scriptNow every year less candidates will be involved in REET | नौकरी मिले या नहीं, अब हर साल रीट में कम शामिल होंगे अभ्यर्थी, इस बार ही घटे लाख आवेदन | Patrika News

नौकरी मिले या नहीं, अब हर साल रीट में कम शामिल होंगे अभ्यर्थी, इस बार ही घटे लाख आवेदन

सीकर. REET के जरिए सरकार नौकरी देकर बेरोजगारी तो कम नहीं कर सकी, लेकिन बदले हुए नियमों की वजह से लगातार अभ्यर्थियों की संख्या में कमी आ रही है।

सीकर

Published: June 02, 2022 12:39:15 pm

अजय शर्मा
सीकर. REET के जरिए सरकार नौकरी देकर बेरोजगारी तो कम नहीं कर सकी, लेकिन बदले हुए नियमों की वजह से लगातार अभ्यर्थियों की संख्या में कमी आ रही है। पिछली रीट परीक्षा में 24 लाख से अधिक अभ्यर्थी शामिल हुए थे। जबकि इस बार यह आंकड़ा 16.44 लाख पर ही थम गया है। अब सरकार ने रीट पात्रता परीक्षा की वैद्यता को लाइफ टाइम कर दिया है। ऐसे में अगली रीट में आवेदनों की संख्या में 50 फीसदी तक गिरावट आ सकती है। इस बार प्रदेश में तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के लिए 23 व 24 जुलाई को रीट परीक्षा का आयोजन संभावित है। हालांकि सरकार परीक्षा को दो दिन के बजाय चार दिन कराने की भी तैयारी में है। इस बार आवेदन कम होने के पीछे बड़ी वजह यह भी है कि इस बार प्रथम लेवल में बीएड डिग्रीधारियों ने आवेदन नहीं किए हैं। प्रथम लेवल में पिछली रीट के मुकाबले नौ लाख से कम आवेदन हुए हैं। प्रथम लेवल में कई अभ्यर्थी ऐसे हैं जिन्होंने पिछली परीक्षा में ही पात्रता हासिल कर ली थी। ऐसे अभ्यर्थियों की ओर से इस भर्ती में आवेदन नहीं किया गया है। दरअसल, तृतीय श्रेणी शिक्षकों के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा पास करना अनिवार्य है। वर्ष 2011 से लगातार राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (RBSE) की ओर से शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन किया जा रहा है।

नौकरी मिले या नहीं, अब हर साल रीट में कम शामिल होंगे अभ्यर्थी, इस बार ही घटे लाख आवेदन
नौकरी मिले या नहीं, अब हर साल रीट में कम शामिल होंगे अभ्यर्थी, इस बार ही घटे लाख आवेदन

ऐसे समझें पूरा गणित
रीट प्रथम लेवल (REET Lavel 1): इस बार 3.86 लाख होंगे शामिल, पिछली बार थे 12.67 लाख
पिछली रीट भर्ती में प्रथम लेवल में 12 लाख 67 हजार 983 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया था। जबकि इस बार प्रथम लेवल में आवेदन महज 3 लाख 86 हजार 508 पर ही पहुंचा है। पिछली भर्ती के समय बीएड डिग्रीधारियों ने आवेदन कर दिया था। लेकिन प्रथम लेवल में बीएड डिग्रीधारियों को शामिल करने की अनुमति नहीं देने के बाद इस बार आवेदन कम हुए हैं।

रीट द्वितीय लेवल: परीक्षा रद्द होने की वजह से ज्यादा अंतर नहीं
प्रश्न पत्र आऊट होने की वजह से सरकार ने रीट द्वितीय लेवल की परीक्षा को रद्द कर दिया था। पिछली रीट भर्ती में द्वितीय लेवल में 12 लाख 67 हजार 539 ने आवेदन किया था। जबकि इस बार 12 लाख 57 हजार 738 अभ्यर्थियों ने आवेदन किया है।


तीन साल की जगह अब लाइफ टाइम वैद्यता

रीट प्रमाण पत्रों की वैद्यता को लेकर बोर्ड काफी विवादों में रहा है। पहले वैद्यता तीन साल थी। पिछले साल रीट प्रश्न पत्र के आऊट होने के विवादों के बीच सरकार ने सीटेट की तर्ज पर वैद्यता लाइफ टाइम कर दी थी। अब तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्तियों के लिए बेरोजगारों को हर बार परीक्षा नहीं देनी पड़ेगी। इससे बेरोजगारों को काफी राहत मिलेगी।

एक दिन की जगह कई पारियों में हो सकती है परीक्षा
रीट प्रथम लेवल में इस बार अभ्यर्थियों की संख्या काफी कम है। ऐसे में सरकार इस परीक्षा को एक ही दिन कराने की तैयारी में है। जबकि द्वितीय लेवल में इस बार भी अभ्यर्थियों की संख्या साढ़े बारह लाख है। पिछली बार भी द्वितीय लेवल के प्रश्न पत्र को सरकार ने आउट माना था। सरकार ने प्रथम लेवल में तो लगभग साढ़े 15 हजार पदों पर भर्ती करा ली, लेकिन द्वितीय लेवल में भर्ती नहीं हो सकी थी। इस बार द्वितीय लेवल की परीक्षा तीन से चार पारियों में कराने की तैयारी में है।

रीट से इस बार 45 हजार को नौकरी
शिक्षक पात्रता परीक्षा के जरिए इस बार प्रदेश के 45 हजार बेरोजगारों को तृतीय श्रेणी शिक्षकों की नौकरी मिल सकेगी। इस बार ज्यादा पद लेवल द्वितीय में रहेगे। प्रथम लेवल की एक भर्ती इस साल पूरी होने की वजह से इस बार की भर्ती में प्रथम लेवल के 15 से 16 हजार पद आने की उम्मीद है।

दो परीक्षा से चयन, रीट सिर्फ पात्रता

प्रदेश में इस बार तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के लिए पैटर्न भी बदल दिया है। रीट के बाद एक और परीक्षा होगी। इसके आधार पर अभ्यर्थियों का चयन होगा। दूसरी परीक्षा का आयोजन कर्मचारी चयन बोर्ड की ओर से कराया जाएगा।

एक्सपर्ट व्यू: समय पर हो रीट तो और कम हो सकता है आंकड़ा

देशभर में सीटेट परीक्षा अमूमन साल में दो बार होती है। राजस्थान में शिक्षक पात्रता परीक्षा का आयोजन तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती के समय ही होता है। यदि सरकार की ओर से साल में कम से कम एक बार रीट परीक्षा कराई जाए तो बेरोजगारों को काफी राहत मिल सकती है। इससे अभ्यर्थियों की संख्या में और कमी आएगी। इसका फायदा भर्ती की पारदर्शिता पर नजर आएगा।

परमेश्वर शर्मा, भर्ती मामलों के विशेषज्ञ, सीकर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.