ऑनलाइन लॉटरी, पुरस्कार का लालच कर रहा कंगाल

-नीमकाथाना में आमजन की जेब पर डल चुका है 4 लाख रुपए से ज्यादा का डाका
-शहर में एक दर्जन से ज्यादा लोग फर्जी बैंककर्मी से तो कोई फाइनेंसर से हो चुके है ठगी के शिकार

By: Ashish Joshi

Published: 22 Feb 2021, 10:09 AM IST

सीकर/नीमकाथाना. तकनीकी के जमाने को देखते हुए ऑनलाइन online खरीदारी के चलन में आमजन खुब ठगी fraud के शिकार हो रहे है। व्यक्ति की छोटी-छोटी गलतियां व लालच उनको बड़ा झटका दे जाता है। बाद में वह अपने धोखे से उबरते ही नही है। क्षेत्र में हर माह 1-2 व्यक्ति ठगी के शिकार हो रहे है। पुलिस लगातार गिरोह का पर्दाफाश करने की कोशिश कर रही है, लेकिन दूर दराज क्षेत्र में बैठे ठग सिमकार्ड व अपना क्षेत्र बदल लेने से पुलिस उनकी सह तक पहुंच नहीं पाती है। ठगों से निपटने के लिए एक ही तरीका है कि आमजन को उनके मोबाइल पर आने वाले अनजान कॉल को इग्नोर करें तथा बैंंक संबधित जानकारी किसी से साझा नहीं करें। कोतवाली पुलिस में दर्ज वर्ष 2020-21 के मामलों को उठाकर देखा जाए तो कोई ठग फर्जी बैंककर्मी बनकर तो कोई ऑलइंडिया फाइनेंसर बनकर आमजन से धोखाधड़ी की है। वहीं कई लोग फोन पे, गुगल पे के माध्यम से व मोबाइल पर ऑनलाइन पुरस्कार जीतने के लालच में आकर ठगी के शिकार हुए है। पुलिस अधिकारियों की माने तो ऑनलाइन व नेट बैंकिंग में ओटीपी महत्वपूर्ण होता है उसको किसी से साझा नहीं करना चाहिए। मोबाइल पर आने वाले ओटीपी मैसेज को पूरा पढ़े। मोबाइल पर लॉटरी खुलने के मैसेज आने पर एटीएम डेबिट कार्ड से जुड़ी जानकारी किसी से शेयर नहीं करें।
-------------------
4 लाख 47 हजार 806 रुपए की हो चुकी है ठगी
पुलिस में दर्ज एक दर्जन से ज्यादा मामलों के आंकड़ो के अनुसार लोगों से 4 लाख 47 हजार 806 रुपए की ठगी हो चुकी है। ये तो सिर्फ पुलिस के पास रिकॉर्डे में है। इसके अलावा हर दिन कोई ना कोई ठगों के शिकार हो रहे है , जो पुलिस तक नहीं पहुंच पा रहे है।
-------------------
ऐसे अलग-अलग तरह से ठगी के शिकार हुए लोग
केस 1
अभय कॉलोनी वार्ड 32 निवासी रणजीत जाखड़ को मोबाइल पर नजदीकी जानकार बता कर फोन पे से 40 हजार रुपए निकाल कर धोखा कर लिया। पीडि़त ने कोतवाली थाना में शिकायत दर्ज करवाई है।
-----------------
केस 2
ढाणी सेवगावाली सिरोही निवासी रविराय को ऑल इंडिया राजस्थान का फाइनेंसर बताकर अज्ञात व्यक्ति ने एटीएम से 1 लाख 30 हजार रुपए पार कर लिए। पीडि़त ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई।
---------------------
केस 3
वार्ड नंबर 4 निवासी बालेंदर को अज्ञात व्यक्ति ने अपने फेवर में लेकर गुगल पे के माध्यम से स्केन बार कोड से 25 हजार रुपए की धोखाधड़ी कर ली। पीडि़त ने थाना में मामला दर्ज करवाया।
----------------------
केस 4
समीपवर्ती गांव खादरा निवासी पीडि़त मुकेश के साथ ऑनलाइन गाड़ी बेचने के नाम पर 69 हजार 448 रुपए की धोखाधड़ी कर ली। पुलिस मामले की जांच कर रही है।
-------------------
केस 5
छावनी निवासी अजय कुमार को मोबाइल पर नजदीकी रिश्तेदार बताकर फोन के माध्यम से 26 हजार 900 रुपए ठगी कर ली। मामला कोतवाली थाना में दर्ज है।
-------------------
केस 6
शहर निवासी दिशा अजीजा को गुगल पे पर टीवी रिचार्ज करने के बहाने से अज्ञात व्यक्ति ने 98 हजार 458 रुपए की धोखाधड़ी कर ली। मामले की पुलिस में शिकायत दर्ज है।
----------------
केस 7
कुरबड़ा निवासी रामसिंह के खाते से अज्ञात व्यक्ति ने धोखा कर खाते से 30 हजार रुपए पार कर लिए। मामले की शहर कोतवाली में रिपोर्ट दर्ज है।
----------------
केस 8
भूदोली रोड निवासी दुर्गाप्रसाद को पीएनबी बैंक कर्मी बताकर खाता से 22 हजार रुपए पार कर लिए।
----------------
केस 9
फुलसिंह समोता को नेट बैंकिंग के माध्यम से 36 हजार रुपए की धोखाधड़ी कर ली।
-------------------
केस 10
राजवाली निवासी दिलीप कुमार की फेसबुक आइडी हैक कर धोखाधड़ी करने का मामला सामने आया। मामले में पुलिस जांच करने में लग रही है।
-------------------
ठगी के शिकार से इस तरह बचे
पुलिस के अनुसार अगर किसी के पास किसी का फर्जी कॉल आए तो उसको इग्नोर करें। समय-समय पर एटीएम व ऑनलाइन बैंकिंग के पिन नंबर बदलते रहे। एटीएम पर अनजान व्यक्ति की सहायता नहीं ले। मोबाइल पर आने वाली ई-मेल व मैसेज को किसी जानकार से दिखाकर ही आगे की प्रक्रिया करें।
-------------------
इनका कहना है...
थाना में दर्ज मामलों की तह तक जाने में पुलिस पूरे प्रयास कर रही है। आमजन को बढ़ते तकनीकी समय को देखते हुए स्वयं को जागरुक होना होगा। मोबाइल पर आने वाली ओटीपी व स्वयं की बैंकिंग जानकारी अनजान व्यक्ति से साझा ना कर ही अपने आप को धोखाधड़ी से बचाया जा सकता है।
राजेश कुमार, कोतवाल
कोतवाली थाना, नीमकाथाना

Ashish Joshi
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned