scriptNew danger on Jhunjhunu, after lumpi | झुंझुनूं पर नया खतरा: लम्पी के बाद घोड़ों में मिला मौत का रोग | Patrika News

झुंझुनूं पर नया खतरा: लम्पी के बाद घोड़ों में मिला मौत का रोग

locationसीकरPublished: Oct 01, 2022 05:39:27 pm

Submitted by:

Devendra Sashtari

झुंझुनूं के दो घोड़ों में मिला गलैंडर्स वायरस, मौत ही इसका उपचार, मनुष्यों में भी फैल सकता है यह रोग, विभाग जुटा रोकथाम में

घोड़ों
घोड़ों
देवेन्द्र शर्मा 'शास्त्रीÓ
झुंझुनूं. गोवंश में फैली लम्पी बीमारी के बाद झुंझुनूं जिले पर नए वायरस का खतरा मंडरा गया है। खतरा है घोड़ों में फैलने वाले ग्लैंडर्स वायरस का, जिसका मौत ही उपचार माना जाता है। पशुपालन विभाग की ओर से राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र भेजे गए नमूनों में से झुंझुनूं जिले के बड़बर गांव के दो घोड़े इस वायरस से संक्रमित पाए गए हैं। अच्छी बात यह है कि दोनों घोड़ों की 15 दिन पहले मौत हो गई है, लेकिन विभाग ने वायरस की रोकथाम के लिए पांच किलोमीटर क्षेत्र के पशुओं के नमूने लेकर हिसार अनुसंधान केन्द्र में भेजे हैं। यह बीमारी ज्यादा खतरनाक इसलिए है कि संक्रमित घोड़े के सम्पर्क में आने से मनुष्य भी इस बीमारी से ग्रसित हो सकता है। कोरोना से मिलते है ग्लैंडर्स संक्रमण के लक्षण घोड़ों में फैलने वाली ग्लैंडर्स बीमारी के लक्षण कोरोना से मिलते जुलते हैं। पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक डॉ. रामेश्वर सिंह ने बताया कि इस बीमारी से संक्रमित होने पर पशु के पहले निमोनिया होता है। साथ ही श्वास लेने में तकलीफ होने लगती है। इसके बाद शरीर पर घाव होने लगते हैं। बड़बर गांव के पशुपालक रामसिंह के दो घोड़ों में इस तरह के लक्षण पाए जाने पर उनके नमूने लेकर राष्ट्रीय अश्व अनुसंधान केन्द्र भेजे गए थे। यह दोनों नमूने पॉजीटिव पाए गए हैं। लेकिन इन दोनों घोड़ों की करीब 15 दिन पहले मौत हो चुकी है। पशुपालक के पांच अन्य पशुओं के नमूने भी जांच के लिए भेजे गए, लेकिन उनकी रिपोर्ट नेगेटिव प्राप्त हुई है।
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.