राहत: लघु बचत धारकों को मिलेगा पहले की तरह ब्याज

जिले के 10 लाख ग्राहकों को होगा फायदा

वित्त मंत्रालय ने पहले की ब्याज दर को यथावत रखने के आदेश किए जारी

By: Puran

Updated: 06 Apr 2021, 10:08 PM IST

सीकर। लघु बचत धारकों को केन्द्र सरकार की विभिन्न लघु बचत योजनाओं में अब पूर्व की तरह ब्याज दिया जाएगा। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने लघु बचत योजनाओं के लिए अप्रैल से जून 2021 तिमाही मे मिलने वाले ब्याज दर में अधिकतम 1.1 प्रतिशत तक की कमी है। एेसे में अब लघु बचत योजना पीपीएफ, एनएससी (नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट), किसान विकास पत्र व सुकन्या समृद्धि सहित किसी भी स्कीम की ब्याज दरों में कटौती नहीं की गई है। जिससे बचत योजना में निवेश करने वाले सीकर जिले के करीब दस लाख लोगों को पूर्व की तरह ब्याज मिलता रहेगा। खास बात यह है कि नहीं बचत के साथ इन योजना में टैक्स में छूट का प्रावधान भी है। गौरतलब है कि सभी योजनाओं पर मिलने वाले ब्याज का निर्धारण हर तिमाही में किया जाता है। नए आदेश से अल्प बचत खाते धारकों को यह लाभ जून तक मिलता रहेगा। यह ब्याज दरें अप्रैल माह से ही प्रभावी हैं।

ये है ब्याज दर प्रतिशत में

-पब्लिक प्रोविडेंट फंड - 7.10

-सीनियर सिटीजन सेविंग स्कीम - 7.40

-किसान विकास पत्र - 6.9

-सुकन्या समृद्धि स्कीम- 7.6

-नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट- 6.8

-पोस्ट ऑफिस टाइम डिपोजिट- 5.5-6.7

यूं होगा फायदा

एक व्यक्ति ने पीपीएफ मे पिछले वर्ष से 1 लाख जमा करवाए तो उसको पिछले वितवर्ष मे 7100 रुपए ब्याज के मिले लेकिन अगर इस वर्ष से कोई निवेश शुरू करता है और नए आदेश के अनुसार ब्याज मिलता तो 6400 रुपए ही ब्याज के मिलते। यथावत ब्याज दर लागू रहने से पुराने निवेशकों को बहुत लाभ होगा।

एक्सपर्ट व्यू

आरबीआई के आदेश के अनुसार बैंक तथा डाक विभाग की विभिन्न बचत योजनाओं में ग्राहकों को मिलने वाले जमा पूंजी ब्याज की दरों को यथावत रखा गया है। फिलहाल जून माह तक पुरानी ब्याज दरों के आधार पर ही जमाकर्ता को लाभ दिया जाएगा। इन योजनाओं मे निवेश करने पर ग्राहकों को नियमानुसार टैक्स मे भी रियायत मिलती है।

सुधेश पूनिया, कृषि प्रबंधक

Puran Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned