राजस्थान में यहां पर 39 युवाओं ने ठुकरा दी सरकारी नौकरी, ये है वजह

राजस्थान में यहां पर 39 युवाओं ने ठुकरा दी सरकारी नौकरी, ये है वजह

vishwanath saini | Publish: Sep, 10 2018 12:24:58 PM (IST) Sikar, Rajasthan, India

www.patrika.com/sikar-news/

सीकर. राजस्थान में लाखों युवा बेरोजगार हैं। नौकरी के लिए दर-दर भटक रहे हैं। कोई महंगे संस्थानों में कोचिंग कर रहा है, तो कोई आठ से दस घंटे नियमित पढ़ाई कर रहा है वहीं राजस्थान के सीकर में अनेक युवा ऐसे भी हैं जो चयन होने के बावजूद नौकरी के लिए नहीं आ रहे। बात कर रहे हैं तृतीय श्रेणी शिक्षक भर्ती परीक्षा की। भर्ती के लिए माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की ओर से रीट परीक्षा का आयोजन किया गया था।

इसके तहत लेवल प्रथम व लेवल द्वितीय के शिक्षकों की भर्ती की जा रही है। प्राथमिक शिक्षा निदेशालय ने सफल विद्यार्थियों के जिले भी आवंटित कर दिए। अब राज्य के अनेक जिला परिषदों के माध्यम से पहले रिपोर्टिंग की जा रही है। इसके बाद काउंसलिंग की प्रक्रिया शुरू हो गई। कई जगह यह प्रक्रिया शुरू भी हो गई। लेकिन अनेक विद्यार्थी सफल होने के बावजूद इस प्रक्रिया में शामिल नहीं हो रहे।

सीकर में लेवल प्रथम के लिए 17 शिक्षकों को काउंसलिंग के लिए बुलाया गया था। इनमें से 16 शिक्षक तो आ गए। इनको विद्यालय भी आवंटित कर दिए गए हैं, जल्द ही कार्यभार भी संभाल लेंगे। एक शिक्षक ना काउंसलिंग की तिथि को आया ना ही बाद में। इसी प्रकार लेवल दो के लिए सीकर जिला परिषद ने 593 अभ्यर्थियों को बुलाया था, लेकिन इनमें से 39 अभ्यर्थी नहीं आए।



यह हो सकते हैं कारण


जो चयनित हुए हैं उनमें से अनेक अभ्यर्थी ऐसे हैं पहले से शिक्षक की नौकरी कर रहे हैं। लेकिन कई दूसरे जिलों में पदस्थापित हैं। उन्होंने गृह जिले में आने के लिए परीक्षा दी थी, वे उत्तीर्ण तो हो गए, लेकिन मेरिट कम रहने के कारण गृह जिला या पड़ोसी जिला नहीं मिला। इस कारण वे नियुक्ति नहीं चाहते। क्योंकि उनकी सीनियरटी खत्म होने का डर है। इसके अलावा कई अभ्यर्थियों ने गलत तरीके से डिग्री ले ली या गलत कागजात लगा दिए, अब पुलिस कार्रवाई के डर से वे आना नहीं चाह रहे। क्योंकि लेवल प्रथम में तीस से अधिक अभ्यर्थियों ने फर्जी दस्तावेज लगाकर नौकरी लेने का प्रयास किया था, बाद में उनके खिलाफ एफ आईआर दर्ज करवाने के आदेश हो गए थे।


तीसरा कारण यह है कि जिनका लेवल दो में चयन हुआ है उनमें अनेक ऐसे भी है जिनका लेवल प्रथम में भी चयन हो चुका। लेवल प्रथम में उनको गृह या पड़ौसी जिला मिल गया जबकि लेवल दो में दूर का जिला मिला है, इस कारण भी लेवल दो की नियुक्ति प्रक्रिया में शामिल नहीं हो रहे।

आगे यह होगा
सभी प्रक्रिया पूरी होने के बाद 28 सितम्बर को सभी नवचयनितों के पदस्थापन आदेश जारी कर दिए जाएंगे। निदेशालय के अनुसार काउंसलिंग प्रक्रिया शुरू करने से पहले शाला दर्शन पोर्टल अपडेट करना होगा। जिला परिषद सीईओ की ओर से वरीयता सूची से अभ्यर्थियों के मूल दस्तावेजों का सत्यापन कर पदस्थापन के लिए अंतिम सूचना विषयवार 12 से 16 सितम्बर तक तैयार करनी होगी। इसी तरह सीईओ को नवचयनितों के पदस्थापन के लिए अभ्यर्थियों की अंतिम सूची सम्बन्धित जिला शिक्षा अधिकारी को विषयवार निर्धारित तिथियों को उपलब्ध करवानी होगी। विषयो की ये तिथियां 13 से 18 सितम्बर तक है।

यह होगा असर
जो अभ्यर्थी नियुक्ति के लिए नहीं आ रहे उनकी जगह अब प्रतीक्षा सूची जारी की जाएगी। क्योंकि नौकरी नहीं लेने आने वालों की संख्या ज्यादा है। इस कारण प्रतीक्षा सूची में कटऑफ ज्यादा गिरने की संभावना है। जिनका अभी तक नौकरी में नंबर नहीं आया, उनको नौकरी मिल सकती है। दूसरा कुछ अभ्यर्थियों को नुकसान भी होगा। जिले का आवंटन मेरिट के आधार पर होता है। अब कई अभ्यर्थियों को गृह जिले की जगह दूसरा जिला मिल गया, उनको दूरी का नुकसान होगा।


सीकर जिला परिषद


विषय बुलाया अनुपस्थित
अंग्रेजी 181 7
विज्ञान/गणित 160 2
एसएसटी 117 19
हिन्दी 117 2
वि. शिक्षक 18 9


लेवल प्रथम में 17 को बुलाया था, लेकिन एक नहीं आया। इसी प्रकार लेवल दो में करीब 39 अभ्यर्थी अनुपस्थित रहे। जो उपस्थित हुए हैं उनको शीघ्र ही काउंसलिंग के माध्यम से स्कूलों का आवंटन कर दिया जाएगा।
विक्रम सिंह शेखावत, अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी सीकर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned