन ने वापस ले लिया है। यानी फाल्गुनी मेला इस बार भी भरेगा। कलक्टर अविचल चतुर्वेदी की अध्यक्षता में जिला प्रशासन व मंदिर कमेटी की गुरुवार को हुई बैठक में यह तय हुआ है। जिसमें राज्य सरकार की कोरोना गाइडलाइन के अनुसार श्रद्धालुओं को कोरोना टेस्ट की रिपोर्ट दिखाने पर ही मंदिर में प्रवेश कराए जाने का फैसला हुआ है। बैठक के बाद कलक्टर अविचल चतुर्वेदी ने बताया कि कोरोना गाइडलाइन की पूरी पालना करते हुए ही मेले का आयोजन होगा। कलक्टर ने कोविड रिपोर्ट जांच करने का जिम्मा स्वास्थ्य विभाग को सौंपा। दर्शनों से पहले श्याम भक्तों को ऑनलाइन पंजीयन करना होगा। एक दिन में मेले में कितने लोगों को दर्शन कराए जाएंगे यह जल्द तय होगा। कलक्टर ने मेले में भंडारों, बाहर से आने वाली रथ यात्राओं व डीजे पर रोक लगा दी है।


और क्यों बदलना पड़ा जिला प्रशासन को अपना ही फै सला
पिछले सप्ताह जिला प्रशासन ने कोरोना की वजह से मेले को स्थगित करने का फैसला लिया था। इस दौरान श्याम मंदिर समिति के पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत व देवस्थान राज्य मंत्री गोविन्द सिंह डोटासरा को मेले आयोजन के संबंध में मांग रखी थी। इसके बाद मुख्यमंत्री कार्यालय में तीन दिन पहले हुई बैठक में मेले के आयोजन में शिथिलता बरतने के निर्देश दिए गए थे। ऐसे में जिला प्रशासन ने अपना फैसला बदला है।


72 घंटे की रिपोर्ट होगी मान्य
कलक्टर अविचल चतुर्वेदी ने बताया कि खाटूश्यामजी के मेले में दर्शन के लिए श्रद्धालुओं को 72 घंटे के भीतर कोरोना का टेस्ट करवाना होगा। जांच में कोरोना रिपोर्ट निगेटिव होने पर ही दर्शन करवाए जाएंगे। इसके अलावा मेले में भंडारे भी नहीं लगाए जा सकेंगे। इसके अलावा श्री श्याम कुंड में स्नान, बाहर से आने वाली रथयात्राओं और नगरपालिका द्वारा लगाई जाने वाली अस्थाई दुकानों पर भी रोक रहेगी।


25 मार्च को एकादशी, मेले की तिथि जल्द
फाल्गुनी एकादशी 25 मार्च की है। ऐसे में मुख्य मेला इसी दिन होगा। हालांकि मेला कितने दिन का होगा यह अभी तय करना बाकी है। कलक्टर ने बताया कि जल्द ही मेले की तिथि घोषित कर दी जाएगी। मेले का रूट भी पहले वाला यथावत रखा गया है।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned