कविता: रिश्ते

रिश्ते बनाये नहीं जाते
बस सिर्फ और सिर्फ निभाये जाते हैं

By: Sachin

Published: 25 Sep 2020, 04:42 PM IST

रिश्ते बनाये नहीं जाते
बस सिर्फ और सिर्फ निभाये जाते हैं
हर रिश्ते की एक अलग इम्तिहान
होती है
जिन्दा रखने के लिए उसकी एक
पहचान होती है
इन्सान जिन्दगी जीने के लिए
रिश्ते बनाता है
पर रिश्ते निभाते हुए मर जाता है
रिश्ते वहीं की वहीं रह जाते हैं
इन्सान आते हैं और चले जाते हैं
कठिन है रिश्तों की पहचान करना
पहचान है तो सरल है निभाना
रिश्तों को "मैं" नहीं पहचानता
"" मैं "" ही तो हूँ जो नहीं जानता
जिन रिश्तों के फूल घर आंगन
में खिलते थे
आज वो "लतायें" पूर्वाई* सूख गई
रहे सहे पत्तों को भी
"पिछवाई"उड़ा के ले गयी
रह गये बेचारे सूखे डंठल
कोई उनको छूता नहीं है
किसी ने नीचे गिर कर रगडन से
स्वयं को मिटा लिया
तो किसी ने स्वयं को बना लिया बंडल
कहते हैं कि रिश्ते मिट गये
सिर्फ सिमट कर रह गये
पर रिश्तों की जड़ें आज भी हैं
वो सूखी नहीं है
हरि हैं पर हरी नहीं हैं
रिश्तों को जिन्दा रखने के लिए
निभाना होगा
उन जड़ों को संस्कारी पानी से
सींचना होगा
और इसके लिए हमको
चन्दा मामा की कहानी सुनने
दादा दादी के पास बैठना ही होगा

हीरालाल कंचनपुर,अध्यापक

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned