अब गैंगस्टर ने शुरू की सूदखोरी, 30 लाख के बदले वसूले सात करोड़ रुपये

सीकर. नासूर बनी सूदखोरी में अब गैंगवार से जुड़े लोग भी शामिल हो गए हैं। खाली चैक, दस्तावेजों पर हस्ताक्षर के साथ गैंगवार से जुड़े लोग इन सूदखोरों की वसूली करने लग गए हैंं।

By: Sachin

Published: 16 Oct 2020, 09:03 AM IST

सीकर. नासूर बनी सूदखोरी में अब गैंगवार से जुड़े लोग भी शामिल हो गए हैं। खाली चैक, दस्तावेजों पर हस्ताक्षर के साथ गैंगवार से जुड़े लोग इन सूदखोरों की वसूली करने लग गए हैंं। स्थिति यह है कि एक परिवार से 30 लाख के बदले सात करोड़ की राशि सूद में हड़प ली गई। अब मकान और दुकान पर संकट आया तो यह परिवार फरियाद लेकर पुलिस के पास पहुंचा। पुलिस ने सूदखोर गिरोह के रंगा-बिल्ला, राजू ठेहट गिरोह से जुड़े मनोज ओला अन्य के खिलाफ मामला दर्ज किया है। परिवार का कहना है कि सूदखोरी के इस दंश ने उन्हें मौत के करीब पहुंचा दिया है। पुलिस ने न्याय नहीं किया तो परिवार के पास जान देने के अलावा कोई चारा नहीं बचेगा। पीडि़त परिवार शहर के राधाकिशनपुरा वंदेमातरम चौक क्षेत्र का निवासी हरिकिशन सैनी का है। हरिकिशन की ओर से उद्योग नगर थाने में दर्ज मामले में बताया गया है कि उसने पारिवारिक आवश्यकता के चलते वर्ष 2015 में परिचित व्यक्ति के माध्यम से पिपराली रोड धोबी मस्जिद के पास की गली के निवासी फारूक धोबी उर्फ रंगा-बिल्ला से तीस लाख रुपए उधार लिए थे। इस दौरान दो रुपए सैकड़ा का ब्याज देने की बात तय हुई थी। पैसा देने के दौरान रंगा-बिल्ला ने खाली चैक, स्टाम्प व खाली पन्ने पर हस्ताक्षर करवा कर ले लिए थे। उस दौरान कहा गया था कि जब पैसों का हिसाब होगा तो यह दस्तावेज वापस लौटा दिए जाएंगे। हर माह वह इसका ब्याज लेने लगा। छह माह बाद ब्याज देने में विलंब हुआ तो वह जुर्माना व ब्याज जोड़कर 37 लाख 92 हजार रुपए 12 रुपए प्रति सैकड़ा की दर से ब्याज जोड़कर मांगने लगा।
जान से मारने की धमकी दी, बिकवा दी खेत की जमीन

हरिकिशन परेशान होकर फारूक धोबी, उसके भाई राजन, रसीद, जुबेर व अमर बेहलीम से निवदेन किया तो उसे अपने घर ले जाया गया। डरा-धमकाकर जान से मारने की धमकी देकर पिता के नाम पर स्थित कृषि भूमि पर भूखंड काटने के लिए विवश किया। गिरोह के लोग खेत की जमीन के प्लाट काटकर बिकवाते गए और प्लाट बिकने के साथ ही पैसा खुद लेने लगे। हिसाब की स्थिति देखे तो एक लाख रुपए पर एक हजार रुपए प्रतिदिन का सूद तय कर दिया। स्थिति यह है कि हरिकिशन ने पिपराली रोड की जमीन बेचकर 82 लाख 50 हजार, एक करोड़ साठ लाख रुपए, वर्ष 2017 में दुकान बेचकर एक करोड़ 73 लाख रुपए किश्तों में ब्याज अदा किया। देवगढ़ में स्थित परिवार की 10 बीगा कृषि भूमि बेचकर एक करोड़ 81 लाख रुपए ब्याज अदा किया। हरिकिशन की ओर से पुलिस को दिए गए हिसाब में बताया गया है कि उसने अब करीब सात करोड़ रुपए सूदखोरों को चुका दिए।
इनका कहना है

सूदखोरी को लेकर पुलिस गंभीर है। पीडि़त ने पेश होकर परिवाद पेश किया था, जिस पर मामला दर्ज कर जांच करने के आदेश दिए गए हैं। पुलिस मामले की गहराई से जांच करेगी।
डॉ. देवेन्द्र कुमार शर्मा

अपर पुलिस अधीक्षक, सीकर

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned