राजस्थान में अब व्हाट्स एप से होगी पढ़ाई, शिक्षकों व अभिभावकों के बनेंगे ग्रुप

सीकर. कोरोना वायरस (Corona Virus) के कहर के बीच देशभर में जारी लॉकडाउन (Lockdown) के बीच राजस्थान में सरकार (Rajasthan Government) ने विद्यार्थियों को घर बैठे सोशल मीडिया (Social Media) से पढ़ाने की तैयारी कर ली है।

By: Sachin

Updated: 09 Apr 2020, 10:24 AM IST

सीकर. कोरोना वायरस (Corona Virus) के कहर के बीच देशभर में जारी लॉकडाउन (Lockdown) के बीच राजस्थान में सरकार (Rajasthan Government) ने विद्यार्थियों को घर बैठे सोशल मीडिया (Social Media) से पढ़ाने की तैयारी कर ली है। विद्यार्थियों को उनके कक्षा स्तर और पाठ्यक्रम के अनुसार सोशल मीडिया के माध्यम से पाठ्य सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी। इसके लिए व्हाट्सएप (Whatsapp) का सहारा लिया जाएगा। राज्य परियोजना निदेशक अभिषेक भगोतिया ने मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी को इस संबंध में निर्देश जारी किए हैं। जिले के सभी पीईईओ व शहरी क्षेत्र में पाठ्यपुस्तक नोडल संस्था प्रधान अपने परिक्षेत्र में अधीनस्थ शिक्षकों और अभिभावकों के अलग-अलग दो व्हाट्स एप ग्रुप बनाएंगे। साथ ही अपने सीबीइओ से निरंतर जुड़े रहकर राज्य स्तर से प्रसारित ई-कंटेंट अभिभावक के माध्यम से प्रत्येक विद्यार्थी तक पहुंचाएंगे। अधिकारियों का कहना है कि गांव-ढाणियों में रहने वाले विद्यार्थियों की स्थिति को देखते हुए ही पाठ्यसामग्री तैयार की गई हैं। इससे विद्यार्थियों को पढऩे में कोई परेशानी नही होगी। इसके अलावा भी अगर किसी विद्यार्थी को कोई परेशानी है, तो वो संबंधित शिक्षक से संपर्क कर सकते हैं। इस कार्यक्रम के लिए एडीपीसी कार्यालय में आईसीटी प्रभारी एपीसी एवं ब्लॉक स्तर पर एसीबीओ-प्रथम को प्रभारी बनाया जाएगा। व्हाट्सएप ग्रुप बनाने की प्रक्रिया नौ अप्रैल तक पूरी करना अनिवार्य है।

 

तैयारी कर ली गई है


इस योजना का मकसद लॉक डाउन के दौरान होने वाली परेशानी को दूर करना व छात्रों की पढ़ाई बाधित न हो,इसके लिए ये किया जा रहा है। इसकी पूरी तैयारियां कर ली गई है। इसके सकारात्मक परिणाम आने की उम्मीद है।

सुरेंद्र ङ्क्षसह गौड़, मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी सीकर

 

विद्यार्थी घरों में रहकर पढ़ाई कर सकेंगे


ई-कंटेंट में पाठ्यक्रम सामग्री शाला दर्पण पर डालकर, प्रत्येक स्कूल में कक्षावार वाट्सएप ग्रुप बनाकर विद्यार्थियों तक पहुचाना चाहिए। सरल, रोचक और ज्ञानवर्धक पाठ्यक्रम तैयार कर विद्यार्थियों तक पहुंचाने से उनका ज्ञान भी बढ़ेगा और वो घर पर भी रूकेंगे।
उपेंद्र शर्मा, प्रदेश महामंत्री, राजस्थान शिक्षक संघ (शेखावत)

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned