रैला में निरीक्षण करने पहुंचे अधिकारी तो मशीनें बाहर निकाल ले गये खान मालिक

सीकर/नीमकाथाना. राजस्थान के सीकर जिले में नीमकाथाना कस्बे के रैला खनन क्षेत्र में हो रहे प्रदूषण व अनियमित खनन के विरोध में एनजीटी भोपाल में लगाई गई जनहित याचिका के चलते संयुक्त जांच दल ने मंगलवार को रैला का दौरा कर निरीक्षण किया।

By: Ashish Joshi

Published: 24 Jun 2020, 03:30 PM IST

सीकर/नीमकाथाना. राजस्थान के सीकर जिले में नीमकाथाना कस्बे के रैला खनन क्षेत्र में हो रहे प्रदूषण व अनियमित खनन के विरोध में एनजीटी भोपाल में लगाई गई जनहित याचिका के चलते संयुक्त जांच दल ने मंगलवार को रैला का दौरा कर निरीक्षण किया। दल में डीएफ ओ भीमाराम चौधरी, एसडीएम साधुराम जाट, तहसीलदार बृजेश कुमार गुप्ता, सहायक खनि अभियंता मनोज शर्मा, सिंचाई विभाग के अधिशाषी अभियंता भोलाराम व प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के नीरज शर्मा शामिल रहे। संयुक्त दल ने रैला खनन क्षेत्र का दौरा कर नजदीकी बांध व मकानों का निरीक्षण किया व वन विभाग द्वारा डायवर्जन किए गये रास्ते का भी निरीक्षण किया। इस दौरान ग्रामीणों ने यहां हो रही भारी ब्लास्टिंग व प्रदूषण की शिकायत की। रैला खनन क्षेत्र में हो रहे नियम विरुद्ध खनन के विरोध में एनजीटी भोपाल में जनहित याचिका दायर की गई है। जिसकी सुनवाई 14 जुलाई को होनी है। संयुक्त दल ने लगभग तीन घंटे मौका निरीक्षण किया।
----------------------------
बन्द रहा खनन कार्य, मशीनें बाहर निकाल ले गये खान मालिक
रैला में संयुक्त जांच दल के निरीक्षण की सूचना पहले ही खान मालिकों को मिल गई। जिससे उन्होंने खानों में खनन कार्य को पूरी तरह से बन्द रखा। खानों में लगी लगभग दो दर्जन पॉकलैन मशीनों को खानों से बाहर निकाल कर कई दूर खड़ा कर दिया गया। खानों में खनन कार्य पूरी तरह बन्द होने से जांच दल के सामने वास्तविकता नहीं आ पाई। ग्रामीणों का आरोप है कि यदि वास्तव में रैला में खनन कार्य पूरी तरह से वैधानिक है तो खान मालिक अपनी मशीनों को बाहर निकाल कर क्यों ले गये।

Ashish Joshi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned