scriptMore than 1375 farmers installed solar powered pump plants in Shekhawa | शेखावाटी में 1375 से अधिक किसानों ने लगाए सौर ऊर्जा संचालित पम्प संयंत्र | Patrika News

शेखावाटी में 1375 से अधिक किसानों ने लगाए सौर ऊर्जा संचालित पम्प संयंत्र

सौर ऊर्जा किसानों के लिए बनी ‘वरदान’, लहलहा रही फसलें
सौर ऊर्जा आधारित सिंचाई प्रणाली से
किसानों को
मिली बड़ी राहत

सीकर

Published: November 08, 2021 09:23:59 pm

नरेंद्र शर्मा
सीकर. सौर ऊर्जा आधारित सिंचाई प्रणाली किसानों के लिए वरदान साबित हो रही है। सौर ऊर्जा पम्प संयंत्र लगाने वाले किसानों के लिए अब न तो बिजली के भारी-भरकम बिल जमा करवाने पड़ते हैं और न ही बिजली कटौती की समस्या है। यहां तक कि अंधेरे व सर्द रात में भी सिंचाई करने के झंझट से मुक्ति मिली हुई है। सौर ऊर्जा के प्रति किसानों के रुझान का अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा नवम्बर 2019 को स्वीकृत प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान योजना के कम्पोनेंट ‘बी’ के अन्तर्गत प्रदेश में अब तक 60 प्रतिशत अनुदान पर 6496 कृषकों के यहां सौर ऊर्जा पम्प संयंत्रों की स्थापना की जा चुकी है, जबकि शेखावाटी में यह आंकड़ा 1375 तक पहुंच गया है। शेखावाटी के सीकर, चूरू व झुंझुनूं में सरकारी योजनाओं के तहत तथा किसानों द्वारा अपने स्तर पर 1300 से अधिक सौर ऊर्जा पम्प संयंत्र स्थापित किए जा चुके हैं। दूसरी तरफ 1000 से अधिक आवेदन लम्बित हैं।
गौरतलब है कि राजस्थान का आधे से ज्यादा भाग मरुस्थलीय है, यहां सूरज का प्रकाश अन्य राज्यों की तुलना में ज्यादा समय तक रहता है। इससे जहां प्रदेश में वनस्पति और खेती पर नकारात्मक असर पड़ता है, लेकिन वैज्ञानिक युग ने इस समस्या को सुविधा में बदल दिया है। अब यहां इसका फायदा उठाया जा रहा है। फायदा यह कि इससे प्रदेश में सौर ऊर्जा उत्पादन की ज्यादा संभावनाएं हैं।
न इंतजार, न परेशानी
डिस्कॉम में कृषि श्रेणी के कनेक्शन लेने वाले हजारों किसानों के कनेक्शन वर्षों से लम्बित हैं। जिन किसानों को कनेक्शन मिले हुए हैं, उन्हें बिजली के भारी-भरकम बिलों को भरने में दिक्कत रहती है। साथ ही सीजन के समय में पूरी बिजली नहीं मिलती, जो मिलती है वो भी रात की पारी में, जिससे किसानों को अंधेरे में, सर्दी की ठंडी रात में सिंचाई करनी पड़ती है। किसी भी फसल का उत्पादन उस को समय से दी जाने वाली सिंचाई पर निर्भर करता है। किसान भले ही खेती में उन्नत बीज और तकनीकी का प्रयोग कर लें, लेकिन फसल की सिंचाई समय पर न की जाए, तो फसल के पूरी तरह से नष्ट होने का खतरा बना रहता है। ऐसे में सौर ऊर्जा अच्छा विकल्प बनी है, जिसके तहत किसान दिन में सिंचाई कर लेता और एक बार खर्चा करने के बाद बिल भरने के झंझट से भी मुक्ति मिल जाती है।
कुसुम योजना में 6496 कृषक लाभान्वित
भारत सरकार द्वारा स्वीकृत प्रधानमंत्री किसान ऊर्जा सुरक्षा एवं उत्थान महाभियान (पीएम कुसुम) योजना के कम्पोनेंट ‘बी’ के अन्तर्गत प्रदेश में अब तक 60 प्रतिशत अनुदान पर 6496 कृषकों के यहां सौर ऊर्जा पम्प संयंत्रों की स्थापना की जा चुकी है। विधानसभा में पूछे गए एक सवाल के जवाब में सरकार ने यह जानकारी दी थी। सरकार ने बताया कि उक्त योजना के अन्तर्गत 25,000 सौर ऊर्जा पम्प संयंत्र स्थापना के लिए 30 प्रतिशत केन्द्रीयांश अनुदान के लिए प्रथम किश्त के रूप में 68.97 करोड़ रुपए एवं 30 प्रतिशत राज्यांश अनुदान के लिए 267.00 करोड़ रुपए की राशि उपलब्ध कराई गई है।
किसानों को 60 प्रतिशत अनुदान
सौर ऊर्जा संयंत्र लगाने वाले किसानों को कुसुम योजना के तहत 60 प्रतिशत अनुदान दिए जाने का प्रावधान है। किसानों के लिए फायदे की बात यह भी है कि वे अपने हिस्से से लगने वाली 40 प्रतिशत राशि में से 30 प्रतिशत तक का बैंक से लोन से ले सकते हैं। योजना का मकसद किसानों की डीजल व बिजली पर निर्भरता कम करना है। इससे किसान को तो आर्थिक रूप से फायदा होगा ही, साथ ही प्रदूषण भी कम होगा। गौरतलब है कि इन दिनों डीजल व बिजली बिलों की कीमतें दिनों-दिन आसमान छू रही हैं, ऐसे दौर में किसान का इस योजना को लेकर खासा रुझान दिखा रहे हैं।
कहां कितने संयंत्र
अजमेर 366
अलवर 199
बांडवाड़ा 5
बारां 36
बाड़मेर 86
भरतपुर 81
भीलवाड़ा 162
बीकानेर 262
बूंदी 128
चित्तौडगढ़़ 113
चूरू 901
दौसा 85
धौलपुर 0
डूंगरपुर 0
गंगानगर 271
हनुमानगढ़ 206
जयपुर 1331
जैसलमेर 155
जालोर 101
झालावाड़ 10
झुंझुनूं 156
जोधपुर 72
करौली 32
कोटा 31
नागौर 70
पाली 76
प्रतापगढ़ 51
राजसमंद 114
सवाई माधोपुर 114
सीकर 318
सिरोही 169
टोंक 722
उदयपुर 73
कुल 6496
10 एचपी तक के संयंत्र लगा सकते हैं किसान
&पीएम कुसुम कम्पोनेंट-बी योजना के तहत किसान 7.5 एचपी क्षमता का अनुदानित संयंत्र स्थापित कर सकते हैं। इससे पहले 5 एचपी क्षमता के संयंत्र ही लगाए जाते थे। हालांकि योजना में 10 एचपी तक के सयंत्र भी स्थापित किए जा सकते हैं, लेकिन इनमें अनुदान 7.5 एचपी मानते हुए ही दिया जाता है।
दिनेश जाखड़, कृषि विशेषज्ञ, सीकर
शेखावाटी में 1375 से अधिक किसानों ने लगाए सौर ऊर्जा संचालित पम्प संयंत्र
शेखावाटी में 1375 से अधिक किसानों ने लगाए सौर ऊर्जा संचालित पम्प संयंत्र

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

ससुराल में इस अक्षर के नाम की लडकियां बरसाती हैं खूब धन-दौलत, किस्मत की धनी इन्हें मिलते हैं सारे सुखGod Power- इन तारीखों में जन्मे लोग पहचानें अपनी छिपी हुई ताकत“बेड पर भी ज्यादा टाइम लगाते हैं” दीपिका पादुकोण ने खोला रणवीर सिंह का बेडरूम सीक्रेटइन 4 राशियों की लड़कियां जिस घर में करती हैं शादी वहां धन-धान्य की नहीं रहती कमीकरोड़पति बनना है तो यहां करे रोजाना 10 रुपये का निवेशSharp Brain- दिमाग से बहुत तेज होते हैं इन राशियों की लड़कियां और लड़के, जीवन भर रहता है इस चीज का प्रभावमौसम विभाग का बड़ा अलर्ट जारी, शीतलहर छुड़ाएगी कंपकंपी, पारा सामान्य से 5 डिग्री नीचेइन 4 नाम वाले लोगों को लाइफ में एक बार ही होता है सच्चा प्यार, अपने पार्टनर के दिल पर करते हैं राज

बड़ी खबरें

India-Central Asia Summit: सुरक्षा और स्थिरता के लिए सहयोग जरूरी, भारत-मध्य एशिया समिट में बोले पीएम मोदीAir India : 69 साल बाद फिर TATA के हाथ में एयर इंडिया की कमानयूपी चुनाव से रीवा का बम टाइमर कनेक्शननागालैंड में AFSPA कानून को खत्म करने पर विचार कर रही केंद्र सरकारजिनके नाम से ही कांपते थे आतंकी, जानिए कौन थे शहीद बाबू राम जिन्हें मिला अशोक चक्रUP Election 2022: भाजपा सरकार ने नौजवानों को सिर्फ लाठीचार्ज और बेरोजगारी का अभिशाप दिया है: अखिलेश यादवतमिलनाडु सरकार का बड़ा फैसला, खत्म होगा नाईट कर्फ्यू और 1 फरवरी से खुलेंगे सभी स्कूल और कॉलेजपीएम नरेंद्र मोदी कल करेंगे नेशनल कैडेट कॉर्प्स की रैली को संभोधित, दिल्ली के करियप्पा ग्राउंड में होगा कार्यक्रम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.