scriptPatriotic soldier Karamat Ali is filling patriotism in yoth | 37 साल देश सेवा कर तीन बेटों को सेना में भेजा, अब युवाओं में जज्बा भर रहे करामत | Patrika News

37 साल देश सेवा कर तीन बेटों को सेना में भेजा, अब युवाओं में जज्बा भर रहे करामत

देश भक्त सैनिक करामत अली युवाओं में भर रहे देश भक्ति की भावना

सीकर

Updated: January 15, 2022 07:02:41 pm

रविन्द्र सिंह राठौड़
सीकर. शेखावाटी के जर्रे-जर्रे में वीर शहीदों की गाथाएं हैं तो हर गांव-ढाणी में शहीद स्मारक। युद्ध चाहे कोई भी हो, शेखावाटी के वीर सपूतों ने हमेशा तिरंगे का मान बढ़ाया है। शेखावाटी के कई गांव और कई परिवार ऐसे हैं जिनका सेना से कई पीढिय़ों से जुड़ाव है। इसी तरह के जुड़ाव की कहानी है लक्ष्मणगढ़ इलाके के गौरव सेनानी करामत अली पठान के परिवार की। उन्होंने खुद सेना में 37 साल सेवाएं दी। इसके बाद अपने तीन बेटों को भी देश सेवा में भेज दिया। अब गांव-ढाणियों में जहां भी जाते हैं युवाओं को सेना भर्ती में शामिल होने के टिप्स देकर प्रोत्साहित करते हैं। बकौल पठान, सेना में एक सैनिक अपने कर्तव्य को ईमानदारी, निस्वार्थ, निष्पक्ष व निर्भीक होकर पूरा करता है। भारतीय सेना की अनुशासन के मामले में पूरी दुनिया में एक मिसाल है। इसलिए अनुशासन का दूसरा नाम ही भारतीय सेना है। बोले- बेटों को वे दूसरे कॅरियर की तरफ मोड़ सकते थे, लेकिन परिवार का सेना से ऐसा जुडाव बन गया कि पहले देश सेवा का विकल्प ही चुनते हैं। पठान के प्रोत्साहन की बदौलत सैकड़ों युवा सेना में शामिल हो चुके हैं।

37 साल देश सेवा कर तीन बेटों को सेना में भेजा, अब युवाओं में जज्बा भर रहे करामत
37 साल देश सेवा कर तीन बेटों को सेना में भेजा, अब युवाओं में जज्बा भर रहे करामत

आर्मी व बीएसएफ दोनों में की देश सेवा
लक्ष्मणगढ़ के खीरवा गांव निवासी हवलदार करामत अली पठान भारतीय सेना व बीएसएफ दोनों में सेवा दे चुके हैं। 85 वर्षीय करामत अली ने 18 साल आर्मी और 19 साल बीएसएफ में सेवा देकर मान बढ़ाया। आर्मी में कैवेलरी 61 से हवलदार और बीएसएफ में इंस्पेक्टर के पद से सेवानिवृत्त होने के बाद करामत अली युवाओं को आगे बढऩे की प्रेरणा दे रहे हैं। इनके गांव में करीब 90 भूतपूर्व सैनिक हैं।

पांच बार सम्मानित हुए पठान
हवलदार करामत अली पठान नेशनल डिफेंस एकेडमी की पासिंग आउट परेड में तत्कालीन राष्ट्रपति जाकिर हुसैन से सम्मानित हुए। उसके बाद घुड़सवारी के थ्री डे इंवेट में टीम का तीसरा व स्वयं ने पहला स्थान प्राप्त कर सम्मानित हुए। इसी तरह दो बार घुड़सवारी के थ्री डे इंवेट में राष्ट्रपति वीवी गिरी व ज्ञानी जैल ङ्क्षसह से सम्मानित हुए। बीएसएफ की ओर से प्री ओलंपिक में घुड़सवारी में स्वर्ण पदक जीतने पर राष्ट्रपति नीलम संजीव रेड्डी ने सम्मानित किया।


तीन बेटे सेना में ऑफिसर

हवलदार पठान के तीन बेटे ऑफिसर रैंक पर देश की सेवा कर रहे हैं। पहला बेटा याकूब अली पठान बीएसएफ में डिप्टी कमांडर के पद पर जयपुर तैनात है। दूसरा बेटा सलीम पठान कैवेलरी में लेफ्टिनेंट कर्नल के रूप में हिसार में पदस्थापित हैं। तीसरा बेटा इरफान पठान नेवी में लेफ्टिनेंट कमांडर के पद पर दिल्ली में कार्यरत है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Assembly Election 2022: चुनाव आयोग ने रैली और रोड शो पर लगी रोक आगे बढ़ाई,अब 22 जनवरी तक करना होगा डिजिटल प्रचारArmy Day 2022: सेना प्रमुख MM Naravane ने दी चीन को चेतावनी, कहा- हमारे धैर्य की परीक्षा न लेंUP Election 2022 : भाजपा उम्मीदवारों की पहली लिस्ट जारी, गोरखपुर से योगी व सिराथू से मौर्या लड़ेंगे चुनावUttar Pradesh Assembly Elections 2022: टूटेगी मायावती और अखिलेश की परंपरा, योगी आदित्यनाथ गोरखपुर से लड़ेंगे विधानसभा चुनावPunjab Assembly Election: कांग्रेस ने जारी की 86 उम्मीदवारों की पहली सूची, चमकोर से चन्नी, अमृतसर पूर्व से सिद्धू मैदान मेंदिल्ली में लगातार दूसरे दिन कम हुए कोरोना केस, जानिए कितने मरीजों ने गंवाई जानअब हर साल 16 जनवरी को मनाया जाएगा National Start-up DayHaryana: सरकार का निर्देश, बिना वैक्सीन लगाए 15 से 18 वर्ष के बच्चों को स्कूल में नहीं मिलेगी एंट्री
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.