प्रधानमंत्री की ब्लेक आउट अपील पर विधायक सिंह ने कहा- पद के लायक नहीं, प्रधानमंत्री हैं कोई झाड़ फूंक वाले बाबा नहीं

सीकर. कोरोना वायरस (Corona Virus) व लॉकडाउन (Lockdown) के हालातों में पत्रिका फोरम कार्यक्रम के तहत पत्रिका सोमवार को दांतारामगढ़ विधायक चौधरी वीरेन्द्र सिंह (Dantaramgarh MLA Virendra Singh) व जनता के बीच सेतु बना।

By: Sachin

Published: 07 Apr 2020, 12:06 PM IST

सीकर. कोरोना वायरस (Corona Virus) व लॉकडाउन (Lockdown) के हालातों में पत्रिका फोरम कार्यक्रम के तहत पत्रिका सोमवार को दांतारामगढ़ विधायक चौधरी वीरेन्द्र सिंह (Dantaramgarh MLA Virendra Singh) व जनता के बीच सेतु बना। लॉकडाउन में घर से ही पूरे विधानसभा क्षेत्र की मॉनिटरिंग कर रहे सिंह ने इस दौरान लॉकडाउन हटने के बाद भी खाटूश्यामजी (Khatushyamji)में श्रद्धालुओं की सोशल डिस्टेंसिग का प्लान रखा, तो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) के रविवार के ब्लेकडाउन पर भी सवाल उठाए। सोशल मीडिया के जरिए आए बाहरी इलाकों में फंसे स्थानीय मजदूरों की वापसी के सवाल पर उनका कहना था कि यह केंद्र सरकार का फैसला है। फिर भी अपने लेटरपेड पर लिखकर उन्होंने कई जगह संबंधित सरकारों से उनकी सुरक्षा व सुरक्षित वापसी के बारे में लिखा है। क्षेत्र के जरुरतमंदों की मदद के प्रयास पर बोले कि कार्यकर्ताओं के साथ अपने स्तर पर 9 लाख का समान जुटाकर हर पंचायत में 20-20 किलो की राहत सामग्री बांटी जा रही है। अब तक 47 पंचायतों में 1500 पैकेट बांटे जा चुके हैं। 9 पंचायतों में दो दिन में बंाट दिए जाएंगे। इसके बाद भी लोगों की हर संभव मदद की जाएगी। क्षेत्र में स्वास्थ्यकर्मियों के पास पर्याप्त संसाधन नहीं होने के सवाल पर उन्होंने इसके लिए विधायक कोटे से मास्क, सेनेटाइजर व अन्य सुविधा मुहैया कराने की बात भी कही। सेनेटाइजेशन से बचे गांवों को भी जल्द सेनेटाइज करने का आश्वासन दिया। क्वारेंटाइन सेंटर बनाए गए स्कूलों में शिक्षकों की सुरक्षा के सवाल पर कहा कि उन केंद्रों पर संदिग्ध नहीं रखे जा रहे हैं। लिहाजा शिक्षक सुरक्षित हैं।

 

खतरा कम होने पर ही खुलेगा खाटूश्यामजी मंदिर

लॉकडाउन के बाद खाटूश्यामजी में श्रद्धालुओं की भीड़ में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना की चुनौती के सवाल पर विधायक सिंह ने कहा कि कोरोना का खतरा पूरा कम होने पर ही खाटूश्यामजी मंदिर खोला जाएगा। इसके बाद भी सुरक्षा के लिहाज से सोशल डिस्टेंसिंग बरकरार रखने के लिए बेरीगेटिंग्ज व जिगजैग के जरिए श्रद्धालुओं को लंबे रास्तों से मंदिर पहुंचाने की योजना बनाई जाएगी।

 

प्रधानमंत्री पद लायक फैसला नहीं


विधायक सिंह ने इस दौरान प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के रविवार की ब्लेक आउट की अपील पर भी सवाल उठाए। मामले में पूछे गए सवाल पर उनका कहना था कि प्रधानमंत्री ने बिना किसी तकनीकी राय के यह कदम उठाया, जिससे पावर ग्रिड फैल होने का खतरा पैदा हो गया था। कहा, कि रोशनी की अपील प्रधानमंत्री पद के लायक नहीं थी। कहा, कि वह झाड़ फूंकवाले बाबा नहीं जो अंधेरा व रोशनी की बात कर रहे हैं। बोले, विश्व में संकट के इस दौर में आतिशबाजी कर खुशियां मनाना कहां उचित था। कहा कि भाजपा के स्थापना दिवस के उपलक्ष्य में यह जश्न किए जाने की बातें भी सामने आई है। लॉकडाउन में आतिशबाजी के लिए पटाखे कहां से आए यह भी बड़ा सवाल है। कहा कि जनता जब लॉकडाउन व सरकार के आदेश मानकर देशभक्ति का परिचय दे रही है, तो क्यों रोशनी के नाम पर उनकी देशभक्ति जांची जा रही है? हर तहसील पर हो बड़ा अस्पतालसवालों के जवाब में सिंह ने कोरोना को स्वास्थ्य सुविधाओं की जांच की कसौटी भी बताया। कहा, कि महामारी ने हर तहसील स्तर सुविधायुक्त बड़े अस्पताल की मांग बढ़ा दी है। उम्मीद है कि ऐसे अस्पताल बनेंगे भी। पत्रिका के करमवीर अभियान को भी सराहते हुए उन्होंने कोरोना योद्धाओं के लिए हर संभव मदद का आश्वासन दिया।

pm modi PM Narendra Modi
Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned