कुछ अलग करने की जिद ने दिया हौसला,और बना दिया इस छात्र ने ये सुविधा एप

vishwanath saini

Publish: Feb, 15 2018 05:01:57 (IST)

Sikar, Rajasthan, India
कुछ अलग करने की जिद ने दिया हौसला,और बना दिया इस छात्र ने ये सुविधा एप

अभी वह जयपुर में इंजीनियरिंग कर रहा है। इंजीनियरिंग के तृृतीय वर्ष में पढ़ रहा है। एप को हाल ही लांच किया गया है।

फतेहपुर. कुछ अलग करने की जिद करते करते छात्रों के एक समूह ने एक सुविधा एप तैयार कर दिया। सुविधा एप के माध्यम से कोटा रेल मण्डल से गुजरने वाली ट्रेनों के यात्रियों को अब आपात स्थिति में चिकित्सा सुविधा मिल सकेगी। अब यात्रियों को टीटीई व अन्य रेलवे कर्मी का इंतजार भी नहीं करना पड़ेगा। यह एप फतेहपुर निवासी पंकज महर्षि व उनकी टीम ने तैयार किया है। अब यात्री रेल हैल्थ कोटा एप की मदद से सीधी सूचना भेज सकेंगे।

 

एप को देखने के बाद पश्चिम मध्य रेलवे के महाप्रबंधक गिरिश पिल्लई ने लांच किया है। जयपुर की जेईसीआरसी कॉलेज के मैकेनिकल विभाग के छात्र पंकज महर्षि ने रेल सफर के दौरान यह कमी महसूस की। महर्षि को लगा कि किस तरह से यात्रियों को सुविधा दी जा सकती है, इसके बाद साथी सुमित मित्तल, दीक्षा लाट के साथ मिलकर इस तरह का एक एप तैयार कर दिया।

 

अब एप में मौजूद इमरजेंसी बटन दबाते ही यात्री को चिकित्सकीय सुविधा मुहैया हो जाएगी। पंकज फतेहपुर का रहने वाला है, उसने स्कूली शिक्षा भी फतेहपुर से ही पूरी की। अभी वह जयपुर में इंजीनियरिंग कर रहा है। इंजीनियरिंग के तृृतीय वर्ष में पढ़ रहा है। एप को हाल ही लांच किया गया है।

 

VIDEO : राजस्थान में प्रिंसिपल ने पूरी स्कूल को इसलिए डेढ़ घंटे तक बनाया मुर्गा, 4 छात्राओं की तबीयत बिगड़ी

 

सफल रहा तो पूरे देश में होगा लांच

पंकज ने बताया कि अभी एप कोटा मंडल से गुजरने वाली ट्रेनों में काम करेगा। यह सफल रहा तो इसे अन्य मण्डलों में भी शुरू किया जाएगा। भविष्य में एप में सुधार करके पीएनआर, टिकट नंबर व क्लास का ऑपशन भी दिया जाएगा।

 

khatushyam ji Mela 2018 : खाटू लक्खी मेले में बिकेंगे अवैध हथियार, श्याम भरोसे रहेगी भक्तों की सुरक्षा

 

ऐसे काम करेगा एप

यात्री को प्ले स्टोर से पहले रेल हैल्थ कोटा एप डाउनलोड करना होगा। यात्रा के दौरान एप में मौजूद इमरजेंसी बटन क्लिक करना होगा। उसके बाद नेक्सट पेज पर कोटा कंट्रोल नंबर डायल पैड कॉल जाएगी। जिस पर संबंधित अधिकारी कॉल रिसीव करेंगे। कॉल पर संबंधित अधिकारी मरीज से समस्या पूछेगा। उसके बाद अगले स्टेशन पर उसे मेडिकल सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी।

 

Rajasthan Patrika Live TV

1
Ad Block is Banned