VIDEO : मरकर इसलिए 4 घंटे में वापस जिंदा हुआ यह शख्स, फिर 5 दिन बाद छोड़ी दुनिया

Vishwanath Saini | Publish: Nov, 10 2018 01:12:59 PM (IST) | Updated: Nov, 10 2018 03:44:45 PM (IST) Sikar, Sikar, Rajasthan, India

दिवाली से पहले राजस्थान के झुंझुनूं की खेतड़ी उपखण्ड की ग्राम पंचायत गाडराटा का एक वृद्ध मौत के 4 घंटे वापस जिंदा हो गया था।

सीकर.

दिवाली से पहले राजस्थान के झुंझुनूं की खेतड़ी उपखण्ड की ग्राम पंचायत गाडराटा का एक वृद्ध मौत के 4 घंटे वापस जिंदा हो गया था। यह अकल्पनीय घटना देशभर में सुर्खियों में रही। 95 साल का यह वृद्ध अब फिर से चर्चा में है। दरअसल, उस घटना के पांच दिन बाद वृद्ध की मौत हो गई है। इस बार अंतिम संस्कार भी कर दिया गया है।

 

Rajasthan Election 2018 : टिकट बंटने से पहले BJP नेता राजेन्द्र राठौड़ का बड़ा ऐलान, ‘मैं तो यहां से लड़ूंगा चुनाव...’

 


यह था मामला
-खेतड़ी तहसील के की गाडराटा ग्राम पंचायत की ढाणी भगतावाली निवासी 95 वर्षीय बुधराम गुर्जर पिछले कई दिन से बीमार चल रहे थे।
-शनिवार दोपहर को बुधराम की अचानक तबीयत खराब हुई। परिजनों ने उन्हें चिकित्सक को दिखाया। उन्होंने बुधराम को मृत घोषित कर दिया था।
-इस पर बुधराम के चार बेटों ने परिवार व रिश्तेदारी में सूचना देकर उनके अंतिम संस्कार की तैयारियां शुरू कर दी।
-चार बेटों ने पिता की मौत पर सिर मुंडवा लिया और उनकी बैकुंठी भी सजा ली थी।
-शव को अर्थी पर लेटाना से पहले स्नान की क्रिया सम्पन्न करवाई जा रही थी तब उसमें हलचल हुई।
-वृद्ध बुधराम की सांसे लौट आई और मौत के महज चार घंटे बाद ही वह वापस जिंदा हो गया।
-मरकर वापस जिंदा होने के बाद वह परिजनों से बात करने लगा और देखते ही देखते खड़ा हो गया।
-यह घटना पूरे क्षेत्र में चर्चा का विषय रही। देशभर के कई अखबार और चैनलों पर सुर्खियां बनी।
-अब दिवाली की रात को एक बार फिर से बुधराम ने दुनिया छोड़ दी और इस बार मरकर वापस जिंदा नहीं हुआ।
-दूसरे दिन गुरुवार को गाजे-बाजे से उनकी शवयात्रा निकाली गई और अंतिम संस्कार किया गया।

Jhunjhunu Man

परिजनों को दिवाली पूजन करवाया


बुधराम के बेटे महिपाल ने बताया कि बुधवार को दिवाली के दिन उनके पिता ने स्नान किया। सुबह दही पिया तथा चार बजे फिर से दही लिया। दिनभर परिजनों से खूब बातें की। उसके बाद रात्रि में पूरे परिवार को दिवाली पूजन करवाया और लगभग 9 बजे अचानक उनकी मौत हो गई।

 

इस पर सब जगह यही चर्चा रही कि वृद्ध बुधराम परिजनों के साथ दिवाली पूजन करने के लिए मरकर वापस जिंदा हुआ था, हालांकि यह सिर्फ एक इत्तेफाक ही था। अन्तिम संस्कार में पूर्व विधायक हजारीलाल गुर्जर, सरपंच गाडराटा सुनीता गुर्जर, राजेश गुर्जर समेत कई गांवों के लोग शामिल हुए।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned