कविता: वक्त नहीं

हर ख़ुशी है लोगों के दामन पर एक हँसी के लिए वक़्त नहीं !
दिन रात दौड़ती दुनिया में ज़िंदगी के लिए ही वक़्त नहीं !

By: Sachin

Published: 19 Sep 2020, 05:41 PM IST

हर ख़ुशी है लोगों के दामन पर एक हँसी के लिए वक़्त नहीं !
दिन रात दौड़ती दुनिया में ज़िंदगी के लिए ही वक़्त नहीं !
माँ की लोरी का एहसास तो है पर माँ को माँ कहने का वक़्त नहीं !
सारे रिश्तों को तो हम मार चुके हैं अब उन्हें दफ़नाने का वक़्त नहीं !
सारे नाम तो मोबाइल में है और दोस्तीके लिए वक़्त नहीं !
अरे गैरों की क्या बात करे जब अपनों केलिए ही वक़्त नहीं !
आँखों में नींद बड़ी है पर सोने का भी वक्त नहीं !
ये दिल है गमों से भरा हुआ और रोने का भी वक़्त नहीं !
हाँ पैसों की दौड़ में ऐसे दौड़े की थकने का भी वक़्त नहीं !
पराये एहसान की क्या कद्र करे जब अपने सपनों के लिए ही वक़्त नहीं !
अब तू ही बता ऐ ज़िंदगी इस ज़िंदगी का क्या होगा !
कि हर पल मरने वालों को जीने के लिए भी वक़्त नहीं !

एवी॰सिंह पाटोदा

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned