सांसद स्वामी सुमेधानंद सरस्वती ने कहा, यूं बढ़ सकता हैं लॉकडाउन का समय

कोरोना वायरस (Corona Virus) के बढ़ते प्रकोप व लॉकडाउन (Lockdown) के बीच लोगों में लॉकडाउन की अवधि व स्वास्थ्य विभाग की तैयारियों को लेकर सवाल उठ रहे हैं

By: Sachin

Updated: 05 Apr 2020, 01:36 PM IST

सीकर. कोरोना वायरस (Corona Virus) के बढ़ते प्रकोप व लॉकडाउन (Lockdown) के बीच लोगों में लॉकडाउन की अवधि व स्वास्थ्य विभाग की तैयारियों को लेकर सवाल उठ रहे हैं। ऐसे ही सवालों के साथ पत्रिका ने सीकर के सांसद स्वामी सुमेधानंद सरस्वती से खास बातचीत की है। पेश है मुख्य अंश..।

. लॉकडाउन की पालना कैसे कर रहे हैं?

. कोरोना वायरस को हराने का एकमात्र उपाय सोशल डिस्टेंस है। क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करने के कारण मेरा यह कर्तव्य है कि मैं पहले इसका पालन करूं। निज पर शासन फिर अनुशासन की पालना के लिए अब तक तीन आवश्यक बैठकों के लिए ही बाहर निकला हूं।

स. लॉकडाउन की वजह से अध्यात्म से ज्यादा जुडऩे का समय मिल रहा होगा?

ज. सही है। राजनीति में आने के बाद स्वाध्याय के लिए समय कम मिल रहा था। अब रात को दस बजे सो कर सुबह चार बजे उठ जाता हूं। व्यायाम व साधना का समय बढ़ा दिया है। सुबह- शाम हवन करता हूं। दिन में फोन व सोशल मीडिया के जरिए लोगों से संपर्क व लिखने का काम भी कर रहा हूं।

स. जिले में कोरोना वायरस व लॉकडाउन के हालातों से संतुष्ट हैं?

ज. प्रदेश के मुकाबले सीकर में कोरोना वायरस को लेकर हालात कुछ ठीक है। लॉकडाउन भी संतोषजनक है। हालांकि बहुत सी जगह लॉकडाउन के उल्लंघन की सूचनाएं आती है। सभी से यही अपील है कि कोरोना की चैन तोडऩे के लिए हर व्यक्ति अपना सोशल डिस्टेंसिंग का कर्तव्य निभाएं।

स. लॉकडाउन में कमजोर तबका ज्यादा परेशान है। उनके लिए व्यक्तिगत व दलगत क्या प्रयास किए जा रहे हैं?

ज. प्रधानमंत्री ने एक लाख सतर हजार करोड रुपए स्वीकृत करने के साथ अन्न योजना लागू करने के लिए मुख्यमंत्रियों को कहा है। जरुरतमंदों की मदद के लिए पार्टी की ओर से अभियान शुरू किया है। सांसद निधी से प्रधानमंत्री सहायता कोष मेें एक करोड़ रुपए देने के साथ क्षेत्र में चालीस लाख रुपए दिए हैं। भामाशाहों के सहयोग से जरुरतमंद लोगों के साथ पशु पक्षियों के आहार की व्यवस्था भी की जा रही है।

स. लेकिन, सीकर में तो प्रशासन स्वयं सेवी संगठनों की मदद पर रोक लगा रहा है?

ज. मामले में प्रशासनिक अधिकारियों से बात की थी। सोशल डिस्टेंस बनाए रखने के लिए यह व्यवस्था लागू की है। सेवाभावी संस्थाओं से निवेदन है कि वह प्रशासन के सहयोग से जरुरतमंदों तक मदद पहुंचाए।

स. क्या सरकार 21 दिन का लॉक डाउन बढ़ाएगी?

ज. सरकार का लॉकडाउन बढ़ाने का अभी कोई इरादा नहीं है। स्वास्थ्य मंत्रालय भी स्पष्ट कर चुका है। लेकिन, दिल्ली के मरकज जैसी परिस्थितियां पैदा होती है, तो फैसला बदला भी जा सकता है।

स. शिकायतें आ रही है कि मरकज से लौटे संदिग्धों की सूचना पर भी स्वास्थ्य विभाग त्वरित कार्यवाही नहीं कर रहा?

ज. इस मामले में भी कलक्टर व अन्य अधिकारियों से बात हुई है। उन्हें हर कोरोना संदिग्ध की जांच में कोताही नहीं बरतने को कहा है।

स. कोरोना से लडऩे के लिए जिले का स्वास्थ्य विभाग कितना तैयार है?

ज. पूरे स्वास्थ्य विभाग के साथ मेडिकल कॉलेज की टीम भी सक्रिय है। कोरोना टेस्ट के लिए लैब की व्यवस्था हो गई है। तीन नए वेंटीलेटर के ऑर्डर किए जा चुके हैं। चिकित्सा विभाग को हर संभव मदद दी जाएगी।

स. क्षेत्र की जनता के लिए कोई संदेश?

ज. लॉकडाउन की पालना करते हुए सोशल डिस्टेंस ही इस समय सबसे बड़ा तप, साधना व राष्ट्रभक्ति है। सभी इसकी पालना करें।

Corona virus corona virus in india

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned