VIDEO. क्रेशर मशीन के पट्टे में आने से मजदूर की दर्दनाक मौत, परिजनों ने शव उठाने से किया इन्कार

राजस्थान के सीकर जिले के अजीतगढ़ थाना इलाके में हरिपुरा मोड़ पर एक क्रेशर के पट्टे में आने से एक मजदूर की दर्दनाक मौत हो गई।

By: Sachin

Published: 11 Apr 2021, 05:37 PM IST

सीकर. राजस्थान के सीकर जिले के अजीतगढ़ थाना इलाके में हरिपुरा मोड़ पर एक क्रेशर के पट्टे में आने से एक मजदूर की दर्दनाक मौत हो गई। मृतक भिखरू की ढाणी निवासी 45 वर्षीय रामनिवास जाट था। जिसकी मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल की मोर्चरी के बाहर हंगामा कर दिया। क्रेशर संचालकों की लापरवाही को मजदूर की मौत का जिम्मेदार मानते हुए उन्होंने शव उठाने से मना कर दिया। निष्पक्ष जांच के साथ मुआवजे की मांग भी की। करीब तीन घंटे तक परिजनों व ग्रामीणों के प्रदर्शन के बाद क्रेशर संचालक व प्रदर्शनकारियों के बीच समझौता हुआ। जिसके बाद परिजनों ने मजदूर का शव उठाकर अंतिम संस्कार किया।

ये था मामला
जानकारी के अनुसार भिखरू की ढाणी निवासी 45 वर्षीय रामनिवास जाट हरिपुरा मोड़ पर स्थित शिव शंकर मिनरल्स में तीन साल से काम करता था। रविवार सुबह करीब नौ बजे काम करते हुए वह अचानक क्रेशर के पट्टे की चपेट में आ गया। जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। फैक्ट्री के मजदूरों ने उसे देखा तो तुरंत क्रेशर मशीन को रोककर उसे बाहर निकाला और अजीतगढ़ थाना पुलिस को इसकी सूचना दी। सूचना पर पुलिस तुरंत मौके पर पहुंची और मृतक को सरकारी अस्पताल भिजवाया। जहां उसकी मौत की पुष्टि के बाद शव अस्पताल की मोर्चरी में रखवा दिया। इसी बीच मृतक रामनिवास के परिजन और ग्रामीण वहां पहुंच गए और शव लेने से इन्कार कर दिया। धरने पर बैठकर वे मामले की जांच व 25 लाख रुपए के मुआवजे की मांग पर अड़ गए। सूचना पर अजीतगढ़ थानाप्रभारी सवाई सिंह पुलिस जाब्ते के साथ अजीतगढ़ चिकित्सालय पहुंचे और परिजनों को समझाने का प्रयास किया। लेकिन, परिजन अपनी मांग से नहीं डिगे। आखिरकार फैक्ट्री मालिकों, मिनरल्स एसोसिएशन के सदस्यों व प्रदर्शनकारियों के बीच तीन घंटे की कई दौर की वार्ता के बाद पांच लाख रुपए के मुआवजे व पर सहमति बनी। इसके बाद परिजनों ने पोस्टमार्टम के बाद शव लिया। मृतक के भाई की रिपोर्ट पर पुलिस ने मामले की जांच भी शुरू कर दी है।

परिवार का मुखिया था मृतक
मृतक रामनिवास के परिवार की आर्थिक हालत बेहद खराब बताई जा रही है। दो बच्चों के पिता रामनिवास की मजदूरी से ही परिवार का गुजर बसर हो रहा था। परिवार के मुखिया की मौत का समाचार सुनकर परिजनों को रो- रोकर बुरा हाल हो गया।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned