समस्या से परेशान महिलाओं ने उठाया ये कदम तो सकते में आए अधिकारी

वार्ड तीन के लोगों ने हल्ला बोला, नगर परिषद आयुक्त के चैम्बर में डाला डेरा

By: Vinod Chauhan

Updated: 05 Sep 2019, 06:25 PM IST

सीकर. टूटी सडक़ें, गंदगी के ढेर और गंदे पानी के भराव से परेशान शहर के लोगों के सडक़ पर आने के बाद अब नगर परिषद के कार्यालय पर हल्ला बोलने लगे हैं। शहर के दो क्षेत्रों के लोगों ने बुधवार को नगर परिषद में जमकर प्रदर्शन किया। वार्ड तीन की महिलाओं ने परिषद के आयुक्त के कार्यालय में डेरा डाल लिया। आयुक्त की अनुपस्थिति में परिषद के अन्य अधिकारियों को महिलाओं ने जमकर खरीखोटी सुनाई।
महिलाएं कार्यालय में फर्स पर ही बैठ गई और समस्या का समाधान नहीं होने तक वहीं पर डटे रहने का एेलान कर दिया। हालात के देखते हुए परिषद के अधिकारियों ने तत्काल मौका मुआयना किया। बाद में परिषद की सचिव रेखा मीणा ने क्षेत्र में तत्काल सफाई करवाने और एक माह में सडक़ व नाली की समस्याओं का समाधान करने के आश्वासन देकर धरना
समाप्त करवाया।
पैदल चलना दूभर, बच्चे गिरते दूषित पानी में
शहर के वार्ड नंबर तीन के करीब चार दर्जन महिला-पुरूष सुबह करीब दस बजे नगर परिषद पहुंचे। उस दौरान आयुक्त अपने कार्यालय में उपस्थित नहीं थे। महिलाओं ने चैम्बर में घुसकर उस पर कब्जा कर लिया। परिषद की महिला अधिकारियों ने महिलाओं ने बातचीत कर उन्हें शांत करने का प्रयास किया। लेकिन आक्रोशित महिलाएं वहीं पर डेरा डालकर बैठ गई। महिलाओं का कहना था कि लम्बे समय से उनके क्षेत्र में समस्याओं का अंबार लगा हुआ है। समाधान के लिए कई बार ज्ञापन दे दिए गए, लेकिन परिषद उनकी समस्या के समधान का प्रयास नहीं कर रही है। लम्बे समय से नालों की सफाई नहीं करवाई गई है। नालों के क्षतिग्रस्त होने से आम रास्तों में दूषित पानी भरा रहता है। यहां तक की बकरा मंडी की गंदगी उनके घरों तक पहुंच रही है। गलियों में पैदल नहीं चला जा सकता। क्षेत्र के बच्चे कई बार गंदे पानी में गिर गए। इस दौरान मोहल्ले के लोगों और परिषद के अधिकारियों के बीच काफी बहस हुई।
बीमारियों का खतरा
शहर के रानी महल के सामने मोहम्मदी मस्जिद वाली गली में भरे गंदे पानी की निकासी की मांग को लेकर भी क्षेत्र के लोग नगर परिषद पहुंचे। लोगों ने इंडियन पीपल्स ग्रीन पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष मोहम्मद कासिम खिल्जी के नेतृत्व में परिषद की सचिव को ज्ञापन दिया। लोगों ने बताया कि क्षेत्र का पानी पहले रेलवे की खाली जगह में इक_ा होता था। लेकिन अब रेलवे ने वहां पर चार दीवारी निर्माण करवा दिया है। एेसे में पिछले दो वर्ष से पानी की निकासी नहीं हो पा रही है। आम रास्ते में भरे गंदे पानी के कारण बीमारियां फैलने का खतरा हो गया है। वहीं मस्जिद में नमाज पढऩे जाने वाले लोगों को भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इससे क्षेत्र के कई मकानों में दरारें भी आ गई है।
इधर, सफाई कर्मचारियों ने दी चेतावनी
जनता के आंदोलन के बीच वर्ष २०१८ की भर्ती के अन्य जातियों के कर्मचारियों को मूल पद पर लगाने की मांग को लेकर सफाई मजदूर कांग्रेस से जुड़े सफाई कर्मचारियों ने शुक्रवार से आंदोलन करने की चेतावनी दी है। जिलाध्यक्ष सुरेश झाझोटर के नेतृत्व में दिए ज्ञापन में बताया गया है कि भर्ती में वाल्मिकी समाज के साथ अन्य कर्मचारियों को भी भर्ती किया गया था। लेकिन सीकर में अन्य वर्गों के कर्मचारियों से सफाई कार्य ना करवा कर अन्य कार्यों पर लगाया हुआ है। इस मामले में स्वायत्त शासन विभाग के आदेशों की भी अवहेलना की जा रही है। वहीं सफाई कर्मचारियों की पदोन्नति के मामले में भी कार्रवाई नहीं की जा रही है। ज्ञापन में बताया गया है कि मांगों का समाधान नहीं होने पर शुक्रवार से आंदोलन शुरू किया जाएगा।

इनका कहना है
शहर के वार्ड नंबर तीन में गुरुवार से नाले की सफाई का कार्य शुरू करवा दिया जाएगा। सडक़ व अन्य समस्याओं का भी जल्द समाधान करवाने का प्रयास किया जा रहा है। मोहम्मदी मस्जिद वाली गली में गंदे पानी भरने की समस्या का मौका देखा गया है। जल्द ही समाधान कर लोगों को राहत दी जाएगी।
रेखा मीणा, सचिव नगर परिषद, सीकर

Vinod Chauhan
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned